ताज़ा खबर
 

मोनिका बेदी: फोन पर ही गैंगस्टर अबु सलेम से होने लगा था प्‍यार, एक कॉल पर संजय दत्त हुए थे साथ काम करने को तैयार

मोनिका बेदी और अबु सलेम को पुर्तगाल पुलिस ने सितंबर 2002 में गिरफ्तार किया था। बाद में उन्हें भारत लाया गया।

फिल्म अभिनेत्री मोनिका बेदी हिन्दी और पंजाबी के अलावा दक्षिण भारतीय भाषाओं की फिल्मों में भी काम कर चुकी हैं। (पीटीआई फाइल फोटो)

फिल्मी पर्दे पर किसी गैंगेस्टर से किसी को प्यार हो जाना कोई नई बात नहीं है लेकिन जब असल जिंदगी की हिरोइन को असली गैंगेस्टर से प्यार हो जाए तो कहानी फिल्मों से भी ज्यादा हैरतअंगेज लगने लगती है। महज 20 साल की उम्र में फिल्मी करियर शुरू करने वाली मोनिका बेदी की कहानी भी ऐसी ही रही है। 18 जनवरी 1945 को पंजाब के होशियारपुर में जन्मीं मोनिका और माफिया डॉन अबु सलेम के प्यार के किस्से हमेशा मीडिया की सुर्खियों में रहे हैं। मोनिका के जन्मदिन पर हम आपको बताते हैं कि वो पहली बार अबु सलेम से कैसे मिलीं और किस तरह उन्हें बड़ी फिल्मों में रोल दिलाने में सलेम ने उनकी मदद की।

साल 2008 में रेडिफ डॉट कॉम को दिए एक इंटरव्यू में मोनिका ने बताया था, “एक दिन मुझे किसी ने दुबई से फोन किया और कहा कि वो एक कार्यक्रम कर रहा है और उसमें मेरा स्टेज पर्फार्मेंस कराना चाहता है। उस आदमी ने कहा कि सारी औपरचारिकताएं पूरी हो जाने के बाद वो मुझे फिर फोन करेगा। कुछ दिनों बाद उसने फिर फोन किया और हमने थोड़ी देर बात की। कुछ दिन फिर उसका फोन आया। फोन पर हमारी दोस्ताना तरीके से बातचीत होने लगी। उस समय मुझे उसने अपना कुछ और नाम बताया था। मुझे नहीं पता था कि वो अबु सलेम है। अगर वो बतात था भी तो मुझे पता नहीं चलता कि वो कौन है क्योंकि तब तक मैंने बस दाऊद इब्राहिम और छोटा शकील का नाम सुना था।” मोनिका के अनुसार वो दुबई से फोन करने वाले शख्श से मिलने से पहले ही पसंद करने लगी थीं। वो उसके फोन का इंतजार करती थीं।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Gold
    ₹ 25900 MRP ₹ 29500 -12%
    ₹3750 Cashback
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 16699 MRP ₹ 16999 -2%
    ₹0 Cashback

मोनिका का फिर दुबई अक्सर आना-जाना होने लगा और उनकी और सलेम की नजदीकियां बढ़ने लगीं। मोनिका ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1995 में की थी लेकिन सलेम से मिलने तक उनकी कोई भी फिल्म बड़ी हिट नहीं रही थी। माना जाता है कि मोनिका से प्यार हो जाने के बाद सलेम ने उन्हें बड़ी फिल्मों में रोल दिलाने में भूमिका निभायी थी। 1999 में आई सलमान खान की फिल्म ‘जानम समझा करो’ में मोनिका के रोल के पीछे भी सलेम का हाथ माना जाता है।

अबु सलेम की जीवनी लिखने वाले पत्रकार ए हुसैन जैदी के अनुसार  साल 2001 में आई संजय दत्त और गोविंदा की फिल्म “जोड़ी नंबर 1” में मोनिका को सलेम के कहने पर ही रोल मिला था। जैदी के अनुसार फिल्म में गोविंदा के साथ ट्विंकल खन्ना की जोड़ी थी ऐसे में संजय दत्त एक “बी-ग्रेड” हिरोइन मानी जानी वाली मोनिका के संग काम नहीं करना चाहते थे। जैदी की मानें तो सजंय दत्त ने इससे खिन्न होकर फिल्म छोड़ने तक का मन बना लिया था लेकिन “एक फोन कॉल” से उन्हें अपना इरादा बदलना पड़ा। डेविड धवन द्वारा निर्देशित ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट रही थी।

18 सितंबर 2002 को पुर्तगाल पुलिस ने सलेम और मोनिका को पकड़ लिया। उनका भारत प्रत्यर्पण कर दिया गया। साल 2006 में अदालत ने मोनिका को जाली पासपोर्ट बनवाने का दोषी पाते हुए सजा सुनाई। मोनिका ने फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें दोषी माना लेकिन उनको दी गयी सजा कम कर दी। मोनिका को जितनी सजा मिली उतना वक्त हो पहले ही जेल से काट चुकी थीं। मोनिका के अनुसार गिरफ्तार होने के बाद वो सलेम से कभी नहीं मिलीं। साल 2011 में मोनिका ने फिर से एक तमिल फिल्म के जरिए अभिनय जगत में वापसी की। हालांकि वो पिछले कुछ सालों में कुछ ही फिल्मों में नजर आई हैं।

वीडियो: काजोल के साथ दोस्ती को लेकर करण जौहर ने अपनी बायोग्राफी में लिखा- “मैं और काजोल अब दोस्त नहीं”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App