ताज़ा खबर
 

बंटवारे के बाद सिर्फ एक बार भारत आ पाईं थीं नूरजहां, फूट-फूटकर रो पड़ी थीं; दिलीप कुमार से बताया था पूरा किस्सा

नूरजहां 1947 में बंटवारे के वक्त अपने पति शौकत हुसैन रिजवी के साथ पाकिस्तान चली गई थीं। बंटवारे के बाद साल 1983 में पहली और आखिरी बार नूरजहां अपनी बेटियों के साथ भारत आई थीं।

बंटवारे के बाद सिर्फ एक बार भारत आ पाईं थीं नूरजहां (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

मल्लिका-ए-तरन्नुम के नाम के नाम से मशहूर नूरजहां ने अपनी गायकी और एक्टिंग से भारत और पाकिस्तान में लोगों का दिल जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। नूरजहां को दक्षिण एशिया का सबसे प्रभावशाली सिंगर माना जाता था। हिंदुस्तानी क्लासिकल संगीत के साथ-साथ दूसरी विभाओं पर भी उनकी अच्छी पकड़ थी। यूं तो भारत में रहते हुए उन्होंने कई फिल्में कीं, लेकिन 1947 में बंटवारे के वक्त वह अपने पति शौकत हुसैन रिजवी के साथ पाकिस्तान चली गई थीं। बंटवारे के बाद नूरजहां साल 1983 में पहली और आखिरी बार अपनी बेटियों के साथ भारत आई थीं।

नूरजहां जब भारत आई थीं, तब दूरदर्शन मुंबई ने उनके इंटरव्यू को रिकॉर्ड किया था जिसमें वह दिलीप कुमार से बातचीत करती हुई नजर आई थीं। उनके इस इंटरव्यू का हाल ही में प्रसार भारती अभिलेखागार की ओर से संपादित अंश जारी किया गया है। दिलीप कुमार से बातचीत के दौरान वह बंटवारे के दिनों को याद करते हुए भावुक हो गई थीं।

नूरजहां ने कहा था, “उस वक्त कैसा नफ्सा-नफ्सी का आलम था। बसे हुए घर को तो कोई भी छोड़कर नहीं जाना चाहता है। लेकिन मेरे मियां गए तो मैं भी चली गई। अब यहां मुझे आने की दावत मिली तो मैंने कबूल की और मैं आ गई। लेकिन इस घड़ी का इंतजार मैंने 35 सालों तक किया है।”

नूरजहां ने इंटरव्यू में आगे बताया था कि मैं दुआ मांगती थी कि या अल्लाह एक बार मैं जिंदगी में अपने पुराने दोस्तों और भाई-बहनों से मिलूं। नूरजहां ने बताया था कि भारत आने के बाद जैसे ही वह कार से उतरीं, उन्होंने रोना शुरू कर दिया था। नूरजहां ने इंटरव्यू में एक किस्सा साझा करते हुए कहा कि जैसे ही लोगों को पता चला कि मैं आई हूं, लोग मुझसे मिलने के लिए आ गए।

नूरजहां ने अपनी पुरानी सहेली की बात बताते हुए कहा, “मेरे हमसाए, जो यह सुनते ही बाहर निकल आए कि नूरजहां आई है। एक हिंदू लड़की, जो हमारे साथ रहती थी, वह मेरे गले लगकर इतना रोई मानो कोई सगी बहन रोती है। उनकी बच्ची भी मेरे गले लगकर ऐसे रोई कि लोग पूछने लगे कि आपने इतना प्यार दिया इन लोगों को जो आज भी आप इन्हें याद हैं।”

नूरजहां ने बताया था कि मैं उमर पार्क में गई और मैंने देखा कि मेरे घर की जो सेटिंग थी, वह बिल्कुल पहले की तरह ही थी। बता दें कि नूरजहां ने फिल्म ‘जुगनू’ के जरिए दिलीप कुमार के साथ भी काम किया था। 1947 में रिलीज हुई यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर मेजर हिट साबित हुई थी।

Next Stories
1 Pinch Season 2: ‘जनता का भगवान मत बनो’ कमेंट का जवाब देने अरबाज के शो पर पहुंचे सलमान, अब लगेगी ट्रोल्स की क्लास
2 सुनील शेट्टी की एक शरारत से बुरी तरह डर गई थीं करिश्मा कपूर, लगी थीं रोने; पुलिस बुलाने के लिए भी हो गई थीं तैयार
3 Video: बीच पर इन 3 हसीनाओं संग निक्की तंबोली लड़कों को दे रही थीं रेटिंग्स, दिव्यांका त्रिपाठी ने दिया करारा जवाब!
ये पढ़ा क्या?
X