ताज़ा खबर
 

लोग मेरा नाम नहीं लेते थे, मुझे अनुराग की पत्नी कह कर बुलाते थे : कल्कि

उन्होंने अपने तलाक के फेस के बारे में बात करते हुए कहा कि मैं काफी समय बाद अकेला महसूस करने लगी थी। मुझे इस अकेलेपन को भरना था लेकिन मैं अपने इस अकेलेपन को शराब पीकर या पार्टियों में डांस कर नहीं भरना चाहती थी।

सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

एक्ट्रेस कल्कि हाल ही में एक बुक लॉन्च के मौके पर नज़र आईं। इस दौरान उन्होंने शादी और फेमिनिज़्म के बारे में बात की। फेमिनिस्ट रानी नाम की किताब लॉन्च पर कल्कि ने कहा कि जब मेरी शादी हुई थी तो मुझे केवल उन्हीं जगहों पर बुलाया जाता था जहां अनुराग को इंवाइट किया जाता था। लोग मुझे अनुराग की पत्नी कह कर बुलाते थे। वे मुझे कल्कि नहीं कहते थे। किसी भी शादी में सबसे बड़ी समस्या ओनरशिप की होती है।

गौरतलब है कि कल्कि और अनुराग कश्यप ने साल 2011 में शादी रचाई थी। कल्कि और अनुराग ने 2013 से ही अलग रहने का फैसला किया था और दोनों ने 2015 में तलाक ले लिया था।  उन्होंने कहा कि ‘किसी भी शादी में महिलाओं को कमज़ोर मान लिया जाता है भले ही उस महिला का पति उसे कमज़ोर न समझता हो। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारे समाज ने इसी तरह के तानेबाने के इर्दगिर्द शादी जैसे संस्थान को बुना है । कल्कि ने कहा कि किसी भी रिलेशनशिप में ईमानदारी और स्वतंत्रता सबसे ज्यादा मायने रखती है। मुझे नहीं लगता कि आगे आने वाले समय में मैं शादी करने वाली हूं।’

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6000 Cashback
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback

उन्होंने अपने तलाक के फेस के बारे में बात करते हुए कहा कि मैं काफी समय बाद अकेला महसूस करने लगी थी। मुझे इस अकेलेपन को भरना था लेकिन मैं अपने इस अकेलेपन को शराब पीकर या पार्टियों में डांस कर नहीं भरना चाहती थी। मैंने इस दौरान अपने आप के साथ समय बिताया, फैमिली के साथ समय बिताया। मैं खुश हूं कि मुझे इस यात्रा से गुज़रने का मौका मिला।

फेमिनिज़्म के बारे में बात करते हुए कल्कि ने कहा कि फेमिनिज़्म का सीधा सा मतलब है कि सभी इंसान बराबर हैं और सभी लोगों के साथ बराबरी से पेश आना चाहिए। चूंकि हम एक पुरूष प्रधान समाज में रहते हैं इसलिए हमें फेमिनिज़्म को पितृसत्ता के काउंटर के तौर पर इस्तेमाल करना पड़ता है। लेकिन फेमिनिज़्म का मतलब बराबरी ही है। इसे इक्विलिस्ट भी कहा जा सकता है। फेमिनिस्ट रानी को पेंग्विन बुक्स ने पब्लिश किया है। इस किताब में कल्कि के अलावा गुल पनाग, अदिति मित्तल और श्री गौरी सावंत जैसी कलाकारों के इंटरव्यूज़ कलेक्शन पढ़ने को मिलेंगे।

https://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App