ताज़ा खबर
 

पद्मावत: दिल्लीवालों ने दिखाई बेदिली, गुलजार रहे नोएडा के सिनेमाघर

Padmavati Movie: भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ पहले दिन दर्शकों को तरस गई। कई मल्टीप्लेक्स में तो हालत यह थी कि दर्शकों से ज्यादा पुलिसकर्मियों की संख्या दिखाई दी।

Padmavati Movie, Padmavat Movie News in Hindi:भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ पहले दिन दर्शकों को तरस गई। पीवीआर सहित कई सिनेमाघरों मसलन प्लाजा, ओडियन, रिवोली, डिलाइट आदि में स्थिति ऐसी थी कि गुरुवार के किसी शो के लिए टिकट खिड़की पर एक साथ 30 से 50 टिकटें मिल रही थीं। सिनेमाघरों के बाहर पुलिस-पीकेट-पीसीआर के अलावा इक्का-दुक्का लोग आते-जाते दिखे। 350 रुपए से 660 रुपए के टिकट दर पर मल्टीप्लेक्स में सभी पांच शो चले।  करणी सेना के विरोध के मद्देनजर तमाम सिनेमाघरों के बाहर पुलिस बल कड़ी मुस्तैदी में था। अलग-अलग इलाकों में संबंधित थानों के एसएचओ खुद निगरानी में जुटे रहे। ऐसी ही स्थिति दिल्ली गेट स्थित डीलाइट के अलावा नारायणा व विकासपुरी में भी दिखाई दी। सिनेमा हॉल के बाहर निरीक्षक रैंक के अधिकारी की ड्यूटी निगरानी के लिए लगाई गई थी। हर जगह अमूमन 30-40 जवानों की तैनाती थी। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि फिल्म बिना किसी बाधा के चल रही है और कहीं भी विरोध प्रदर्शन होने की कोई सूचना नहीं है।

कई मल्टीप्लेक्स में तो हालत यह थी कि दर्शकों से ज्यादा पुलिसकर्मियों की संख्या दिखाई दी। जो लोग फिल्म देखने आए उनमें से कई वैसे लोग थे जो दिल्ली घूमने आए थे। लेकिन गणतंत्र दिवस को लेकर कई स्थलों को जनता के लिए बंद किए जाने की वजह से उन्होंने ‘पद्मावत’ देखने का ही फैसला किया। फिल्म देखने पहुंचे लोगों में कुछ वैसे भी लोग थे जिन्होंने आॅनलाइन टिकट बुकिंग कराई थी। जब वे आश्वस्त हो गए कि सुरक्षा ठीकठाक है और कोई हिंसा या तोड़फोड़ नहीं हो रही, तो वे फिल्म देखने पहुंचे। परिवार सहित फिल्म देखने पहुंचने वालों की संख्या बहुत कम थी। सिनेमाघरों में फिल्म देखने से पहले दर्शकों की सघन तलाशी की जा रही थी। सिनेमाघरों के कर्मचारियों ने कहा कि सप्ताहांत में ज्यादा दर्शक आने की उम्मीद है।

नोएडा में भी रही भीड़

प्रदर्शन और विरोध की धमकी के बीच गुरुवार को नोएडा के अलावा ग्रेटर नोएडा में भी ‘पद्मावत’ प्रदर्शित हुई। हालांकि फिल्म के प्रीमियर शो बुधवार शाम से रात तक नोएडा के ज्यादातर सिनेमाघरों में दिखाए गए थे। पुलिस बंदोबस्त के बीच गुरुवार को भी नोएडा-ग्रेटर नोएडा के सिनेमाघरों के बाहर डायल 100 और दमकल की गाड़ियां भी तैनात की गर्इं थीं। पद्मावत का विरोध करने में अगुआ रहे करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष करन ठाकुर को थाना कासना पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।नोएडा के ज्यादातर सिनेमाघरों के शुरुआती शो तकरीबन हाउसफुल रहे। दर्शकों में टिकट लेने की होड़ लगी रही। जीआइपी, स्पाइस, लॉजिक्स, डीएलएफ, वेव सिनेमा आदि में फिल्म के प्रदर्शन के दौरान मॉल के बाहर पुख्ता इंतजाम किए गए। टिकट खिड़की पर सिनेमाघरों में निजी सुरक्षाकर्मियों और बाउंसरों की पूरी फौज लगा रखी थी। हालांकि ज्यादातर दर्शकों ने टिकट खिड़की के बजाए आॅनलाइन टिकट बुक कराए थे। अलबत्ता फिल्म देखने के बाद हरेक की जुबान पर एक ही सवाल था…आखिर फिल्म का विरोध क्यों हो रहा था? फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं दिखाया गया है, जो राजपूत समाज या महिलाओं के लिए गैर सम्मानीय हो। दूसरी तरफ, विरोध प्रदर्शन के कारण बेहद चर्चित हुई ‘पद्मावत’ को ज्यादातर दर्शकों ने संजय लीला भंसाली की अन्य फिल्मों के मुकाबले हल्का भी बताया।

फिल्म के विरोध में करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष करन ठाकुर के नेतृत्व में पिछले रविवार को ग्रेटर नोएडा के ओमेक्स और वेनिस समेत कई मॉल में तोड़फोड़ और आगजनी की गई थी। नोएडा ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे और डीएनडी पर पथराव करने के आरोप में पुलिस ने करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष करन ठाकुर को गिरफ्तार किया। इस मामले में 600 अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App