ताज़ा खबर
 

रोजी-रोटी की तलाश में दिल्ली आए थे मनोज तिवारी, आश्रम में 3 सालों तक बनाईं थीं रोटियां; इंटरव्यू में किया था खुलासा

मनोज तिवारी ने इंटरव्यू के दौरान संघर्ष के दिनों को याद करते हुए बताया कि वह रोजी-रोटी की तलाश में दिल्ली आए थे और यहां वह आश्रम में रोटी भी बनाया करते थे।

भाजपा सांसद मनोज तिवारी (Express Photo/ Prem Nath Pandey)

भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार मनोज तिवारी ने अपनी एक्टिंग और सिंगिंग से लोगों का दिल जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। उन्होंने राजनीति की दुनिया में भी अपनी राह बखूबी बनाई और दो बार भाजपा की तरफ से उत्तर पूर्वी दिल्ली से सांसद भी रहे। लेकिन अपने करियर के दौरान मनोज तिवारी को कई उतार-चढ़ाव देखने पड़े। इस बात का खुलासा मनोज तिवारी ने आजतक को दिये इंटरव्यू में किया। उन्होंने बताया कि वह रोजी-रोटी की तलाश में दिल्ली आए थे और यहां वह आश्रम में रोटी भी बनाया करते थे।

राहुल कंवल को दिये इंटरव्यू में मनोज तिवारी ने कहा, “1992 से लेकर 2003 तक मैं दिल्ली में ही रहा हूं। मैं अपनी रोजी-रोटी की तलाश में यहां पर आया था। यहां टी-सीरीज का एक स्टूडियो है, जहां गुलशन कुमार जी ने मुझे मौका दिया। लोधी रोड पर बरसाती में मैं करीब 3 साल तक रहा था। यहां यमुना बाजार के पास एक आश्रम है, वहां मैंने रोटी बनाई दूसरों के लिए।”

मनोज तिवारी ने अपने इंटरव्यू में आगे कहा, “मैं दिल्ली को बहुत ही अच्छे से जानता हूं और दिल्ली में भी कई ऐसे लोग हैं जो मुझे बहुत प्यार करते हैं।” मनोज तिवारी की बातें सुनकर राहुल कंवल ने उन्हें बीच में टोक दिया और पूछा कि आप अपने राजनीतिक संघर्ष के बारे में बताइये।

उनका जवाब देते हुए मनोज तिवारी ने कहा, “जब अन्ना हजारे आंदोलन करने आए तो उस आंदोलन में सबसे पहले कूदने वाला कलाकार मैं था। मैं बाबा रामदेव के मंच पर भी गया, वहां पर भी लाठी खाया।” मनोज तिवारी ने अपने इंटरव्यू में कहा कि सबको पता है कि मनोज तिवारी एक गांव का लड़का है, जो 28 सालों तक साइकिल के लिए तरसा है और सबका दर्द भी जानता है।

बता दें कि टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक मनोज तिवारी काम की तलाश में कोलकाता भी गए थे। इस बात का जिक्र उन्होंने अपने इंटरव्यू में किया था और बताया था कि वह करीब चार साल तक (1992 से 1996) कोलकाता में रहे। उनके मुताबिक कोलकाता में वह म्यूजिक इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहे थे।

मनोज तिवारी के करियर की बात करें तो उन्होंने साल 2003 में फिल्म ‘ससुरा बड़ा पैसावाला’ से एक्टिंग में डेब्यू किया। उनकी यह फिल्म भोजपुरी बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई थी। इसके बाद वह ‘दरोगा बाबू आय लव यू’ और ‘बंधन टूटे ना’ जैसी फिल्मों में भी नजर आए। साल 2010 में मनोज तिवारी बिग बॉस सीजन 4 का भी हिस्सा बने। इसके अलावा उन्होंने ‘गैंग्स ऑफ वसेपुर’ फिल्म के लिए ‘जिया हो बिहार के लाला’ सॉन्ग भी गाया।

Next Stories
1 बेटी को हॉस्पिटल से लाने के लिए रवि किशन को लेने पड़े थे ब्याज पर पैसे, पुराने दिनों को याद कर भावुक हुए भोजपुरी स्टार
2 बिजी शेड्यूल के बावजूद भी ऐसे खुद को फिट रखते हैं ‘निरहुआ’- जानें क्या है उनका डेली रूटीन
3 दुश्मन तो बहुत पहले से पाल रखे हैं मैंने- अक्षरा सिंह ने अफेयर्स की खबरों पर दिया जवाब, शादी के सवाल पर कही ये बात
ये पढ़ा क्या?
X