ताज़ा खबर
 

Meena Kumari Birth Anniversary: मरने से पहले आखिरी बार कमाल अमरोही से ये बात कह गई थीं मीना कुमारी

Meena Kumari Birthday, मीना कुमारी बर्थडे: कहा जाता है कि मीना कुमारी का जन्म हुआ उस समय उनके पिता के पास डॉक्टर की फीस देने तक के पैसे नहीं थे इसलिए उनके पिता उन्हें एक अनाथालय में छोड़ आए थे, लेकिन मां की मोहब्बत ने पिता को बेटी वापस लाने पर मजबूर कर दिया था।

दिवंगत एक्ट्रेस मीना कुमारी।

मीना कुमारी बर्थडे: बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री मीना कुमारी की आज 85 वीं जयंती सेलिब्रेट की जा रही है। फिल्मी दुनिया में मीना कुमारी के नाम से मशहूर थीं, लेकिन उनका वास्तविक नाम महजबीन बेगम था। 1 अगस्त 1932 को जन्मी मीना कुमारी का नाम अबतक की सबसे मजबूत अभिनेत्रियों की लिस्ट में भी शुमार है। मीना कुमारी को हिंदी सिनेमा में ‘ट्रेजडी क्वीन’ के नाम भी जाना जाता है। मीना अपने माता-पिता इकबाल बेगम की अली बक्श की तीसरी बेटी थीं।

कहा जाता है कि मीना कुमारी का जन्म हुआ उस समय उनके पिता के पास डॉक्टर की फीस देने तक के पैसे नहीं थे इसलिए उनके पिता उन्हें एक अनाथालय में छोड़ आए थे, लेकिन मां की मोहब्बत ने पिता को बेटी वापस लाने पर मजबूर कर दिया था। मरने से पहले मीना कुमारी ने पति कमाल अमरोही से अपनी आखिरी ख्वाहिश भी बताई थी।

Meena Kumari Google Doodle

मीना कुमारी दिलखुश इंसान थीं वह सभी से प्यार करती थीं लेकिन उन्हें किसी का सच्चा प्यार नहीं मिला। मीना कुमारी अपने पति कमाल अमरोही के साथ काफी खुश थीं। लेकिन दोनों के बीच औलाद की चाहत के कारण गलतफहमी पैदा होने लगी। मीना कुमारी अपने बच्चे की मां बनना चाहती थीं जबकि कमाल अमरोही इसके खिलाफ थे। इसी वजह के चलते दोनों के बीच दूरियां शुरू हो गई। बताया जाता है कि इसी दौरान मीना कुमारी की मुलाकात धर्मेंद्र से हो हुई। मीना को लगा कि वह धर्मेंद्र के साथ अपने इस सपने को पूरा कर सकती हैं लेकिन इस रिश्ते का भी जल्द ही अंत हो गया। धर्मेंद्र से मिले धोखे के बाद मीना कुमारी टूट सी गई थीं। ऐसे में मीना कुमारी ने शराब को अपना सहारा बना लिया। शराब के कारण मीना का लीवर खराब हो गया था। जिस कारण वह काफी कमजोर हो गई थीं।

डॉक्टरों की सलाह के कारण मीना ने शराब पीना छोड़ दिया था। बाद में मीना ने अपने पति कमाल अमरोही की फिल्म पाकीजा साइन की थी। बीमारी की हालत में भी मीना कुमारी पाकीजा फिल्म की शूटिंग कैसे भी पूरा किया। 28 मार्च 1972 को एक बार फिर से मीना कुमारी गंभीर रूप से बीमार हो गई थीं। मीना को अस्पताल में भर्ती कराया गया। 30 मार्च की शाम कोमा में जाने से पहले मीना कुमारी ने अपने पति कमाल अमरोही से कहा था, ”चंदन अब मैं जीना नहीं चाहती, मेरी आखिरी ईच्छा है कि मैं तुम्हारी बाहों में दम तोड़ू, लेकिन मीना कुमारी की यह ख्वाहिश पूरी नहीं हो पाई और उन्होंने 31 मार्च को इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया था।”

https://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App