परवीन बाबी के हाथ में चाकू देख घबरा गए थे महेश भट्ट, फिल्ममेकर ने सुनाया था उस शाम का वो किस्सा

महेश भट्ट ने एक बार बताया था जब परवीन बाबी की तबीयत खराब हुई तो वह तुरंत उनके कमरे में जा पहुंचे थे। उस वक्त वहां परवीन बाबी की मां भी मौजूद थीं।

Mahesh Bhatt, Parveen Babi, परवीन बाबी, महेश भट्ट,
फिल्ममेकर महेश भट्ट (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

महेश भट्ट परवीन बाबी संग अपने रिलेशनशिप को लेकर कई मौकों पर खुलकर बात करते नजर आते रहे हैं। महेश भट्ट ने तो अपनी और परवीन की जिंदगी को लेकर फिल्म ‘अर्थ’ भी बनाई थी। महेश भट्ट ने एक बार बताया था जब परवीन बाबी की तबीयत खराब हुई तो वह तुरंत उनके कमरे में जा पहुंचे थे। उस वक्त वहां परवीन बाबी की मां भी मौजूद थीं।

फिल्मफेयर को दिए इंटरव्यू में महेश भट्ट ने बताया था- ‘1979 की वो शाम याद है मुझे, मैं जुहू अपार्टमेंट में था, परवीन की मां जमाल बाबी उस वक्त कॉरिडो में खड़ी थीं और कह रही थीं कि देखो परवीन को क्या हो गया है! मैं ये सुनते ही बेडरूम में गया। मैं वहां पहुंचा तो पाया, चारों तरफ खुशबू फैली हुई थी। परवीन ने फिल्मी ड्रेस पहनी हुई थी और वह कॉर्नर में चिपक कर बैठी हुई थीं। दीवार और बेड के बीच में जो स्पेस था वो वहां थी। उस वक्त वह बीस्ट जैसी दिख रही थी। उसके हाथ में किचन वाला चाकू था।’

महेश भट्ट ने बताया था- ‘चाकू देखते ही मैंने कहा- ये क्या कर रही हो? तो उसने जवाब में कहा- शशशश..मुझसे बात मत करो। ये कमरा खराब है। कैमरों से लदा हुआ है। वो मुझे मारना चाहते हैं। वो मुझपर झूमर गिरा देंगे। उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे खींचकर बाहर निकाल दिया। उनकी मां मुझे असहाय नजरों से देख रही थीं। उनके ऐसे देखने से लग रहा था कि जैसे पहले भी ये एपिसोड बीत चुका है। पहली बार नहीं हुआ है।’

महेश भट्ट ने बताया कि इसके बाद ही उन्होंने इससे डील करना सीख लिया। महेश भट्ट ने कहा था- ‘मैंने अच्छे Psychiatrists से बात की। उन्होंने परवीन की हालत का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि वह पेरानॉइड सिजोफ्रेनिया (paranoid schizophrenia) की शिकार हैं। यह एक जेनेटिक बायोकैमिकल डिसऑर्डर कहलाता है। ऐसे में उन्हें काबू में रखने के लिए ड्रग थेरेपी का सुझाव दिया गया था। लेकिन उन्होंने ये भी चेतावनी दी थी कि अगर ड्रग थेरेपी काम नहीं करती है तो उन्हें इलेक्ट्रोकोनवल्सिव ट्रीटमेंट देना होगा।

महेश ने आगे बताया था कि- ‘उनका डर उन्हें और डराता था। वह एक बंद कमरे में तूफान की तरह इधर-उधर फिरती रहती थीं। कई बार वो कहती थीं कि एसी के अंदर एक कीड़ा घूम रहा है। हमें उसे उन्हें खोलकर दिखाना पड़ा था। फिर कुछ वक्त के बाद उन्होंने बताया था कि वही कीड़ा उनके पंखे में तो कभी परफ्यूम में है, उनकी ऐसी शिकायत रहने लगी थी।’

एक किस्सा और बयां करते हुए उन्होंने बताया था कि ‘एक बार हम अपने दोस्त को मिलके आ रहे थे। तभी वो बोल पड़ीं इस कार में बम है। उसने चलती कार से ही कूदने की कोशिश की , दरवाजा खोल दिया था। साथ ही वो कह रही थीं कि बम फट जाएगा कार उड़ जाएगी। इस बीच मैंने उन्हें पकड़ कर रखा हुआ था। उस दौरान लोगों को लगा कि परवीन अपने बॉयफ्रेंड से लड़ रही हैं। उनका डर ये भी था कि अमिताभ बच्चन उन्हें मारना चाहते हैं। फिर एक बार उन्होंने कहा था कि वह अमिताभ से माफी मांगना चाहती हैं।’

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट