scorecardresearch

संगीतकार रिकी केज ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं हो रहा

बगलुरु में रहने वाले रिकी केज को रविवार को लास वेगास में डिवाइन टाइड्स के लिए सर्वश्रेष्ठ नए एल्बम के ग्रैमी पुरस्कार से नवाजा गया है।

संगीतकार रिकी केज ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं हो रहा

बगलुरु में रहने वाले रिकी केज को रविवार को लास वेगास में डिवाइन टाइड्स के लिए सर्वश्रेष्ठ नए एल्बम के ग्रैमी पुरस्कार से नवाजा गया है। लास वेगास से जूम काल पर दिए साक्षात्कार में केज ने कहा, मैंने 33 साल की उम्र में अपना पहला ग्रैमी जीता था, अब मैं 40 साल का हूं। भारतीय होने के नाते, भारत में रहकर, देश में आला संगीत तैयार करना संभव नहीं लगता था।

मैंने कभी दोबारा पुरस्कार जीतने के बारे में नहीं सोचा था, क्योंकि यह असंभव था। उन्होंने कहा, जब मैंने पहली बार खिताब जीता था, तब सोचा था कि अब मेरा क्या लक्ष्य होगा? मैंने कोई दीर्घकालिक योजना नहीं बना रखी थी। आज जब मैंने दूसरी बार खिताब जीता तो सबकुछ सच लगने लगा है। अमेरिका के नार्थ कैरोलीना में पैदा हुए केज आठ वर्ष की आयु में भारत आ गए थे। काफी कम उम्र में उन्होंने संगीत की शिक्षा हासिल की।

केज ने दंत चिकित्सा की पढ़ाई करने के लिए एक कालेज में दाखिला लिया और साथ ही साथ पश्चिमी शास्त्रीय व भारतीय शास्त्रीय संगीत में औपचारिक शिक्षा प्राप्त की। केज ने कहा कि दूसरी बार ग्रैमी पुरस्कार जीतने पर अलग सा महसूस हो रहा है क्योंकि वे संगीतकार के रूप में परिपक्व हो चुके हैं। इससे पहले साल 2015 में उन्होंने अपनी एल्बम विंड्स आफ समसारा के लिए ग्रैमी अवार्ड जीता था।

टिप्पणी को लेकर आलोचना का सामना कर रहीं ट्विंकल खन्ना

लेखिका और बालीवुड की पूर्व अभिनेत्री ट्ंिवकल खन्ना फिल्म द कश्मीर फाइल्स के बारे में की गई अपनी टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना कर रही हैं। खन्ना ने तीन अप्रैल को एक समाचार पत्र में अपने लेख में कटाक्ष करते हुए लिखा था कि वे विवेक अग्निहोत्री की हाल में रिलीज हुई फिल्म द कश्मीर फाइल्स की तर्ज पर अपनी फिल्म का नाम नेल फाइल्स रखने की योजना बना रही हैं।

उन्होंने नेल यानी कील शब्द का इस्तेमाल करते हुए लिखा कि हो सकता है कि यह फिल्म सांप्रदायिकता के ताबूत में आखिरी कील साबित हो। गौरतलब है कि फिल्म द कश्मीर फाइल्स में 1990 के दशक में घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन को दर्शाया गया है। फिल्म को लेकर अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आई हैं जबकि इसे लेकर राजनीति भी देखने को मिली है।

खन्ना की टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। कश्मीरी पंडित समुदाय से संबंध रखने वाले फिल्मकार अशोक पंडित ने खन्ना से समुदाय की दुर्दशा के प्रति संवेदनशीलता बरतने की अपील की। पंडित ने सोमवार शाम ट्वीट किया, ंिट्वकल खन्ना मैम, आपने बहुत देर कर दी। कश्मीरी पंडितों के नरसंहार पर आधारित यह फिल्म (द कश्मीर फाइल्स) पहले ही इस्लामी आतंकवाद के सांप्रदायिक ताबूत में अंतिम कील ठोक चुकी है। आपसे अनुरोध है कि आप सात लाख कश्मीरी पंडितों के नरसंहार पर संवेदनहीनता न दिखाएं।

सोशल मीडिया के एक और उपयोगकर्ता ने लिखा, उनकी टिप्पणी में असंवेदनशीलता दिखाई देती है। पूरी बालीवुड बिरादरी ही ओछी है और इसमें नैतिकता का भाव नहीं है। एक तरफ ट्विंकल ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर कटाक्ष कर रही हैं, तो दूसरी तरफ उनके पति अक्षय कुमार ने इस फिल्म की तारीफ कर रहे हैं। उन्होंने ‘द कश्मीर फाइल्स’ की कामयाबी को लेकर फिल्म के निर्देशक को बधाई दी थी। साथ ही उन्होंने चुटकी लेते हुए बताया था कि इस फिल्म के किस तरह 18 मार्च को रिलीज हुई उनकी फिल्म बच्चन पांडे की कमाई प्रभावित हुई है।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.