ताज़ा खबर
 

करणी सेना ने रेल रोको आंदोलन की धमकी दी

संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावती का विरोध बढ़ता ही जा रहा है। फिल्म का सबसे तगड़ा विरोध चित्तौड़गढ़ में हो रहा है।

Author जयपुर | November 28, 2017 1:20 AM

संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावती का विरोध बढ़ता ही जा रहा है। फिल्म का सबसे तगड़ा विरोध चित्तौड़गढ़ में हो रहा है। चित्तौड़गढ़ में सर्वसमाज का धरना सोमवार को 19 वें दिन भी जारी रहा। फिल्म के विरोध में रविवार को चित्तौड़गढ़ में लोगों ने गिरफ्तारियां दीं और किले के बाहर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का भी पुतला लटका दिया गया। दूसरी ओर जयपुर के नाहरगढ़ किले में चेतन सैनी की लटकी मिली लाश की मौत का रहस्य अभी तक बरकरार है। चित्तौड़गढ़ में सर्वसमाज का आंदोलन अब तेज हो गया है। भंसाली, दीपिका पादुकोण, सलमान खान और जावेद अख्तर के बाद अब किले के बाहर ममता बनर्जी का पुतला भी लटका दिया गया है। सर्वसमाज ने चेतावनी दी है कि फिल्म पर पूरी तरह से पाबंदी नहीं लगाई तो अब रेल रोकने से लेकर पर्यटकों का प्रवेश भी बंद कर दिया जाएगा।

चित्तौड़गढ़ दुर्ग के पाडनपोल पर पिछले 19 दिन से सर्वसमाज की अपील पर धरना चल रहा है। करणी सेना के जिला अध्यक्ष गोविंद सिंह खंगारोत ने कहा कि फिल्म पर रोक के लिए ब्रिटेन के उच्चायोग को पत्र लिखा गया है। उन्होंने सरकार से मांग की कि फिल्म पर जल्द से जल्द रोक लगाई जाए। ऐसा नहीं होने पर रेल रोको और पर्यटकों का प्रवेश बंद जैसे आंदोलन शुरू कर दिए जाएंगे। आंदोलनकारियों ने सामूहिक गिरफ्तारियां देकर सरकार के रवैये के प्रति अपनी नाराजगी जता दी है।

ममता बनर्जी का पुतला फिल्म के समर्थन में दिए गए उनके बयान के विरोध में लटकाया गया है। उधर, जयपुर के नाहरगढ़ किले में चेतन सैनी की संदिग्ध मौत के बारे में अभी तक पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है। पुलिस इसे अभी तक आत्महत्या का मामला ही मान रही है। चेतन के परिजन पुलिस जांच से संतुष्ट नहीं है। उनका कहना है कि ऐसी कोई परिस्थिति नहीं थी जिसके चलते चेतन आत्महत्या जैसा कदम उठाता। पुलिस अभी तक उस रस्सी लाने के स्थान का पता नहीं लगा पाई है जिससे चेतन ने फंदा लगाया था। मालूम हो कि नाहरगढ़ किले पर शुक्रवार को चेतन सैनी की लटकी लाश मिली थी। इस किले के आसपास ही पद्मावती फिल्म को लेकर कई आपत्तिजनक नारे भी लिखे हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App