scorecardresearch

हेमा मालिनी ने किसानों पर उठाए सवाल तो कुमार विश्वास ने मारा ताना, लोग भी करने लगे कमेंट्स

कुमार विश्वास ने ट्वीट करते हुए लिखा है,’उनकी अपील है कि उन्हें हम मदद करें,चाकू की पसलियों से गुज़ारिश तो देखिये..’

हेमा मालिनी ने किसानों पर उठाए सवाल तो कुमार विश्वास ने मारा ताना, लोग भी करने लगे कमेंट्स
कुमार विश्वास ने किसानों पर सवाल उठाने को लेकर हेमा मालिनी पर कसा तंज

25 नवंबर से देश के किसान नए कृषि बिलों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने नए कृषि बिलों पर रोक लगा दी थी पर किसान संगठन बिलों को वापसी लेने पर अड़े हैं। किसान आंदोलन पर बॉलीवुड से लेकर राजनीतिक दुनिया तक तरह-तरह की प्रतिक्रिया देखने को मिल रही हैं। बॉलीवुड अभिनेत्री हेमा मालिनी ने कहा कि किसानों को कृषि बिलों की दिक्कतों के बारे में जानकारी नहीं है। इसे लेकर मशहूर कवि कुमार विश्वास ने हेमा मालिनी पर ताना मारा है।

कुमार विश्वास ने ट्वीट करते हुए लिखा है,’उनकी अपील है कि उन्हें हम मदद करें,चाकू की पसलियों से गुज़ारिश तो देखिये।’  कुमार विश्वास के इस ट्वीट पर यूजर्स की तरह-तरह की प्रतिक्रिया देखने को मिल रही हैं।

एक ट्विटर यूजर ने लिखा है,’खेत-खलिहान में जब हल की जगह राजनैतिक हलक बोलने लगें तो किसानों को संसद में बैठे बुद्धिजीवियों को ये बता देना चाहिए कि ये देश आज भी कृषि प्रधान देश है।’ आरके शर्मा नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा है,’किसान हमारे देश की आत्मा हैं। लेकिन किसान आंदोलन की आड़ में कुछ लोग हमारे देश में षडयंत्र कर रहे हैं। सरकार की बात नहीं मानी कोई नहीं, लेकिन अब देश की सर्वोच्च अदालत की अवेलहना कर रहे हैं। ये किसी लोकतांत्रिक देश के लिए अच्छा नहीं है। अब तो सब समझ से परे है।’

सुधांशु प्रकाश नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा है,’एक कवि किसान,विदेश नीति,अर्थशास्त्र सब पर बोल सकता है लेकिन एक कलाकार बोले तो अपराध है। खुद को बुद्धिमान समझने की गलती तो सब करते हैं।’ वीरेंद्र राठौड़ नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा है,’हैरत ये भी है कि इनके पतिदेव धर्मेंद्र जी किसानों की समर्थन में हैं और देवी जी का बयान देख लो… सीधा-सा अर्थ है कि सरकारी दवाब में हैं।’

शिवम दर्वेश नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा है,’गेहूं काटने का फोटो वाले किसान असली किसानों को समझा रहे हैं.. पता नहीं क्यों लोग कुर्सी पर पहुँचकर भूल जाते हैं कि आपकी कुर्सी इन्हीं लोगों की वजह से है।’ पंकज श्रीवास्तव नाम की ट्विटर यूजर ने लिखा है,’लच्छेदार भाषा में फंसा कर दोनों तरफ की मलाई खाने की कला कोई आपसे सीखे।’ भानु नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा है,’जब सरकार किसानों की अधिकतर मांगों का संशोधन करने के लिए मान गई है तो अब किसान क्यों बिल वापिस लेने के लिए अड़े हैं। सरकार इतने दिनों से प्रयास कर रही हैं लेकिन नहीं, लोग आंदोलन के नाम पर सड़क,बॉर्डर रोककर अपना संवैधानिक अधिकार बोल रहे हैं।’

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.