ताज़ा खबर
 

विदेशी मीडिया ने नहीं मोदी के काम ने खराब की भारत की इमेज- बोले रवीश कुमार

Pegasus Project को लेकर एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने नरेंद्र मोदी पर तंज किया है। उन्होंने कहा है कि विदेशी मीडिया ने नहीं बल्कि मोदी के काम ने भारत की छवि खराब की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स – पीटीआई)

पेगागस प्रोजेक्ट (Pegasus Project)के खुलासे के बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार विपक्षी नेताओं समेत अपने आलोचकों के निशाने पर आ गई है। दावा किया जा रहा है कि इजराइली स्पाइवेयर पेगासस का इस्तेमाल कर भारत के करीब 300 लोगों के फोन कथित तौर पर टैप किए गए। इसमें विपक्षी नेता, केंद्र सरकार के मंत्री, पत्रकार, सुप्रीम कोर्ट के जज आदि लोगों के फोन टैप कर उनकी जासूसी करने का कथित मामला सामने आया है। इस मसले पर कुछ अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संस्थानों ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधा है। इसी बात को लेकर एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने नरेंद्र मोदी पर तंज किया है।

मोदी सरकार और उसके समर्थक अक्सर यह आरोप लगाते हैं कि विदेशी मीडिया ने भारत की छवि को अंतरराष्ट्रीय पटल पर खराब करने का काम किया है। इसी संदर्भ में रवीश कुमार ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर लिखा कि विदेशी मीडिया ने नहीं बल्कि मोदी के काम ने भारत की छवि खराब की है। रवीश कुमार ने ब्रिटेन के जाने माने अखबार ‘द गार्डियन’ की कवर पेज को शेयर किया है। पेज पर नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगी है और पेगासस से जुड़ी खबरें हैं।

रवीश कुमार ने अपनी पोस्ट में लिखा, ‘ऐसी तस्वीरें और ख़बरें केवल छवि को ख़राब नहीं करती हैं बल्कि उस आमद की तस्दीक़ करती हैं जिसकी आहट सुनी जा रही थी। विदेश यात्राओं के दौरान संघ से जुड़े संगठनों के मार्फ़त लोगों को स्टेडियम में बुलाकर लोकप्रियता का एक माहौल रचा गया। जिसमें भारतीय ही बैठे होते थे और वहीं मोदी के लिए ताली बजाते थे। गांव-गांव में बताया गया कि दुनिया में प्रधानमंत्री मोदी का नाम हो गया है। भारत का नाम हो रहा है।’

 

 

उन्होंने आगे कहा, ‘भारत की साख दांव पर लगी है। पत्रकारों ने नहीं लगाई है। किसी की हरकत और करतूत के कारण लगी है। ये वही अख़बार हैं जिनमें मोदी के बारे में अच्छा भी छपा है तब इनमें छपने के कारण गोदी मीडिया गाता रहता था कि विदेशी मीडिया में भी मोदी की धूम। मोदी की लोकप्रियता पहुंची सात समंदर पार। आज उसी मोदी का काम भारत की शान को ख़राब कर रहा है।’

सोशल मीडिया पर पत्रकार वर्ग इस कथित जासूसी को लेकर नरेंद्र मोदी पर हमलवार है हालांकि सरकार की तरफ से यह स्पष्ट किया है कि सरकार की तरफ से किसी तरह की कोई जासूसी नहीं करवाई गई बल्कि यह भारत के खिलाफ यह एक अंतरराष्ट्रीय साजिश है।

 

पत्रकार रोहिणी सिंह, जिनका नाम भी इस पेगासस प्रोजेक्ट में आया है, उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया है, ‘कांग्रेस के टाइम भी पेट्रोल महंगा होता था, कांग्रेस के टाइम पर भी भ्रष्टाचार होते थे, कांग्रेस के टाइम भी अनैतिक गठबंधन होते थे, जोड़-तोड़ कर सरकारें बनती थी, कांग्रेस के टाइम पर भी चीफ जस्टिस राज्यसभा जाते थे की अपार सफलता के बाद ‘कांग्रेस के टाइम भी कॉल टेपिंग होती थी।’

पत्रकार अजीत अंजुम ने इस मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरते हुए ट्विटर पर लिखा, ‘मोदी राज में जासूसी कांड और खुलासे ही खुलासे.. न जज बचे न पत्रकार।’ पुण्य प्रसून बाजपेई ने भी बीजेपी आलाकमान पर निशाना साधते हुए कई ट्वीट किए हैं। अपने एक ट्वीट में वो लिखते हैं, ‘दो जासूस करें महसूस कि दुनिया बहुत खराब है।’

Next Stories
1 ‘अभी भी मामा से डरता हूं’, गोविंदा के भांजे ने कह डाली ऐसी बात; तो बेटे यशवर्धन ने भी दिया रिएक्शन
2 नसीरुद्दीन शाह को कोई सक्सेसफुल एक्टर नहीं पसंद- जब जावेद अख्तर ने कही ये बात, ये थी वजह
3 पेगासस कांड: न‍िशाने पर सरकार, सोशल मीड‍िया पर भी लोग कर रहे ताबड़तोड़ वार
आज का राशिफल
X