गांधी की वजह से सावरकर की दया याचिका वाली बात पूरी तरह झूठ- बोले जावेद अख़्तर तो लोग करने लगे ऐसी टिप्पणी

जावेद अख्तर ने राजनाथ सिंह द्वारा वीर सावरकर और गांधी जी पर दिये गए बयान पर पलटवार किया और कहा कि उनका बयान पूरी तरह से गलत है।

javed akhtar, javed akhtar article
मशहूर लेखक जावेद अख्तर (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने बीते दिन एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गांधी जी और वीर सावरकर को लेकर एक बयान दिया था, जिससे वह सुर्खियों में आ गए हैं। राजनाथ सिंह ने कहा था कि वीर सावरकर ने गांधी जी के कहने पर ही अंग्रजों के सामने माफी याचिका लगाई थी। उनकी इस बात पर अब मशहूर लेखकर और गीतकार जावेद अख्तर ने भी तंज कसा है। जावेद अख्तर ने राजनाथ सिंह के बयान पर पलटवार करते हुए ट्वीट किये, जिसमें उन्होंने केंद्रीय मंत्री के दावे को पूरी तरह से गलत और बकवास बताया।

जावेद अख्तर ने राजनाथ सिंह के बयान पर तंज कसते हुए लिखा, “वीर सावरकर द्वारा अंग्रेजों के सामने पेश की गईं दो माफी याचिका 1911 और 1913 में लगाई गई थीं (जब वह कालापानी गए थे)। गांधी जी, जो कि दक्षिण अफ्रीका में थे, वह भारतीय स्वतंत्रता अभियान से 1915 में जुड़े थे। तो यह पूरी तरह असत्य है कि उन्होंने गांधी जी के कारण माफी याचिका दायर की थी। बकवास।”

जावेद अख्तर यहीं नहीं रुके, उन्होंने अपने एक ट्वीट में राजनाथ सिंह पर पलटवार करते हुए लिखा, “यह दावा करते हुए कि सावरकर ने गांधी जी की सलाह पर ब्रिटिशों को माफीनामा भेजा था, हमारे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जी गांधी जी से गौरव और शान लेकर सावरकर को देना चाह रहे हैं। लेकिन यह काम नहीं आया।”

जावेद अख्तर के इन ट्वीट को लेकर अब सोशल मीडिया यूजर भी खूब कमेंट कर रहे हैं। निखिल यादव नाम के यूजर ने जावेद अख्तर के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, “उन्हें विनायक सावरकर को न्यायसंगत ठहराने के लिए गांधी जी की जरूरत है। लेकिन उसी समय वे गांधी जी की जयंती पर गोडसे अमर रहे ट्रेंड करते हैं। भाजपा के पास राजनाथ सिंह के बयान को पुष्ट करने के लिए कुछ नहीं है।”

डॉक्टर अरविंद नाम के यूजर ने जावेद अख्तर के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, “श्रीमान सारवकर जी एक व्यस्क और परिपक्व व्यक्ति थे। मुझे उम्मीद है कि गांधी जी ने उन्हें दया की अपील करने की सलाह नहीं दी थी।”

एक यूजर ने जावेद अख्तर के ट्वीट पर चुटकी लेते हुए लिखा, “मुझे लगता है कि आप देश में बने राजनैतिक वातावरण को समझ पाने में असमर्थ हैं।”

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट