scorecardresearch

लगातार फिल्मों की असफलता से सचेत हुए निर्माता और कलाकार

पिछले दो सालों में खासकर हिंदी फिल्म उद्योग में फिल्मों की लगातार असफलता ने फिल्मकारों को चिंतित किया है।

आरती सक्सेना

पिछले छह महीनों में एक के बाद एक बड़े बजट की फिल्मों की असफलता ने बालीवुड को हिला के रख दिया है। एक समय वह था, जब फ्लाप और न चलने वाली फिल्में भी चल जाती थी और सिर्फ कलाकार और निर्देशक का नाम ही फिल्म चलने के लिए काफी होता था। लेकिन पिछले दो सालों में खासकर हिंदी फिल्म उद्योग में फिल्मों की लगातार असफलता से फिल्मकारों को चिंतित किया है। नशीले पदार्थ के मामलों में कुछ बड़े कलाकारों का नाम हो या फिर वे फिल्में जिन पर निर्माताओं ने करोड़ों रुपए लगाए, सालों में फिल्म बनार्इं और जब उनके रिलीज होने का वक्त आया तो पूर्णबंदी तक उन्हें ढेर सारी मुसीबतों का सामना करना पड़ा। इसके बाद जब फिल्में रिलीज हुईं तो एक के बाद एक ज्यादातर फिल्में असफल हुईं। चाहे वह धाकड़ हो, सम्राट हो या फिर हीरोपंती- 2 हों। एक नजर…

जो निर्माता दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर फिल्म बनाते हैं, उनकी फिल्में ज्यादातर सफल होती हैं- जैसे करण जौहर और रोहित शेट्टी ज्यादातर ऐसी फिल्में बनाते हैं, जो दर्शकों की पसंद पर खरी उतरें। रोहित शेट्टी जहां एक्शन और कामेडी को तवज्जो देते हैं, वही करण जौहर इमोशनल रोमांटिक एंटरटेनिंग फिल्म बनाना पसंद करते हैं, जिसके चलते करण जौहर अपनी फिल्मों को लेकर चर्चा में रहते हैं।

करण जौहर का मानना है कि वो ऐसी फिल्में ही बनाना पसंद करते हैं जो दर्शकों के जीवन से प्रभावित हों, फिर वे लव स्टोरी भी हो सकती हैं भावनात्मक कहानी पर हो सकती है, लेकिन उनकी कोशिश यही रहती है कि वह ऐसी ही नए विषय पर फिल्में बनाएं जो दर्शकों के की उम्मीदों पर खरी उतरें. रोहित शेट्टी के अनुसार उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में कई साल हो गए हैं और इस दौरान उन्होंने कई उतार-चढ़ाव भी देखें है। वह कहते हैं कि मैं अपनी हर फिल्म में कुछ ना कुछ नया देने की कोशिश करता हूं, लेकिन इस बात का ध्यान रखता हूं कि फिल्म दर्शकों को अपील करें और फिल्म में एक्शन और मनोरंजन के साथ-साथ एक संदेश भी हो।

अपनी फिल्मों की असफलता के बाद कलाकारों ने लिए कड़े निर्णय…

करिअर में हिट और फ्लाप का सिलसिला जारी रहता है। वहीं पिछले कुछ सालों से करोना और पूर्णबंदी के चलते बड़े कलाकार भी अपनी फिल्मों की असफलता से विचलित होने लगे हैं। इस संबंध में अक्षय कुमार का मानना है कि फिल्म उनकी हो या किसी और की उसका चलना बहुत जरूरी है, क्योंकि अगर फिल्म चलेगी तो फिल्म उद्योग आगे बढ़ेगा, इंडस्ट्री में पैसा आएगा। लिहाजा हालिया रिलीज फिल्म सम्राट पृथ्वीराज चौहान के बाद अक्षय कुमार अपनी फिल्मों की कहानियों को लेकर और ज्यादा सचेत हो गए हैं। अजय देवगन का मानना है की फिल्म निर्माण के दौरान कई सारी सावधानियां बरतना जरूरी हो गया है। जैसे कि अजय देवगन अपनी होम प्रोडक्शन फिल्म के निर्माण के दौरान कई सारी बातें गुप्त रखना
चाहते हैं।

फिल्म की कहानी से लेकर प्रोडक्शन तक सभी बातों को गुप्त रखा जाएगा इस बात का उनकी टीम को खासतौर पर ध्यान रखना है। हालांकि अजय देवगन की होम प्रोडक्शन फिल्म का बजट 400 करोड़ के करीब है और यह उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है इसलिए अजय देवगन फिल्म बनाने को लेकर कोई समझौता नहीं करेंगे, लेकिन फिल्म की कहानी और फिल्म निर्माण को गुप्त रखा जाएगा, ताकि उनकी होम प्रोडक्शन फिल्म का कोई प्रचार न हो, जिसका उनकी फिल्म पर बुरा असर आए। वहीं सलमान खान अपनी फिल्मों के बजट को लेकर सचेत हो गए हैं। सूत्रों के मुताबिक सलमान खान ने अपनी होम प्रोडक्शन फिल्मों के बजट को सीमित करना शुरू कर दिया है। लिहाजा आने वाली फिल्मों को लेकर सलमान हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं, जो फिल्म को सफल बना सकें। वहीं दूसरी ओर कांस फेस्टिवल में अपनी फिल्म राकेट्री द नोम्बी के जरिए वाह वाही पाने वाले आर माधवन का मानना है कि फिल्म अगर अच्छी बनेगी, तो जरूर चलेगी।

लगातार फ्लाप के बावजूद कई बड़े बजट फिल्में रिलीज के लिए तैयार…

भले ही फिल्म उद्योग आजकल बुरे दौर से गुजर रहा है और महामारी, फ्लाप फिल्मों के बावजूद बालीवुड के निर्माताओं का जोश बरकरार है और कई बड़े बजट की मल्टीस्टारर फिल्में रिलीज के लिए तैयार हैं। बस इतना ही है कि बालीवुड निर्माता अपनी फिल्मों की रिलीज बुरे वक्त को देखते हुए आगे बढ़ा रहे हैं। उनकी कोशिश है बिग बजट फिल्में इस साल रिलीज ना होकर 2023 में रिलीज हों, ताकि जो बुरा वक्त फिल्मों के रिलीज को लेकर चल रहा है, वह टल जाए।

इसी के चलते शाहरुख खान की पठान, सलमान खान की टाइगर- 3 और कई अन्य फिल्में 2023 में रिलीज होंगी। कहना गलत ना होगा इस समय फिल्म उद्योग में निर्माताओं के करोड़ों रुपए लगे हुए हैं। जैसे कि रितिक रोशन की फाइटर 250 करोड़, आदि पुरुष 300 करोड़, टाइगर- 3 साढ़े तीन सौ करोड़, पठान 280 करोड़, लाल सिंह चड्ढा 180 करोड़ आदि कई बिग बजट फिल्में हैं, जो फिल्म उद्योग का और कलाकारों, निर्माताओं का भविष्य तय करेंगी।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट