ताज़ा खबर
 

PM मोदी के ‘आंदोलनजीवी’ वाले बयान पर बॉलीवुड एक्टर का तंज़- झूठों को हर सच से लगता है डर; इसीलिये…

पीएम मोदी के 'आंदोलनजीवी' शब्द के इस्तेमाल के बाद से कई लोग लगातार उन पर कटाक्ष कर रहे हैं। बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह ने भी पीएम मोदी की इस बात पर जवाब दिया...

pm modiपीएम मोदी ने आज राज्यसभा को संबोधित किया। फोटो-ANI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा में कहा कि देश में एक नई जमात का जन्म हुआ है, जिसका नाम है ‘आंदोलनजीवी’। ये लोग खुद आंदोलन नहीं चला सकते हैं, लेकिन किसी का आंदोलन चल रहा हो तो वहां पहुंच जाते हैं। ये आंदोलनजीवी ही परजीवी हैं, जो हर जगह मिलते हैं। पीएम मोदी के ‘आंदोलनजीवी’ शब्द के इस्तेमाल पर सियासी चर्चा तेज हो गई है। इसी बीच बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह ने भी पीएम मोदी के इस बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

सुशांत सिंह ने ट्वीट कर लिखा- आंदोलन पे कोई जीवित नहीं रहता है, हक़ से जीवित रहने के लिए आंदोलन होते हैं। अतः ‘आंदोलनजीवी’ शब्द ही झूठा है। और झूठों को हर सच से डर लगता है, इसीलिए वो ‘आंदोलनाक्रांत’ रहते हैं। हर आंदोलन को झूठा साबित करते हैं। हर आंदोलन देशद्रोह।’ सुशांत सिंह की इस पोस्ट पर तमाम यूजर्स ने भी प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी।

अनंत नाम के यूजर ने इस पोस्ट पर लिखा,- साहब ने सांस्कृतिक इतिहास पढ़ा होता तो ज्ञात होता, इस देश में आंदोलन की रीत बहुत पुरानी है। भक्ति आंदोलन लगभग 900 साल चला। अनेक महापुरुषों ने योगदान दिया। कबीरदास, संत रविदास, गुरु नानक देव आदि ने सभी प्रकार के जाति भेद और धार्मिक शत्रुता तथा रीति रिवाजों का विरोध किया।

मोहित कुमार नाम के शख्स ने लिखा- सहमत, लोकतंत्र जब राजतंत्र की ओर बढ़ जाए तो सत्ता पर काबिज लोगों को जनता द्वारा यह याद दिलाने के लिए कि आप हमारे ही सेवक हैं और अपने हक़ लेने के लिए आंदोलन किया जाता है। लेकिन जब लोकतंत्र के सत्तारूढ़ दल को बहुमत का घमंड हो जाता है तो हक़ लेने वालों का किस तरह मजाक उड़ाया जाता है।’ एक ने कहा- आज हमने लोकतंत्र के मंदिर संसद में बेशर्म होकर ठहाके लगाते देख लिया… खैर, जिनका इतिहास ही माफी मांगने का हो उनसे और उम्मीद की ही नहीं जा सकती।

अरूषा नाम की यूजर ने लिखा- डरपोक को लगता है, उसके हंसने से उसका डर किसी को दिखाई नहीं देगा। पर वो ये क्यों भूल जाता है कि उसकी हंसी में भी डर का स्वर सुनाई दे रहा है। ममता नाम की महिला यूजर ने लिखा- वो इससे अच्छी आंदोलन की परिभाषा दे भी क्या सकते थे ? अगर कपड़े बदलने, मालिकों की जी-हुजूरी और दलाली से समय मिला होता तो पता भी चलता कि आंदोलन का क्या मतलब होता है।

Next Stories
1 मोदी है तो मौका है..ये चीन कह रहा और ये चीन के ख़िलाफ़ तो बोल नहीं सकते- डिबेट शो में BJP प्रवक्ता पर कांग्रेस प्रवक्ता ने कसा तंज
2 इस्लामिक प्रोपेगेंडा ने देश के टुकड़े किए, अब भारत को तोड़ने की हो रही अंतरराष्ट्रीय साज़िश- अर्नब गोस्वामी के शो में बोलीं कंगना रनौत
3 ‘ये मेरा खाना चुराते हैं..’ बिग बी के बारे में बोलीं दीपिका पादुकोण, खड़े हो गए अमिताभ बच्चन के कान; बताया सारा माजरा
ये पढ़ा क्या?
X