ताज़ा खबर
 

#MeToo: महेश भट्ट ने कहा- दोनों पक्षों को सुनना जरूरी, जनमत से फैसला न हो

निर्माता-निर्देशक महेश भट्ट ने कहा कि लोग कोई फैसला करें, उससे पहले पीड़िता और आरोपी दोनों को ही अपना अपना पक्ष रखने का उचित मौका दिया जाए। भट्ट ने यहां एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘आप एक ध्रुवीकृत दुनिया में हैं ।

Author October 10, 2018 11:02 AM
फिल्म निर्माता महेश भट् (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

भारत में ‘मी टू’ अभियान के आलोक में विभिन्न क्षेत्रों के कई लोगों पर यौन दुराचार और उत्पीड़न के आरोप लगाये जाने पर फिल्मकार महेश भट्ट ने मंगलवार को कहा कि ऐसे संवेदनशील मामलों पर जनमत की अदालत में फैसला नहीं किया जा सकता है। निर्माता-निर्देशक ने कहा कि लोग कोई फैसला करें, उससे पहले पीड़िता और आरोपी दोनों को ही अपना अपना पक्ष रखने का उचित मौका दिया जाए। भट्ट ने यहां एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘आप एक ध्रुवीकृत दुनिया में हैं । किसी भी पक्ष के लोग अतिवादी रुख अपनाते हैं। समस्या यही पर हैं। ये मामले जनमत के वोट से तय नहीं किये जा सकते और न ही अदालतों में उन पर निर्णय हो सकता है क्योंकि जो नियम कानून हैं वे बाबा आदम के जमाने के हैं। बतौर पुरुष हमें भारतीय महिलाओं को वो सभी आवश्यक ताकतें देने की जरुरत है जिससे वे सिर ऊंचा उठाकर चल सकें।

उन्होंने कहा, ‘‘यह नैतिकता की बात है । इन बहसों को अतिवादी रुख अपनाकर हल नहीं किया जा सकता… आपको महिला को अधिकार देने की जरुरत है जिसे अपनी आवाज सामने रखने से वंचित किया गया लेकिन साथ ही, उस व्यक्ति को भी अपना पक्ष रखने का अधिकार दीजिए जिस पर अंगुली उठायी गयी हैं। ’’ फिल्मकार भट्ट अपने अगले प्रोडक्शन ‘जलेबी’ के प्रचार के लिए यहां आये थे। उन्होंने कहा कि बॉलीवुड में प्रोडक्शन हाऊस को यह पक्का करना चाहिए कि उनकी मान्यताओं और कृत्यों में कोई विसंगति न हो।अपने भाई मुकेश के साथ ‘‘विशेष फिल्म्स’’ चलाने वाले भट्ट ने अनुराग कश्यप और फैंटम फिल्म्स के भंग होने का उदाहरण दिया।

आलोक नाथ के विरुद्ध ंिवता नंदा के बलात्कार एवं यौन उत्पीड़न संबंधी आरोपों पर भट्ट ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘मेरे एक सहयोगी ने कहा, ‘वह क्यों चुप थीं?’ उन्होंने इतने सालों तक क्यों नहीं बोला? इसका मतलब यह नहीं है कि वह अब क्यों बोल रही हैं? बस इतना भर के लिए, आप 20 साल के बाद बोल रहे हैं, मतलब यह नहीं होता कि आपके दावे संदिग्ध हैं। महत्वपूर्ण यह है कि जो व्यक्ति हो रही अन्य सभी गलत बातों को लेकर मुखर है, इस पर (चुप्पी साधना) पसंद करती है….. आप पूछते हैं कि ऐसी कौन सी बात है जिसने आपको ऐसा करने से रोका।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App