ताज़ा खबर
 

आॅस्कर के लिए भेजा गया तंजदार न्यूटन का नाम

देशभर में शुक्रवार को ही व्यावसायिक रूप से रिलीज हुई अमित मसूरकर द्वारा निर्देशित यह दूसरी फिल्म है।

Author नई दिल्ली | September 23, 2017 06:17 am

भारतीय फिल्म संघ (एफएफआइ) ने शुक्रवार को घोषणा की कि लोकतंत्र की खामियों पर आधारित व्यंग्यात्मक फिल्म ‘न्यूटन’ को अगले वर्ष 90वें अकादमी पुरस्कारों की विदेशी भाषा श्रेणी में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि के तौर पर चुना गया है। देशभर में शुक्रवार को ही व्यावसायिक रूप से रिलीज हुई अमित मसूरकर द्वारा निर्देशित यह दूसरी फिल्म है। फिल्म में राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी, रघुबीर यादव, अंजलि पाटील और संजय मिश्रा ने भूमिका निभाई है।
तेलुगु निर्माता सीवी रेड्डी की अध्यक्षता वाली एफएफआइ की चयन समिति ने सर्वसम्मति से इसका चयन किया। एफएफआइ महासचिव सुप्रण सेन ने बताया, आॅस्कर के लिए भारत की आधिकारिक प्रविष्टि के तौर पर ‘न्यूटन’ को चुना गया है। इस साल की 26 प्रविष्टियों में से इस फिल्म को सर्वसम्मति से चुना गया।’ निर्देशक मसूरकर ने कहा कि यह हमारी टीम के लिए दोहरा जश्न है। निर्देशक ने कहा, हम वाकई में बहुत खुश हैं। फिल्म के शुक्रवार को रिलीज होने की हमारी खुशी दोगुनी हो गई है। हमें उम्मीद है कि फिल्म देखने के लिए लोग अब सिनेमा हॉल का रुख करेंगे।’ अभिनेता राजकुमार राव ने कहा कि आॅस्कर के लिए इस फिल्म के चयन का फैसला ‘सोने पे सुहागा’ है। अभिनेता ने कहा, हमें पहले से ही इसे लेकर जबरदस्त प्रतिक्रिया मिल रही है। फिल्म को आगे तक ले जाने के लिए हम पूरी ताकत झोंक देंगे।

फिल्म की कहानी ईमानदार चुनाव अधिकारी के इर्द-गिर्द घूमती है जो छत्तीसगढ़ के नक्सलवाद पीड़ित इलाके के गांव में मुक्त व निष्पक्ष चुनाव आयोजित करने का प्रयास करता है। फिल्म में सैन्य अधिकारी की भूमिका निभाने वाले त्रिपाठी भी इस चयन से काफी खुश हैं। उन्होंने कहा, अच्छा काम हमेशा चमकने का रास्ता तलाश ही लेता है। मैं खुश हूं कि हमारी प्रतिभा को आखिरकार पहचाना गया। यह वास्तव में हमारे देश में स्वतंत्र सिनेमा की जीत है। दृश्यम फिल्मस द्वारा निर्मित और इरोस एंटरटेनमेंट द्वारा वितरित यह फिल्म शुक्रवार को सिनेमाघरों पर रिलीज हुई।

निर्माता मनीष मुंद्रा ने कहा कि आॅस्कर से बड़ा कोई सम्मान नहीं है। उन्होंने बयान में कहा, देशभर में न्यूटन के रिलीज होने के दिन आज इसकी घोषणा की गई। सर्वोत्तम विदेशी फिल्म श्रेणी में अंतिम पांच में जगह बनाने वाली अंतिम भारतीय फिल्म आशुतोष गोविरकर की वर्ष 2001 में आई ‘लगान’ थी। इसके अलावा ‘मदर इंडिया’ (1958) और ‘सलाम बांबे’ (1989) शीर्ष पांच में जगह बनाने वाली अन्य दो भारतीय फिल्में बाकी पेज 8 पर उङ्मल्ल३्र४ी ३ङ्म स्रँी 8
हैं। तमिल फिल्म ‘विसारनाई’ को पिछले वर्ष आधिकारिक रूप से आॅस्कर के लिए भेजा गया था।
मसूरकर की इस फिल्म को आॅस्कर के लिए एंजेलिना जोली की कंबोडियाई वार ड्रामा ‘फर्स्ट दे किल्ड माई फादर’, पाकिस्तान की ‘सावन’, स्वीडन की ‘द स्क्वायर’, जर्मनी की ‘इन द फेड’ और चिली की ‘ए फंटास्टिक वूमैन’ से प्रतियोगिता का सामना करना होगा। 90वां अकेडेमी अवॉर्ड्स लॉस एंजिलिस में चार मार्च, 2018 को आयोजित होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App