ताज़ा खबर
 

कॉरपोरेट कंपनियों ने शुरू किया गठबंधन का दौर

बॉलीवुड के निर्माताओं पर इन दिनों चाहे भाई भतीजावाद के आरोप लग रहे हों और जमकर उनकी आलोचना की जा रही हो मगर एक बात साफ है और वह यह है कि एकाध को छोड़कर बड़े और नामी निर्माता अकेले फिल्में नहीं बना रहे हैं। चाहे करण जौहर हों, साजिद नाडियाडवाला हों, सलमान खान हों या स्थापित कॉरपोरेट कंपनियां, सभी किसी न किसी से गठबंधन कर ही फिल्में बना रहे हैं।

आदित्‍य चौपड़ा।

बॉलीवुड के निर्माता सौ-दो सौ करोड़ की फिल्म अकेले बनाने में सक्षम हैं बावजूद इसके वे मिलजुल कर फिल्में बना रहे हैं। सलमान खान 25-50 करोड़ की ‘कागज’ अकेले बना सकते हैं, मगर वे सतीश कौशिक के साथ मिलकर इसे बनाते हैं। सलमान ‘राधे’ जी स्टूडियो के साथ मिलकर बनाते हैं। करण जौहर ‘लाइगर’ बनाने के लिए पुरी जगन्नाथ को साथ जोड़ते हैं। कपिल देव पर बनने वाली ‘83’ में साजिद नाडियाडवाला इसके निर्देशक कबीर खान और दीपिका पाडुकोन को भी निर्माता बना लेते हैं।

बॉलीवुड में पैसों की आवक बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। फिल्म निर्माण में अनुभवहीन कॉरपोरेट कंपनियों ने फिल्म निर्माता-निर्देशकों को पकड़-पकड़ कर गठबंधन कर डाला है। अनुभव तुम्हारा, पैसा हमारा। यानी सबका साथ सबका विकास। तो हो यह रहा है कि जिन सहायक निर्देशकों को दस-दस साल निर्देशक बनने में लग जाते थे, वे एक दो फिल्मों के बाद निर्देशक बनाए जा रहे हैं।

यश चोपड़ा की कंपनी ने तो दर्जनों सहायक निर्देशकों को निर्देशक बना दिया और जरूरत पड़ी तो निर्माता भी (थोड़ा प्यार थोड़ा मैजिक- कुणाल कोहली, जयेशभाई जोरदार- मनीष शर्मा)। जब तक यश चोपड़ा जिंदा थे, उनके सहायकों को निर्देशन (रमेश तलवार-दूसरा आदमी, नूरी-मनमोहन कृष्ण, नाखुदा-दिलीप नायक) के मौके मिले मगर यशराज में किसी को निर्माता नहीं बनाया था। उनके बेटे आदित्य चोपड़ा ने अपने निर्देशकों को निर्माता बना कर उनका विकास भी कर दिया। 2014 तक अकेले फिल्म बनाते आ रहे साजिद नाडियाडवाला इन दिनों खूब गठबंधन कर रहे हैं। वे यू टीवी के साथ ‘किक 2’, फॉक्स स्टार स्टूडियो के साथ ‘तड़प’, जी स्टूडियो के साथ ‘बच्चन पांडे’ बना रहे हैं।

साजिद इम्तियाज अली के साथ ‘हाइवे’ और करण जौहर के साथ मिलकर ‘2 स्टेट्स’ बना चुके हैं। हालत यह है कि यशराज फिल्म्स को छोड़ दें, तो शायद ही कोई निर्माता इस समय अकेले फिल्म बना रहा है। इसके पीछे एक गणित यह भी है कि मिलकर फिल्म बनाने से जोखिम और नुकसान बंट जाता है।

आज गठबंधन के दौर में टी सीरीज ने आदित्य चोपड़ा, करण जौहर, सलमान खान, शाहरुख खान, साजिद नाडियाडवाला जैसे नामी निर्माताओं को कोसों पीछे छोड़ दिया है। टी सीरीज में गुलशन कुमार के बेटे भूषण कुमार गठबंधन कर एक साथ 20 से ज्यादा फिल्में बना रहे हैं जिनमें नामीगिरामी कलाकार हैं। शायद ही कोई हीरो-हीरोइन हो जिसने टी सीरीज की फिल्में नहीं की हों। अमिताभ बच्चन से लेकर अक्षय कुमार तक, रणवीर कपूर के लेकर रणवीर सिंह तक सभी टी सीरीज की फिल्मों में काम कर रहे हैं। कॉरपोरोट कंपनियां आर्इं और सबको गठबंधन से बांध दिया।

Next Stories
1 कई फिल्मों को विवाद का सामना करना पड़ रहा है
2 हमारा कोई मैच नहीं है- कपिल शर्मा को स्टेज पर देख बोल पड़े थे करण जौहर, जानें क्या था मामला
3 आर्टिकल 370 को बहाल किया जाना चाहिए- कश्मीर को लेकर बोल पड़े कांग्रेस नेता तो संबित पात्रा ने यूं दिया जवाब
यह पढ़ा क्या?
X