ताज़ा खबर
 

हैप्पी बर्थडे परेश रावल: कमाल हैं ‘बाबूराव’ के ये वनलाइनर्स, इन्हें और खास बनाया इस एक्टर के अंदाज ने

बॉलीवुड एक्टर परेश रावल का नाम सुनते ही दिमाग में उनके अलग-अलग किरदार आने लगते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने कॉमेडी से लेकर डरावने और स्वीट एंड संस्कारी रोल भी किए हैं।

Author Published on: May 30, 2017 10:52 AM
हैप्पी बर्थडे परेश रावल।

बॉलीवुड एक्टर परेश रावल का नाम सुनते ही दिमाग में उनके अलग-अलग किरदार आने लगते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने कॉमेडी से लेकर डरावने और स्वीट एंड संस्कारी रोल भी किए हैं। आज यानी 30 मई को बॉलीवुड की इस बेमिसाल हस्ती का जन्मदिन है। परेश रावल के जन्मदिन के मौके पर आज हम उनकी फिल्मों के कुछ वनलाइनर्स आपको बताने वाले हैं। जिन्हें हम अकसर दोहराते हैं और उस किरदार को याद करते हैं।

एक लंबी सफल पारी खेल चुके परेश रावल आज भी इंडस्ट्री में उतने ही एक्टिव हैं। फिलहाल वह संजय दत्त की बायोपिक में सुनील दत्त का किरदार निभा रहे हैं। इस फिल्म में रणबीर कपूर संजय दत्त की रोल में हैं। इसके अलावा वह सलमान खान की फिल्म टाइगर जिंदा है में भी काम कर रहे हैं। वहीं आखिरी बार वह फिल्म वेलकम बैक में डॉक्टर घुंघरू के किरदार में नजर आए थे।

परेश रावल ने अपनी कॉमेडी टाइमिंग से कॉमेडी रोल्स में एक खास जगह बनाई है। फिल्म हेरा-फेरी में बाबुराव बने परेश रावल ने दर्शकों के दिमाग में एक छाप छोड़ दी। यही वजह है कि उनके उस किरदार को लोग आज भी याद करते हैं और उनके कहे वनलाइनर्स को इस्तेमाल करते हैं।

1- कौवा कितना भी वाशिंग मशीन में नहा ले…बगुला नहीं बनता।

2- उठा ले रे बाबा, उठा ले…मेरेको नहीं रे, इन दोनों को उठा ले।

3- चालीस साल की शादीशुदा जिंदगी के बाद भागवान…पति पत्नी को सिर्फ गोली मार सकता है…सीटी नहीं।

4- अगर सुबह-सुबह सनडास जाना है तो सिंगर बनना पड़ेगा।

5- जहां धर्म है ना वहां सत्य के लिए जगह नही है और जहां सत्य है वहां धर्म की जरूरत ही नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Video: अवार्ड फंक्शन में जाते हुए सीढ़ियों पर फंसी सीरियल इश्कबाज की हीरोइन सुरभि चंदना की ड्रेस
2 सलमान खान ने बचाया कपिल शर्मा के शो को ऑफ एयर होने से!
3 सत्तरवें कान फिल्म समारोह: मंटो-सच बोलने का साहस