ताज़ा खबर
 

1500 करोड़ से ज्यादा की कमाई कर चुकी फिल्म बाहुबली देखने नहीं जाने वाले नवाजुद्दीन सिद्दीकी, जानिए वजह

एस.एस. राजामौली निर्देशित फिल्म 1500 करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है और अब यह फिल्म अब 2 हजार करोड़ की ओर बढ़ रही है।

फिल्म किक में जहां वह निगेटिव रोल प्ले करते नजर आए वहीं फिल्म बजरंगी भाईजान में वह एक रिपोर्टर की भूमिका में थे।

एस.एस. राजामौली निर्देशित फिल्म 1500 करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है और अब यह फिल्म अब 2 हजार करोड़ की ओर बढ़ रही है। फिल्म की चारों तरफ तारीफें हो रही हैं लेकिन अपनी एक्टिंग के लिए चर्चित नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने एनडीटीवी गुड टाइम्स के एक इंटरव्यू में यह खुलासा किया कि वह यह फिल्म देखने नहीं जाने वाले थे। उन्होंने बताया कि उन्होंने फिल्म तब देखी जब उनके बच्चे उन्हें जबरदस्ती फिल्म देखने के लिए साथ ले गए। नवाजुद्दीन ने यह बात तब कही जब उनसे पूछा गया कि किसी फिल्म में कोई ऐसा रोल था जो उन्हें लगा कि काश वह इस रोल को करते। नवाजुद्दीन ने फिल्म पर चुटकी लेते हुए कहा कि उस फिल्म में हीरो को जो ट्रीटमेंट दिया गया है वह काबिल-ए-तारीफ है।

वर्क फ्रंट की बात करें तो नवाजुद्दीन जल्द ही अपनी अपकमिंग फिल्म मंटो में नजर आएंगे। सआदत हसन मंटों के जीवन पर बन रही फिल्म ‘मंटो’ का पहला लुक जारी कर दिया गया है। इस फिल्म की डॉयरेक्टर ‘नंदिता दास’ ने इसे न्यूयार्क में चल रहे कान फिल्म फेस्टिवल में मीडिया के सामने रिलीज किया। जाने-माने एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी इस फिल्म में मंटो की भूमिका निभा रहे हैं। रिलीज किए गए पोस्टर में नवाजुद्दीन मंटो के रोल में एकदम फिट दिख रहे हैं। नवाजुद्दीन को मंटो का लुक देने के लिए बेहतरीन मेकअप किया गया है। मगर नवाजुद्दीन की आंखों ने सबसे ज्यादा कमाल किया है। वह अपनी आंखों में मंटो की सीरियसनेस को उतार पाने में पूरी तरह सफल दिख रहे हैं।

फिल्म के निर्माताओं ने फिल्म का इसका पहला लुक सोशल मीडिया पर अपलोड करके लिखा, “अगर आप ऐसी कहानियों को सहन नहीं कर सकते हैं, तो ऐसा इसलिए है क्योंकि हम असहनीय समय में रहते हैं।” हॉलीवुड रिपोर्टर से बातचीत में फिल्म की डॉयरेक्टर नंदिता दास ने बताया, “जब मैं कॉलेज में थी तब मैंने पहली बार सआदत हसन मंटो की कहानियों को पढ़ा था। तभी से मैं इस बात के लिए हैरान थी कि आखिर कोई शख्स इतनी ईमानदारी से समाज की हकीकत को कैसे परोस सकता है। मंटो के पास सच कहने का साहस था और यही उनकी सबसे खास बात थी। अपनी लेखनी में उन्होंने बोलने की आजादी पर बात की है। उन्होंने महिलाओं के मुद्दे ऊठाए हैं। वह एक सच्चे फेमनिस्ट थे। उन्होंने जो लिखा है, वह आज के समाज में भी उतना ही उपयोगी है।”

Next Stories
1 काला कालीकरन की शूटिंग हुई शुरु, मुंबई पहुंचे सुपरस्टार रजनीकांत
2 पत्‍नी ट्विंकल से छिपकर ये काम करते हैं अक्षय कुमार
3 राणा दग्गुबाती ने बताया अपने अगले प्रोजेक्ट का नाम, कहा- यह लोगों को सोचने पर कर देगी मजबूर
ये पढ़ा क्या?
X