Madhya Pradesh: I will sell Kishore Kumar Khandwa's Old Bungalow claims Nephew Arjun Kumar - किशोर कुमार के बंगले पर परिवार में खींचतान तेज, भतीजा बोला- इस पर मेरा हक, मैं ही बेचूंगा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

किशोर कुमार के बंगले पर परिवार में खींचतान तेज, भतीजा बोला- इस पर मेरा हक, मैं ही बेचूंगा

भतीजे का कहना है, बॉम्बे बाजार वाली संपत्ति के कागजात उनके नाम पर हैं। नगर निगम और नजूल में सारे कर वही चुकाते हैं, लिहाजा सुमित कुमार सौदा करने वाला कौन है?

किशोर दा के जन्मदिन (चार अगस्त) पर हर वर्ष उनके प्रशंसक खंडवा पहुंचते हैं। (फोटोः एक्सप्रेस अर्काइव/यूट्यूब)

दिवंगत गायक और अभिनेता किशोर कुमार के बंगले को लेकर उन्हीं के परिवार में खींचतान तेज हो गई है। मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में बॉम्बे बाजार स्थित पुराने बंगले पर उनके भतीजे और बेटों ने अपना-अपना हक जताया है। किशोर दा के भतीजे और अनूप कुमार के बेटे अर्जुन कुमार ने एक अखबार से बातचीत में कहा, “बंगले पर मेरा हक है। मैं ही इसे बेचूंगा।”

अर्जुन के अनुसार, बॉम्बे बाजार वाली संपत्ति के कागजात उनके नाम से हैं। नगर निगम और नजूल में सारे कर वही चुकाते हैं, लिहाजा सुमित कुमार सौदा करने वाला कौन है? जैन इस मसले पर गलत जानकारी फैला रहे हैं। किशोर दा के भतीजे ने इसके अलावा दावा किया कि संपत्ति के इर्द-गिर्द जिन लोगों की दुकानें हैं, वे भी उन्हीं के पक्ष में हैं। ऐसे में इसका सौदा वह खुद ही करेंगे। फिलहाल वह इसके लिए कोई बढ़िया खरीददार ढूंढ रहे हैं।

बकौल अर्जुन, “मैं कतई नहीं चाहता हूं कि किशोर दा की यादों से जुड़ी यह संपत्ति बिके। लेकिन मैं आर्थिक तौर पर इन दिनों काफी परेशान चल रहा हूं। ऐसे में मेरे पास इसे बेचने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। ऊपर से किशोर प्रेरणा मंच के सदस्य मुढे इस संपत्ति को बेचने नहीं दे रहे हैं। सवाल है कि क्या मैं अपनी ही संपत्ति नहीं बेच सकता?”

वहीं, इस बंगले का सौदा करने वाले कारोबारी अभय जैन ने बताया कि वह किशोर दा के छोटे वाले बेटे सुमित कुमार को चेक के जरिए 11 लाख रुपए बयाने के रूप में दे चुके हैं। संपत्ति का सौदा कुल 14 करोड़ रुपए में हुआ है। जैन इसके अलावा सुमित की पत्नी से लगातार ताल-मेल बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

क्यों खास है यह संपत्ति?: यह संपत्ति इसलिए खास है, क्योंकि किशोर दा इसी बंगले में जन्मे थे। फिलहाल यह बेहद खस्ता हालत में है। गेट पर गौरी कुंज और गांगुली हाउस लिखा है। पिछले साल नगर निगम ने इसे जर्जर बताया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App