scorecardresearch

न धर्मेंद्र न कोई और…जानिये किसके कहने पर राजनीति में आई थीं हेमा मालिनी

हेमा मालिनी अपने पॉलिटिकल करियर की शुरुआत का श्रेय विनोद खन्ना को देती हैं।

न धर्मेंद्र न कोई और…जानिये किसके कहने पर राजनीति में आई थीं हेमा मालिनी
हेमा मालिनी। (फाइल फोटो- द इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड की ‘ड्रीम गर्ल’ हेमा मालिनी (Hema Malini) का सिनेमा से सियासत तक का सफर दिलचस्प रहा है। हालांकि बहुत कम लोग जानते हैं कि हेमा कभी राजनीति में नहीं आना चाहती थीं। उत्तर प्रदेश की मथुरा सीट से सांसद हेमा को राजनीति में आने की सलाह न तो उनके पति धर्मेंद्र ने दी थी और न ही परिवार के किसी और शख़्स ने कोई सुझाव दिया था। बल्कि हेमा को राजनीति का रास्ता दिखाने वाले शख़्स विनोद खन्ना थे। साल 2017 में जब विनोद खन्ना का निधन हुआ तो उनका जिक्र करते हुए हेमा मालिनी इमोशनल हो गई थीं। इसी दरम्यान उन्होंने बताया था कि वे किस तरह विनोद खन्ना की कर्जदार हैं।

कैसे हुई शुरुआत? साल था 1998 में। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने पंजाब की गुरदासपुर सीट से मशहूर अभिनेता विनोद खन्ना को मैदान में उतारा। खन्ना, ने सालभर पहले ही बीजेपी ज्वाइन की थी। सिनेमा-आध्यात्म के बाद उन्होंने सियासत के रूप में तीसरा रास्ता चुना। विनोद और हेमा मालिनी ने साथ कई फिल्मों में काम किया था। दोनों अच्छे दोस्त थे। चुनाव का ऐलान हुआ तो विपक्षियों ने गुरदासपुर में ”बंबई का बाबू” कहते हुए विनोद खन्ना के खिलाफ माहौल बनाना शुरू कर दिया। इसी दौरान विनोद को हेमा मालिनी की याद आई।

वरिष्ठ पत्रकार और लेखक रशीद किदवई अपनी किताब ‘नेता-अभिनेता: बॉलीवुड स्टार पावर इन इंडियन पॉलिटिक्स’ में हेमा मालिनी के हवाले से लिखते हैं, ‘हेमा राजनीति के बारे में कुछ भी मालूम नहीं था…यहां कैसे काम होता। एक दिन विनोद खन्ना का फोन आया। उन्होंने कहा- मैं गुरदासपुर से चुनाव लड़ रहा हूं। मैं चाहता हूं तुम मेरा चुनाव प्रचार करो…। मैंने तुरंत मना कर दिया, क्योंकि मुझे सियासत के बारे में जरा भी जानकारी नहीं थी।’

हेमा मालिनी ने मां से ली सलाह: विनोद खन्ना को इनकार करने के बाद हेमा मालिनी अपनी मां के पास पहुंचीं। उन्होंने विनोद से फोन पर हुई बातचीत के बारे में बताया। इस पर एक्ट्रेस की मां ने कहा कि विनोद खन्ना उनके (हेमा के) अच्छे दोस्त हैं, इस नेता उन्हें चुनाव प्रचार में जरूर जाना चाहिए। बकौल हेमा मालिनी, यहीं से मेरे पॉलिटिकल करियर की शुरुआत हुई। इसका श्रेय विनोद खन्ना को दे सकते हैं।

आपको बता दें कि हेमा मालिनी उत्तर प्रदेश की मथुरा सीट से सांसद हैं। उन्होंने साल 2019 के चुनाव में लगातार दूसरी बार इस सीट पर जीत दर्ज की। वहीं, अब लोकसभा में गुरदासपुर सीट की नुमाइंदगी उनके बेटे सनी देओल करते हैं।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट