किसे मुस्लिम काल कह रहे हैं? पैनलिस्ट के बयान पर जम्मू कश्मीर का ज़िक्र कर टोकने लगे अमिश देवगन

लाइव डिबेट में अमिश देवगन ने तस्लीम रहमानी की कही बात पर उन्हें टोकते हुए सवाल करना शुरू कर दिया।

News 18 India, Amish Devgan, Amish Devgan, अमिश देवगन
MPCI के अध्यक्ष तस्लीम रहमानी (फोटो सोर्स- अमिश देवगन ट्विटर वीडियो)

न्यूज 18 इंडिया के डिबेट शो में अमिश देवगन के सामने पैनल पर MPCI के अध्यक्ष तस्लीम रहमानी बैठे थे। इस बीच तस्लीम रहमानी और अमिश देवगन के बीच तीखी बहस छिड़ गई। अमिश देवगन ने रहमानी से पूछा -‘तस्लीम रहमानी जहां तक मेरा ज्ञान है, आप तो इस काम के बड़े जानकार हैं। आपको पता होगा, आपने पढ़ा होगा, कोई ऐसा मुल्क बताइए दुनिया का जहां 72 फिरके पाए जाते हैं। वो हिंदुस्तान हैं, आपको दिल में पता है क्योंकि यहां पर लोकतंत्र है। यहां पर हर धर्म का सम्मान है। इसलिए कहा जाता है कि भारत के अंदर मुसलमान सबसे ज्यादा सुरक्षित है। क्या मोहन भागवत की बात सत्य है?’

इस पर तस्लीम रहमानी ने जवाब में कहा- ‘मोहन भागवत जी की बात पर मैं गौर कर रहा था, बाकी सब को भी सुन रहा था, आपने भी जो आंकड़े दिए हैं वो भी देख रहा था। मुझे याद पड़ता है 10 हजार साल का भारत है, ये खुद आरएसएस का भी मानना है, हिंदू हमेशा मेजॉरिटी रहा है। जो मुस्लिम काल है, जिसे आरएसएस गुलामी का काल कहता है…।’ ये सुनते ही अमिश देवगन रहमानी को टोकने लगे- ‘कौन सा मुस्लिम काल?’ अमिश की बात का जवाब देते हुए रहमानी कहते हैं- ‘अब वो आपको मालूम है।’

अमिश देवगन ने फिर पूछा- ‘आपने कहा मुस्लिम काल! मुस्लिम काल कोई नहीं था। मैं जानना चाह रहा हूं आपसे। भारत के युग में मुस्लिम काल नहीं था।’ एंकर को जवाब देते हुए रहमानी कहते हैं- ‘चलिए आपके हिसाब से नहीं था, लेकिन तारिक की किताबों में लिखा हुआ है, जो कि ‘सो-कॉल्ड’ मुस्लिम था। तब से लेकर आज तक भारत का एक प्रांत लक्ष्यद्वीप के अलावा ऐसा नहीं है कि जहां आप ये कह सकें कि मुसलमान मेजॉरिटी है, यहां हिंदू ही मेजॉरिटी है। नहीं, जम्मू-कश्मीर एक स्टेट है, वहां भी नहीं है मुसलमानों की बहुसंख्या। कश्मीर को अलग मत कीजिए। जम्मू कश्मीर पहले एक स्टेट था, जो अब दो यूनियन टैरेटरी है।’

अमिश बोल पड़ते हैं- ‘कश्मीर में हिंदू कम हुए, तो बाहर निकाकल दिए गए?’ रहमानी बात काटते हुए कहते हैं- ‘कहां निकाल दिए गए? मैं पुरानी दिल्ली में पैदा हुआ हूं। यहां की तहजीब मुझमें बसी है। पुरानी दिल्ली में जो ‘मुस्लिम मेजॉरिटी’ कही जाती है, जामा मस्जिद, बल्लीमारान, सदर बाजार है। जामा मस्जिद में 45-50% पॉपुलेशन है। 50% हिंदू पॉपुलेशन है। बल्लीमारान जिसे मुस्लिम इलाका कहा जाता है, वहीं 50% हिंदू हैं। वहां कितने हिंदुओं को प्रताड़ित किया गया है, कोई बताए?’

अमिश कहते है- ‘इस देश के अंदर मुगलों का शासन रहा दिल्ली से लेकर आगरा तक। औरंगजेब ने खूब अत्याचार किए, धर्म परिवर्तन कराने की कोशिश की, गुरुओं के शीष काट दिए, सीसगंज गुरुद्वारा चांदनी चौक पर इसी नाम से बना है। क्या पुरानी दिल्ली से हैं।’

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट