ताज़ा खबर
 

हिंदी भी नहीं बोल पाते थे जॉनी लीवर, जानिए फिर कैसे मिला था फिल्मों में ब्रेक

जॉनी तब मशहूर फिल्म एक्टर्स की मिमिक्री करते। यानी वह उन्हें कॉपी कर उन्हीं के अंदाज में एक्टिंग कर के दिखाते थे और लोगों को हंसाते थे। एक बार वह...

कॉमेडी की बात आती है, तो सबसे नाम दिमाग में जॉनी लीवर का आता है। जॉनी, एक दौर था जब कॉमेडी किंग थे। ठहाकों की दुनिया के पोस्ट ब्वॉय माने जाते थे। मगर यूं ही उन्होंने सुर्खियां नहीं बंटोरी। कड़ा संघर्ष किया। 12 साल उन्हें मिमिक्री आर्टिस्ट से एक्टर की पहचान पाने में लगाए। हिंदी सीखने के लिए खूब पापड़ बेले। जानना चाहेंगे कि उन्हें फिल्मों में ब्रेक कैसे और कहां से मिला था। तो आइए बताते हैं आपको इस बारे में।

400 से ज्यादा फिल्में करने वाले जॉनी आज बड़ा नाम हैं। भले ही आज उन्हें लोगों की मिमिक्री करने में महारत के लिए जाना जाता हो, लेकिन यह पहचान बनाने में उन्होंने लोहे के चने चबाए हैं। तकरीबन 12 साल के संघर्ष के बाद उन्हें एक्टर माना गया।

बात तब की है जब वह मशहूर फिल्म एक्टर्स की मिमिक्री करते। यानी वह उन्हें कॉपी कर उन्हीं के अंदाज में एक्टिंग कर के दिखाते थे और लोगों को हंसाते थे। एक बार वह मिमिक्री से जुड़ा स्टेज शो कर रहे थे। उस दौरान मशहूर एक्टर सुनील दत्त भी आए थे। अचानक उनकी नजर जॉनी पर पड़ी। उन्हें उनका टैलेंट और मिमिक्री करने का स्टाइल पसंद आया।

फिर क्या था, सुनील ने जॉनी को इसके बाद फिल्म ‘दर्द का रिश्ता’ में ब्रेक दिलाया। मगर कहानी जितनी आसान दिखती है। उतनी होती कहां। जॉनी का इस फिल्म करने से सिनेमा की दुनिया में खाता तो खुला, लेकिन कुछ खास पहचान न मिली।

जॉनी यही कारण है कि अपनी असली सफलता का श्रेय दर्द का रिश्ता के बजाय फिल्म बाजीगर को देते हैं। वह मानते हैं कि उन्हें इस फिल्म में पूरा रोल (कैरेक्टर) निभाने को मिला था। न कि मिमिक्री आर्टिस्ट का।

शुरुआत में वह मिमिक्री आर्टिस्ट थे। तब सब डायरेक्टर फिल्मों में लेते थे और मिमिक्री कराते, लेकिन कैरेकटर करने का मौका नहीं मिला। बाजीगर ने वह मौका दिया। तब लोगों ने उन्हें कि वह भी एक्टिंग कर लेते हैं।

जॉनी से जुड़ी एक और रोचक बात है कि वह हिंदी नहीं जानते थे। वह सातवीं कक्षा तक पढ़े थे। चूंकि वह तमिलनाडु से हैं और पांचवीं से हिंदी पढ़ी, इसलिए ज्यादा समय उसे सीखने को नहीं दे पाए। बाद में उन्होंने इसे सीखने के लिए पापड़ बेले। कई उपन्यास और हिंदी की किताबें पढ़ीं, तब हिंदी जॉनी के पल्ले पड़ी।

देखिए उनकी फिल्म का यह मज़ेदार सीन –

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.