ताज़ा खबर
 

असली किसान तो चला गया, ये लोग भड़का रहे हिंसा- रिपब्लिक टीवी पर बोले मनोज तिवारी, मिला ऐसा जवाब

मनोज तिवारी का कहना है कि जो असली किसान थे वो तो आंदोलन से वापस जा रहे हैं लेकिन जो लोग हिंसा को बढ़ा रहे हैं, उनकी नियत ठीक नहीं है।

मनोज तिवारी का कहना है कि भारत का किसान राकेश टिकैत जैसा नहीं हो सकता (फ़ोटो- पीटीआई)

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ देश के विभिन्न क्षेत्रों से आए किसान आज 66 वें दिन भी दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं। 26 जनवरी को किसानों के आंदोलन में छिटपुट हिंसा देखने को मिली थी जिसके बाद यह लग रहा था कि किसान आंदोलन कमज़ोर पड़ जाएगा। लेकिन जब किसान नेता राकेश टिकैत मीडिया से बातचीत में रो पड़े तब से माहौल बिल्कुल बदला नजर आ रहा है। यूपी के हजारों किसान आज गाजीपुर की तरफ आने वाले हैं और अब गाजीपुर बॉर्डर आंदोलन का मुख्य केंद्र बनता जा रहा है।

इसी बीच रिपब्लिक टीवी के डिबेट शो, ‘पूछता है भारत’ में भोजपुरी अभिनेता और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने कहा है कि जो मूल किसान थे, वो अपने घरों को लौट रहे हैं और जो लोग हिंसा का समर्थन कर रहे हैं, उनकी नियत ठीक नहीं है। शो के एंकर ऐश्वर्य कपूर ने उनसे पूछा कि भारत के किसानों की नुमाइंदगी करने वाला राकेश टिकैत जैसा हो सकता है क्या?

जवाब में मनोज तिवारी ने कहा, ‘बिल्कुल हमारे भारत का किसान ऐसा नहीं हो सकता। हम किसान हैं, हमारे परिवारवाले किसान हैं। जो मूल किसान था, जो इस बवंडर, भ्रमजाल में फंसा हुआ था, वो तो उठकर गया, वो जाने लगे लेकिन ये लोग जो अभी भी हिंसा को उकसा रहे हैं, जो लोगों को भड़का रहे हैं, इनकी नियत पर ही संदेह है। इनकी नियत किसानों के हित में नहीं है।’

मनोज तिवारी ने किसान आंदोलन के कारण दिल्ली के आस पास के बंद पड़े रास्तों पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा, ‘इसमें दिल्ली के लोगों की क्या गलती है? ये कौन लोग हैं जो इस तरह से उपद्रव कर रहे हैं और इन्हें ऐसा करने की छूट किसने दी है? लोग मुझसे ये सवाल कर रहे हैं। आपके पास कोई मुद्दा नहीं है बताने को और आप दिल्ली के लोगों का रास्ता रोककर बैठे हैं। उन्हें परेशान कर रहे हैं।’

मनोज तिवारी ने कहा कि किसान आंदोलन के नाम पर लोग राजनीति कर रहे हैं और भोलेभाले किसानों को बदनाम किया जा रहा है। उन्होंने आगे कहा, ‘आप एक ऐसी राजनीतिक दलदल में फंसे हैं जहां सिर्फ और सिर्फ दिल्ली को और सड़क पर चलते हुए लोगों को परेशान करने की नियत है आपकी। आप किसानों को बदनाम को बदनाम कर रहे हैं। भोलेभाले किसानों के कंधे की आड़ लेकर जो कर रहे हैं ये लोग ये हमारे देश के किसान नहीं हो सकते।’

Next Stories
1 ‘अमिताभ के लिए जानबूझ कर मजबूत स्क्रिप्ट लिखते हैं’- जब सलीम-जावेद की जोड़ी पर भड़क गए थे राजेश खन्ना
2 पुण्य प्रसून बाजपेयी ने दी केजरीवाल-योगेंद्र यादव को साथ आने की सलाह, देखें- लोग करने लगे कैसे कमेंट
3 अभिनेता अरविंद जोशी का 84 साल की उम्र में निधन, ‘शोले’ और ‘इत्तेफाक’ जैसी फिल्मों से कमाया था नाम
ये पढ़ा क्या?
X