ताज़ा खबर
 

एक दिन यहां मेरा पोस्टर लगा होगा- दिल्ली के आईटीओ पुल पर बोल पड़े थे मनोज बाजपेई, देखा था ऐसा सपना

मनोज बाजपेई पहली बार दिल्ली आ रहे थे और आईटीओ पुल पर गाड़ी रुकी थी। उसी वक़्त उन्होंने यह सोच लिया था कि मैं इतनी मेहनत करूंगा कि एक दिन यहीं मेरी तस्वीर लगेगी।

मनोज बाजपेई की The Family Man 2 अमेज़न प्राइम वीडियो पर स्ट्रीम हो रही है (Photo- Manoj Bajpai/Instagram)

The Family Man 2 की जबरदस्त सफलता ने मनोज बाजपेई के करियर को एक बड़ा उछाल दिया है। 4 जून को रिलीज हुई अमेजन प्राइम वीडियो की इस वेब सीरीज को दर्शकों के साथ साथ फिल्म आलोचकों की भी खूब प्रशंसा मिली है। मनोज बाजपेई ने अपने करियर में जो मुकाम हासिल किया है वो उन्हें सालों मेहनत करने के बाद मिली है। जब वो पहली बार दिल्ली आए थे तभी उन्होंने सोच लिया था कि वो ऐसा काम करेंगे जिससे जगह-जगह उनके पोस्टर्स लगेंगे।

उन्होंने बताया था कि जब वो पहली बार दिल्ली आ रहे थे बारहवीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद तो उनके पास टिकट नहीं था। पूरी रात वो टीटी से बचने के लिए इधर से उधर भागते रहे थे। जब दिल्ली के आईटीओ पुल पर गाड़ी रुकी तो उन्होंने यह सोच लिया था कि मैं इतनी मेहनत करूंगा कि यहीं मेरी तस्वीर लगेगी एक दिन।

इस किस्से का जिक्र मनोज बाजपेई ने अनुपम खेर के शो पर किया था। उन्होंने बताया था, ‘मेरा एक मारवाड़ी दोस्त था, वो दिल्ली यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए जा रहा था तो मैंने कहा मुझे भी ले चल। मेरे पास रिजर्वेशन नहीं था। जब भी टीटी रिजर्वेशन देखते हुए आता तो मैं दूसरे कंपार्टमेंट में चला जाता था। आगे ट्रेन रुकी तो उतरकर फिर वापस अपने डब्बे में। ये पूरी रात चलता रहा।’

 

मनोज बाजपेई ने आगे बताया था, ‘वो मंजर मैं भूल नहीं सकता कभी। आईटीओ पुल पर गाड़ी रुकी हुई थी और मैं दिल्ली शहर को, गाड़ियों की देख रहा था और मेरे मन में उस दौरान ये बात आई और मुझे लगा कि एक दिन मेरा पोस्टर छपेगा यहां पर।’

 

मनोज बाजपेई दिल्ली तो आ गए लेकिन उनका सफर बहुत मुश्किल रहा। यहां आकर उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की और थियेटर करने लगे थे। उन दिनों उनकी जेब में पैसे नहीं होते थे। कई बार उन्हें भूखे पेट ही सोना पड़ता था। जब उन्हें फ़िल्म बैंडिट क्वीन में काम मिला तब जाकर उनकी आर्थिक स्थिति ठीक हुई।

इसी बीच उन्हें स्वाभिमान नामक टीवी शो में काम मिला जिसमें उनके काम को काफी पसंद किया गया। फिल्म सत्या के बाद से मनोज बाजपेई बॉलीवुड के स्थापित अभिनेता बन गए।

Next Stories
1 बस! क्या मजाक बना रखा है हमारी फिल्म का? प्रियंका चोपड़ा की एक्टिंग देख बोल पड़े थे शाहरुख खान, माफी मांगने पहुंच गई थीं एक्ट्रेस
2 बाबा, दत्त साहब कहां हैं? जब सुनील दत्त से ही पूछ बैठी थीं नरगिस, दो घंटे तक ढूंढती रही थीं पति को; दिलचस्प है किस्सा
3 रणवीर सिंह क्रिकेट में बनाना चाहते थे पहचान, बॉम्बे जिमखाना क्लब में लेते थे ट्रेनिंग; इस बात ने बदल दी थी राह
ये पढ़ा क्या?
X