हेमा मालिनी संभाल लेती हैं- जब पॉलिटिक्स को लेकर हेमा से धर्मेंद्र की हुई थी तुलना, लेजेंड ने दिया था ये जवाब

धर्मेंद्र के अलावा पत्नी हेमा मालिनी भी बीजेपी की स्टार प्रचारक और बाद में सांसद बन गईं। ऐसे में राजनीति के क्षेत्र में हेमा मालिनी संग उनकी तुलना भी हुई।

Hema Malini, Dharmendra, हेमा मालिनी, धर्मेंद्र, Hema Malini
हेमा मालिनी और धर्मेंद्र (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

हिंदी सिनेमा के सुपरस्टार रहे धर्मेंद्र का सितारा जिस तरह से फिल्म इंडस्ट्री में चमका, राजनीति के क्षेत्र में वैसा कुछ धर्मेंद्र न कर सके। धर्मेंद्र ने खुद इस बात को कबूल किया था कि उनका मन राजनीति में नहीं लगा था। धर्मेंद्र ने एक इंटरव्यू में कहा था कि हालांकि वह अपने हिस्से का काम किया करते थे लेकिन कहा गया कि उन्होंने अपने क्षेत्र में कुछ काम नहीं किया।

एक्टर धर्मेंद्र ने एक बार ऐसा भी कहा था कि ‘एक्टर को भी राजनीति में नहीं आना चाहिए।’ धर्मेंद्र के अलावा पत्नी हेमा मालिनी भी बीजेपी की स्टार प्रचारक और बाद में सांसद बन गईं। ऐसे में राजनीति के क्षेत्र में हेमा मालिनी संग उनकी तुलना भी हुई।

ऐसे ही एक बार द आरकेबी शो में एंकर ने धर्मेंद्र से सवाल किया था – ‘जब भी आप पर अटैक होता है कुछ होता है तो दो मिनट में आपके चेहरे पर शिकन दिखती है। अगर हेमा जी की बात करें तो उन्हें प्रेशर अच्छे से लेना आता है, उनके चेहरे पर नजर नहीं आता। वह स्माइल करना नहीं छोड़तीं।’

इस पर धर्मेंद्र ने जवाब दिया था- ‘मुझे लगता है कि औरतें बहुत स्ट्रॉन्ग होती हैं। मेरे ऊपर होता है ऐसे अटैक, ये नहीं होता वो नहीं होता काम नहीं होता, ऐसे बोलते हैं। मैंने अपने साथ ऐसे ऐसे लोग जोड़े हैं जो वहां कि हर बात से वाकिफ हैं। जहां फोड़ा फिंसी भी हो तो वो भी मुझे आकर बताते हैं। वो उसका इलाज भी बताते हैं और मैं उसे करता हूं। मेरा जो फर्ज बनता है वो मैं करता रहूंगा औऱ इसके लिए मुझे कोई क्रेडिट नहीं चाहिए।’

बता दें, धर्मेंद्र साल 2004 में बीकानेर से बीजेपी सांसद के तौर पर चुने गए थे। लेकिन इस दौरान उनका मन राजनीति में नहीं लगा। धर्मेंद्र राजनीति से परेशान हो गए थे। ऐसे में साल 2008 में उन्होंने कहा था,’मैं ये नहीं कहूंगा कि राजनीति में आना मेरी एक गलती थी। बस ये है कि एक कलाकार को हमेशा कलाकार रहना चाहिए क्योंकि जैसे ही आप राजनेता बनते हैं, लोगों का प्यार बंट जाता है। वो आपको अलग नजरिए से देखने लगते हैं।’

धर्मेंद्र ने 17 अप्रैल 2004 को आजतक से बात करते हुए एक बार कहा था, ‘मुझे बीजेपी की फिलॉसिफी के बारे में बिल्कुल नहीं पता था। मुझे सिर्फ इतना पता है कि अगर मैं पांच साल तक तानाशाह होता तो ये सब ‘गंदगी’ साफ कर देता।’

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट