ताज़ा खबर
 

Movie Review: प्यार और आंसुओं की कहानी ‘बिन रोए’

यह एक पाकिस्तानी फिल्म है जिसमें प्रेम त्रिकोण है। सबा (माहिरा खान) बचपन से इतर्जा (हुमायूं सईद) के साथ बड़ी होती है और मन ही मन उससे इश्क करने लगती है। लेकिन इतर्जा का दिल तो समन (अरमीना) से जा टकराता है जो सबा की बहन है और अमेरिका में रहती है।

Author Updated: July 18, 2015 11:28 AM
‘बिन रोये’: प्यार और आंसुओं की कहानी

निर्देशक- मोमिना दुरैद, शहजाद कश्मीरा

कलाकार- माहिरा खान, हुमायूं सईद, अरमीना खान, जेबा बख्तियार, जावेद शेख

यह एक पाकिस्तानी फिल्म है जिसमें प्रेम त्रिकोण है। सबा (माहिरा खान) बचपन से इतर्जा (हुमायूं सईद) के साथ बड़ी होती है और मन ही मन उससे इश्क करने लगती है। लेकिन इतर्जा का दिल तो समन (अरमीना) से जा टकराता है जो सबा की बहन है और अमेरिका में रहती है।

हालात ऐसे बनते हैं कि दोनों की शादी भी हो जाती है। लेकिन सबा इस शादी को बर्दाश्त करने को तैयार नहीं होती। वो मन ही बन समन को बददुआ देती है। एक दिन समन की एक दुर्घटना में मौत हो जाती है।

सबा को अपराधबोध होता है कि समन की मौत उसकी बददुआ की वजह से हुई। वक्त बदलता है और सबा और इतर्जा की शादी होती है। लेकिन सबा क्या इतर्जा से वही रिश्ता बना सकती है जो पहले था। क्या सबा इतर्जा से मोहब्ब्त कर सकती है?

Also Read- Movie Review बजरंगी भाईजान: ईद की मिठास बढ़ाएगी दिलों को जोड़ने वाली कहानी

प्यार और आंसुओं की इस कहानी में बहुत कुछ यंत्रवत होता है। इसलिए यह दिल को छू नहीं पाती। लेकिन पाकिस्तान में फिल्म निर्माण उच्चकोटि का नहीं है और इसलिए वहां पाकिस्तानी से ज्यादा हिंदी फिल्में पसंद की जाती है। यह फिल्म भी अपवाद नहीं होगी।

लेकिन जिन्हें यह लगता है कि पाकिस्तानी फारसी-अरबी मिश्रित कठिन उर्दू ही बोलते हैं उन्हें यह देखकर आश्चर्य होगा कि इसे किस तरह से गैर हिंदी फिल्म कहा जा सकता है। इसमें एक ऐसी भाषा है जिसे हिंदी भी कहा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories