ताज़ा खबर
 

पेगासस कांड: यशवंत सिन्हा बोले- बैलट पेपर से हों चुनाव तो बिफरे फिल्ममेकर, कहा- सठियाने के बाद इंसान ऐसी ही बातें करता है

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने पेगासस जासूसी कांड का हवाला देते हुए लिखा, 'अगर पेगासस स्मार्ट फोन में हेरफेर कर सकता है तो ईवीएम के जरिये भी ऐसा संभव है। ऐसे में हमें तुरंत बैलट पेपर की ओर रुख करना चाहिए।'

पूर्व केंद्रीय मंत्री और टीएमसी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा। (फाइल फोटो)

पेगासस स्पाइवेयर के जरिये कथित जासूसी के मामले ने तूल पकड़ लिया है। विपक्ष इस मसले पर हमलावर है। इसी बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री और अब तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा ने एक पोस्ट कर ईवीएम पर सवाल खड़े किये हैं और बैलट पेपर के जरिये चुनाव कराने की मांग की है। ट्विटर पर अपनी पोस्ट में पेगासस जासूसी कांड का हवाला देते हुए उन्होंने लिखा, ‘अगर पेगासस स्मार्ट फोन में हेरफेर कर सकता है तो ईवीएम के जरिये भी ऐसा संभव है। ऐसे में हमें तुरंत बैलट पेपर की ओर रुख करना चाहिए।’

यशवंत सिन्हा की इस पोस्ट पर फिल्ममेकर अशोक पंडित ने रिएक्ट किया। सिन्हा की पोस्ट को री-ट्वीट करते हुए उन्होंने तंज कसते हुए लिखा- ‘सठिया जाने के बाद इंसान ऐसी ही बहकी-बहकी बातें करता है।’ अशोक पंडित के इस जवाब पर ढेरों लोगों के रिएक्शन सामने आने लगे। पवन नाम के यूजर ने यशवंत सिन्हा की बात को सही ठहाराते हुए कहा- ‘सर, मिस्टर सिन्हा शायद सही ही कह रहे हैं। लगता है कि वेब इलेक्शन अब सिर्फ एक धांधली बन कर रह गया है। जरूरी नहीं कि हम ईवीएम का ही इस्तेमाल करें।’

अमर नाम के एक यूजर ने कहा- ‘हम बहुत निराश हैं इनसे, लगता है पार्टी के साथ दिमाग भी वहीं छोड़ आए।’ एक यूजर ने लिखा- इस हिसाब से तो हम सभी को अपने अपने फोन कोसों दूर फेंक देने चाहिए और लैंडलाइन पर आ जाना चाहिए।’

संजय झा नाम के यूजर ने टिप्पणी की- ‘ये और कितना गिरेंगे पता नहीं, जब वाजपेयी सरकार में थे तो ईवीएम उस समय अच्छा लगा और आज खराब। इनकी इच्छा है कि सिर्फ सत्ता चाहिए, यह किसी दल के नहीं हो सकते हैं।’

बता दें, वॉशिंगटन पोस्ट, ले मोंडे, गार्जियन समेत कई मीडिया संगठनों ने मिलकर फोन नंबरों की एक लिस्ट जारी की थी और कहा था कि इजरायल के एनएसओ ग्रुप द्वारा तैयार किये पेगासस मॉलवेयर के जरिए दुनिया के 45 देशों में जासूसी की गई।

इसमें भारत का द वायर भी शामिल है। भारत में करीब 40 पत्रकारों, सरकार के मंत्रियों, विपक्षी नेताओं आदि की कथित जासूसी का दावा किय़ा जा रहा है। उधर, भारत सरकार ने इस मामले में कहा है कि इस कथित जासूसी में उसकी कोई भूमिका नहीं है। देश को बदनाम करने के लिए ऐसे आरोप लगाए जा रहे हैं। हालांकि विपक्ष लगातार सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहा है।

Next Stories
1 क्या पेगासस-पेगासस लगा रखा है, असली पेगासस तो कांग्रेस पार्टी है- बोले संबित पात्रा तो भड़क गईं कांग्रेस प्रवक्ता; हुई तीखी बहस
2 मोदी सरकार पर बिफरे राहुल गांधी, बताया सत्य और संवेदनशीलता की कमी तो फिल्ममेकर पूछने लगे मतलब
3 चोर चोरी से जाए, हेरा फेरी से न जाए- कांग्रेस प्रवक्ता ने BJP को बताया ‘भारतीय जासूस पार्टी’ संबित पात्रा ने दिया ऐसा जवाब
ये पढ़ा क्या?
X