pakistani classic film Jago Hua Savera will not be shown in mumbai mami film festival after hardliner group protest- विरोध के बाद मामी फिल्म फेस्टिवल में नहीं दिखाई जाएगी पाकिस्तानी क्लासिक 'जागो हुआ सवेरा' - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मामी मुंबई फिल्म फेस्टिवल में नहीं दिखाई जाएगी पाकिस्तानी क्लासिक ‘जागो हुआ सवेरा’

1958 में बनी इस फिल्म की कहानी बांग्ला के प्रसिद्ध कथाकार मानिक बंदोपाध्याय की कहानी पर आधारित थी। फिल्म की पटकथा और गीत मशहूर शायर फ़ैज अहमद फ़ैज ने लिखे थे।

पाकिस्तानी फिल्म ‘जागो हुआ सवेरा’ का एक दृश्य।

मुंबई में 20 अक्टूबर से शुरू हो रहे 18वें जियो मामी मुंबई फिल्म फेस्टिवल के आयोजकों ने पाकिस्तानी क्लासिक फिल्म “जागो हुआ सवेरा” न दिखाने का फैसला किया है। आयोजकों ने ये फैसला एक स्थानीय एनजीओ ‘संघर्ष’ के विरोध के बाद ये फैसला लिया। भारत के उरी में हुए आतंकी हमले के बाद से ही बॉलीवुड में काम करने वाले पाकिस्तानी कलाकारों के खिलाफ विरोध हो रहे हैं। उरी हमले में 19 भारतीय जवान मारे गए थे। पाकिस्तानी कलाकारों के बॉलीवुड में काम करने को लेकर फिल्म समाज दो भागों में बंटा नजर आ रहा है। एनजीओ फेस्टिवल के आयोजकों पर राष्ट्रवादी भावनाओं के संग खिलवाड़ का आरोप लगाया था। एनजीओ ने पुलिस से फेस्टिवल के खिलाफ प्रदर्शन करने की इजाजत भी मांगी है.

1958 में बनी फिल्म “जागो हुआ सवेरा” के निर्देशक एजे कारदार थे।  फिल्म का निर्माण अविभाजित पाकिस्तान (जब बांग्लादेश आजाद नहीं हुआ था) में बनी थी। फिल्म को 1960 के ऑस्कर अवार्ड में सर्वेश्रेष्ठ विदेशी भाषा वर्ग श्रेणी में नामांकित किया गया था। मामी फेस्टिवल में इस फिल्म को ‘रिस्टोर्ड क्लासिक’ वर्ग में दिखाया जाना था। फिल्म की शूटिंग ढाका में हुई थी। ‘रिस्टोर्ड क्लासिक’ वर्ग का संचालन फिल्म अभिनेता आमिर खान की पत्नी किरण राव करने वाली हैं।

वीडियो: सलमान खान के शो बिग बॉस 10 के प्रीमियर की झलकियां- 

27 अक्टूबर तक चलने वाले मामी फिल्म फेस्टिवल में 54 देशों की 180 से अधिक फिल्में दिखाई जाएंगी। फिल्म फेस्टिवल के दौरान मुंबई के विभिन्न इलाकों के सिनेमाघरों में फिल्में दिखाई जाती हैं जिसके लिए दर्शकों को पहले से पंजीकरण कराना होता है। मामी फेस्टिवल में बॉलीवुड के अलावा दूसरे देशों की मशहूर सिनेहस्तियां भागीदारी करती रही हैं।

“जाओ हुआ सवेरा” में बांग्लादेश (तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान) के मछुवारों की कहानी कही गई है। फिल्म बांग्ला के प्रसिद्ध कथाकार मानिक बंदोपाध्याय की कहानी पर आधारित थी। फिल्म की पटकथा और गीत मशहूर शायर फ़ैज अहमद फ़ैज ने लिखे थे। फिल्म में मुख्य भूमिका खान अताउर रहमान और तृप्ति मित्रा ने निभायी थी। रिस्टोर किए जाने के इस फिल्म को इसी साल 69वें कान फिल्म फेस्टिवल में दिखाया गया था।

Read Also: मधुर भंडारकर के बाद शिवसेना का अनुराग कश्यप पर निशाना, कहा-पूरा देश पाक के खिलाफ तो वह अलग क्यों?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App