ताज़ा खबर
 

फिल्म निर्माताओं के इस संगठन ने पाकिस्तानी कलाकारों को किया बैन

फिल्म निर्माताओं के संगठन ‘इंडियन मोशन पिक्चर्स एसोसिएशन’ (इम्पा) ने एक प्रस्ताव पारित कर उरी हमले की पृष्ठभूमि में पाकिस्तानी कलाकारों के हिंदी फिल्म उद्योग में काम करने पर रोक लगा दी।

Author मुंबई | September 30, 2016 12:06 AM

फिल्म निर्माताओं के संगठन ‘इंडियन मोशन पिक्चर्स एसोसिएशन’ (इम्पा) ने एक प्रस्ताव पारित कर उरी हमले की पृष्ठभूमि में पाकिस्तानी कलाकारों के हिंदी फिल्म उद्योग में काम करने पर रोक लगा दी। इम्पा के अध्यक्ष और निर्माता टीपी अग्रवाल ने को बताया, ‘‘इम्पा ने अपनी 87वीं आम सभा में प्रस्ताव पारित किया कि इस संस्था के सदस्य निर्माता किसी पाकिस्तानी कलाकार को अपनी फिल्मोें में नहीं लेंगे।’ फिल्म निर्माता और इम्पा के सदस्य अशोक पंडित ने कहा, ‘‘इम्पा उरी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देता है। यह महसूस किया गया कि इसकी राष्ट्र की तरफ भी जिम्मेदारी है और प्रस्ताव पारित किया गया कि हालात सामान्य होने तक पाकिस्तानी कलाकारों और टेक्नीशियन पर प्रतिबंध रहेगा।’’
इससे पहले राज ठाकरे की पार्टी मनसे ने पाकिस्तानी कलाकारों को 48 घंटे भीतर देश छोड़ने का अल्टीमेटम दिया था।

वहीं दूसरी ओर

सुभाष चंद्रा ने मंगलवार को एक बातचीत के दौरान कहा कि जिंदगी चैनल से कई पाकिस्तानी शो को हटाना दुर्भाग्यपूर्ण होगा लेकिन उन्होंने कहा कि प्यार एक तरफा नहीं हो सकता। सुभाष चंद्रा ने कहा कि उन्होंने फवाद खान, माहिरा खान, अली जफर, राहत फतेह अली खान, आतिफ असलम, वीना मलिक और अन्य पाकिस्तानी कलाकारों को सोते हुए जवानों पर किए गए आतंकवादी हमले की केवल निंदा करने को कहा था। चंद्रा ने कहा, लेकिन किसी ने भी यह नहीं किया। हमने पाकिस्तान का नाम भी लेने को नहीं कहा था, लेकिन उन्होंने फिर भी ऐसा नहीं किया। ऐसे में क्या किया जाए।

चंद्रा ने कहा, अगर आप लड़ना चाहते हैं तो सामने आकर लड़ें, सोते हुए जवानों पर हमला क्यों कर रहे हैं? लिहाजा यही वजह है कि अब चंद्रा ने पाकिस्तानी सीरियल नहीं दिखाने का फैसला लिया है। आपको बता दें कि जिंदगी चैनल 300 घंटे के प्रोगाम्स के लिए करीब 60 करोड़ रुपए की कीमत अदा कर चुका है, बावजूद इसके चंद्रा ने यह फैसला लिया है। लेकिन चंद्रा का कहना है कि उनके लिए पैसा से ज्यादा देश का गौरव और भारतीय लोगों की भावनाएं ज्यादा महत्वूपर्ण हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App