पंजशीर घाटी में इंटरनेट बंद और करनाल में भी, संयोग या प्रयोग? कांग्रेस नेता ने पूछा सवाल तो बॉलीवुड डायरेक्टर ने दिया ये जवाब

श्रीनिवास बी वी ने अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी का हवाला देते हुए कहा कि वहां भी इंटरनेट बंद है और करनाल में भी, ये संयोग है या प्रयोग।

karnal mahapanchayat, vinod kapri, srinivas b v
करनाल महापंचायत में जमा किसान (Photo-File)

मंगलवार को करनाल में किसान महापंचायत के मद्देनजर इंटरनेट सेवाएं बाधित रहीं। करनाल के आसपास के 4 जिलों में भी मोबाइल इंटरनेट सेवा दोपहर 12:30 से लेकर मंगलवार आधी रात बंद थी। इसी बात को लेकर यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी ने सवाल उठाया है। उन्होंने अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी का हवाला देते हुए कहा कि वहां भी इंटरनेट बंद है और करनाल में भी, ये संयोग है या प्रयोग।

उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से बुधवार को ट्वीट किया, ‘पंजशीर घाटी में भी इंटरनेट बंद है और करनाल में भी इंटरनेट बंद किया हुआ है। संयोग का प्रयोग?’

कांग्रेस नेता के इस सवाल का बॉलीवुड डायरेक्टर विनोद कापड़ी ने जवाब दिया है। उन्होंने श्रीनिवास बी वी के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘कानून और व्यवस्था की चिंता करने वालों को कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए ऐसे कदम मजबूरी में उठाने पड़ते हैं।’

विनोद कापड़ी के इस जवाब पर ट्विटर यूजर्स भी अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। संदीप कुमार नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘क्या इस पूर्ण बहुमत वाली सरकार में एक भी ऐसा काबिल नेता नहीं है जो किसानों के साथ बैठकर उनकी परेशानियों का हल निकाल सके?’ वहीं हासिम खान नाम के एक यूजर ने विनोद कापड़ी से सवाल पूछा, ‘आपके कहने का मतलब पंजशीर वैली में इंटरनेट बंद करना सही है?’

खानूबेद नाम के एक यूजर ने विनोद कापड़ी को जवाब दिया, ‘सर जी कश्मीर में इंटरनेट कई दिनों से बंद था। कर्फ्यू लगा हुआ था। आज तो पत्रकारों के घर पर छापा भी पड़ा है। लेकिन आपको क्या इससे।’ संजीव कुमार नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘कश्मीर में दो साल बंद रहा और शायद अब भी कुछ जगहों पर बंद होगा।’

बता दें, पंजशीर घाटी में तालिबान ने इंटरनेट सुविधाओं पर पाबंदी लगाई है। पंजशीर घाटी अफगानिस्तान का एकमात्र इलाका था जिस पर तालिबान अधिकार नहीं कर पाया था। बीते सोमवार को तालिबान ने दावा किया कि वो अब पंजशीर घाटी पर भी कब्जा कर चुका है। हालांकि तालिबान के विरोधी धरे, नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट के नेता अहमद मसूद ने कहा है कि तालिबान के खिलाफ उनकी जंग जारी है और आगे भी रहेगी।

पंजशीर घाटी में इंटरनेट सेवाओं की बहाली को लेकर अभी कोई खबर सामने नहीं आई है जबकि तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा था कि घाटी में बिजली और इंटरनेट की बहाली जल्द हो जाएगी।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।