ताज़ा खबर
 

“पाकीजा” ऐक्ट्रेस गीता कपूर को फिल्म इंडस्ट्री से मिली मदद, अस्पताल में भर्ती करा अकेला छोड़ गया था बेटा

गीता कपूर की परेशानी को देखते हुए कई लोगों ने उनकी तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है।
गीता कपूर। (फाइल)

फिल्म “पाकीजा” में अहम भूमिका निभा चुकीं एक्ट्रेस गीता कपूर को उनका बेटा राजा कपूर अस्पताल में भर्ती कर फरार हो गया था। 21 अप्रैल को उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने के बाद गीता के बेटे राजा वापस नहीं आए और गीता अपने अस्पताल के बिल भरने की परेशानी में फंस गई थीं। मगर गीता कपूर की परेशानी को देखते हुए कई लोगों ने उनकी तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है। सीबीएफई सदस्य अशोक पंडित और फिल्म इंडस्ट्री के कई और लोगों ने मिलकर उनके अस्पतास का खर्च उठाने का जिम्मा लिया है। टाइम्स ग्रुप की खबर के मुताबिक उन्होंने कहा- “हम उनके अस्पताल के बिल चुकाते रहेंगे। उनके पूरे इलाज का खर्च हम उठाएंगे। सिर्फ इतना ही नहीं हम इस बात को भी सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें एक अच्छे ओल्ड एज होम में शिफ्ट किया जा सके जहां उनकी सही से देखभाल हो।” वहीं रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रड्यूसर रमेश तरूनी ने भी मदद का हाथ बढ़ाया है उनके अस्पताल के बल भरने का जिम्मा लिया है।

खबरों के मुताबिक गीता को एक महीने ज्यादा एसआरवी अस्पताल में हो गया है और उनका मेडिकल बिल लगभग डेढ़ लाख रुपये से ज्यादा का बन चुका है। वहीं अस्पताल प्रशासन को अब गीता के बेटे राज कपूर का इंतजार है। पुलिस राज को ट्रेस करने की कोशिश में लगी है। अस्पताल प्रशासन बिना उनके(गीता) किसी ब्लड रिलेटिव की इजाजत के बिना अस्पताल से शिफ्ट नहीं कर सकता। बता दें कि गीता फिल्म इंडस्ट्री में नामी ऐक्ट्रेस रह चुकी हैं। उन्होंने 100 से भी ज्यादा फिल्मो में काम किया है। गीता की चर्चित फिल्म पाकीज़ा और रज़िया सुल्तान थीं। उन्हें रक्तचाप की समस्या के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

रिपोर्ट्स के मुताबिक जब उनके बेटे से फीस जमा करने को कहा गया तो वह एटीएम लेकर पैसे निकालने गया और फिर वापस नहीं आया। वहीं अंग्रेजी अखबार मिड-डे से बातचीत में गीता ने कहा था- “क्योंकि मैं उसे अय्याशी के लिए पैसे नहीं देती थी इसलिए वह अक्सर मुझे पीटा करता था।” गीता ने यह भी बताया कि उनका बेटा उन्हें 4 दिन में एक बार ही खाना दिया करता था और कई बार तो कई दिनों के लिए उन्हें कमरे में बंद भी कर देता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.