ताज़ा खबर
 

‘एक हाथ से गाना लिखते हो और दूसरे से आतंकियों का समर्थन, शर्म नहीं आती?’, जावेद अख़्तर ने किया विक्रम बत्रा को याद तो ट्रोल पड़ गए पीछे

Javed Akhtar: ताजा मामला जावेद अख्तर के एक ट्वीट से जुड़ा है, जिसको लेकर ट्रोल्स उनकी खिंचाई कर रहे हैं और देशभक्ति का पाठ पढ़ा रहे हैं...

Javed Akhtar, Javed Akhtar remembered Vikram Batra, Bollywood Lyricist Javed Akhtar,गीतकार जावेद अख्तर

Javed Akhtar, Captain Vikram Batra, Kargil War Hero: गीतकार जावेद अख्तर तमाम समसामयिक मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखने के लिए जाने जाते हैं। इसके लिए कई बार उन्हें आलोचना और ट्रोल्स का सामना भी करना पड़ता है। ताजा मामला उनके एक ट्वीट से जुड़ा है, जिसको लेकर ट्रोल्स उनकी खिंचाई कर रहे हैं। दरअसल, जावेद अख्तर ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने शहीद विक्रम बत्रा को याद करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की। जावेद ने अपने ट्वीट में लिखा- ‘ विक्रम बत्रा की आज 21वीं एनिवर्सिरी है, भारत माता का लाल… हमारे महान शहीद जवान… मैं उन्हें फिल्म एलओसी से एक गाना डेडिकेट करता हूं- एक साथी और भी था..।’

जावेद अख्तर के इस पोस्ट पर यूजर्स ने कमेंट करना शुरू कर दिया और उन्हें देशभक्ति का पाठ पढ़ाने लगे। एक यूजर ने लिखा- अभी भी प्रमोशन कर रहे हो…हर जगह अपनी दुकान खोल लेते हो। तो किसी ने कहा- ‘खिलजी को अपना मानने वाले देशभक्त नहीं होते।’ तो कोई बोला -अरे भाई अपनी दुकान आगे बढ़ाओ। एक ने कहा- ‘आप सीएए के खिलाफ थे। कमाल है। तो कोई बोला- ‘देश भक्ति गाने से कोई देशभक्त नहीं होता दिल से रहना पड़ता है।’ एक यूजर ने शहीद विक्रम बत्रा को श्रद्धांजलि दी- ‘असाधरण वीर हमारे गौरव कैप्टन विक्रम बत्रा की पुण्यतिथि पर सादर नमन।’ तो किसी ने कहा- ‘ तुम ना गाने लिख सकते ना देश सेवा कर सकते हो।’

एक यूजर ने कहा- ‘तुमसे तो देशभक्ति का सर्टिफिकेट नहीं चाहिए उन्हें… समझे।’ किसी ने कहा- ‘यंहा भी promotion करना खुद का, खुलकर कहो दुकान नहीं चल रही है।’ एक अन्य यूजर बोल पड़ा- ‘एक हाथ से तुम देशभक्ति गीत लिखते हो, दूसरे हाथ से टेरेरिज्म को सपोर्ट करते हो? ये बॉलीवुड है।’

एक यूजर ने जावेद की तरफदारी करते हुए कहा- सर आपको देशभक्ति साबित करते-करते उम्र निकल जाएगी। तो किसी ने कहा- ‘गेट लॉस्ट।’ एक यूजर ने लिखा-‘बॉलीवुड में सिर्फ दिखावा है, रियल पैट्रियोटिज्म किसी के मन में नहीं है।’

बता दें, 1999 के करगिल युद्ध में जाबांज कैप्टन विक्रम बत्रा ने 16,000 फीट की ऊंचाई पर दुश्मन से लोहा लिया था। दुश्मन से बहादुरी से भिड़ते हुए देश के लिए उन्होंने अपने प्राण गंवाए थे। जाने से पहले विक्रम बत्रा ने कहा था, ‘या तो मैं जीत का भारतीय तिरंगा लहराकर लौटूंगा या उसमें लिपटा हुआ आऊंगा, पर इतना तय है कि आऊंगा जरूर।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Birthday Special: ऋषि कपूर की गर्लफ्रेंड को मनाने के लिए नीतू लिखती थीं लव लेटर, पढ़ें- दिलचस्प किस्सा
2 ‘हर बात पर नेहरू-गांधी परिवार को कोसना बंद करिये, ये ब्लेम गेम ठीक नहीं’, शत्रुघ्न सिन्हा ने दी नसीहत; आने लगे ऐसे कमेंट
3 बॉलीवुड पर बोले अन्नू कपूर- इंडस्ट्री से फेयर प्ले की उम्मीद करना मूर्खों के स्वर्ग में रहने जैसा
ये पढ़ा क्या?
X