ताज़ा खबर
 

Birthday Special: बनना था टेक्नीशियन और बन गए बॉलीवुड एक्टर

40 और 50 के दशक में अपने काम का लोहा मनवाने वाले अशोक कुमार का आज जन्मदिन है।

Author मुंबई | October 14, 2015 10:27 AM

40 और 50 के दशक में अपने काम का लोहा मनवाने वाले अशोक कुमार का आज जन्मदिन है। अशोक कुमार एक एक्टिंग के साथ-साथ पेंटर और होमियोपैथी की प्रैक्टिस भी किया करते थे।

अशोक कुमार ने ‘अछूत कन्या’, ‘हावड़ा ब्रिज’, ‘किस्मत’, ‘आशीर्वाद’, ‘संग्राम’, ‘समाधी’, ‘बंदिनी’, ‘चित्रलेखा’, ‘जेवेल थीफ’, ‘पाकीजा’, ‘छोटी सी बात’, ‘खूबसूरत’, ‘मिली’ जैसी बेहतरीन फिल्मों में काम किया।

उन्होंने 275 से भी ज्यादा फिल्मों और 30 से ज्यादा बंगाली ड्रामा में भी काम किया। आइए अशोक कुमार साहब के बारे में जानते हैं कुछ खास बातें।

1. अशोक कुमार का जन्म 13 अक्टूबर 1911 को भागलपुर बिहार में हुआ था।

2. जन्म के वक्त इनका नाम ‘कुमुदलाल गांगुली’ था और फिल्म इंडस्ट्री में प्यार से लोग इन्हें ‘दादामुनि (बड़ा भाई)’ भी कहते थे।

3. अशोक कुमार के पिता कुंजलाल गांगुली एक वकील थे और उनकी मां घरेलू महिला थी। अशोक घर के बड़े लड़के थे उनके बाद उनकी बहन सती देवी फिर भाई किशोर कुमार और अनूप कुमार थे।
4. अशोक कुमार का बचपन से ही फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का सपना था लेकिन एक्टर के रूप में नहीं बल्कि टेक्नीशियन के रूप में।

5. उन दिनों अशोक कुमार के बहनोई सशाधर मुखर्जी मुंबई में ‘बॉम्बे टॉकीज’ में ऊंचे पद पर काम किया करते थे, जिसकी वजह से अशोक कुमार मुंबई आ गए और बॉम्बे टॉकीज में ही ‘लैब असिस्टेंट’ के रूप में काम करने लगे।

6. साल 1936 की बॉम्बे टॉकीज के अंतर्गत बन रही फिल्म ‘जीवन नैया’ की शूटिंग शुरू होने से पहले ही उसके लीड एक्टर्स देविका रानी और नजमुल हसन के बीच मतभेद हो गए, जिसकी वजह से फिल्म के प्रोड्यूसर हिमांशु राय ने नजमुल की जगह कुमुदलाल (अशोक कुमार) को फिल्म में बुलाया हालांकि फिल्म के डायरेक्टर इस बात से नाखुश थे, लेकिन फिर भी हिमांशु ने उन्हें फिल्म में लिया और पहली बार कुमुदलाल गांगुली का स्क्रीन नाम ‘अशोक कुमार’ रख दिया गया क्योंकि उन दिनों एक्टर्स अपने असली नाम को पर्दे पर नहीं उजागर करते थे।

7. फिर देविका रानी के साथ अशोक कुमार ने 1936 की ‘अछूत कन्या’ और उसके बाद ‘जन्मभूमि’, ‘इज्जत’, ‘सावित्री’, ‘वचन’, और ‘निर्मला’ जैसी फिल्में भी की।

8. उन दिनों 40 के दशक में अशोक कुमार ने एक्ट्रेस ‘लीला चिटनीस’ के साथ ‘कंगन’, ‘बंधन’, ‘आजाद’ और ‘झूला’ जैसी फिल्में की, और झूला के बाद अशोक कुमार फिल्म इंडस्ट्री के सबसे विश्वसनीय सितारे बन गए।

9. साल 1943 की फिल्म ‘किस्मत’ ने उन दिनों बॉक्स ऑफिस के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए और हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की पहली फिल्म बन गई जिसने 1 करोड़ रुपये की कमाई को पार किया था और रातों रात अशोक कुमार ‘सुपरस्टार’ बन गए थे।

10. साल 1988 में अशोक कुमार को ‘दादा साहेब फाल्के’ अवॉर्ड से सम्मानित किया गया और 1998 में ‘पद्म भूषण’ से नवाजा गया. 90 के दशक में अशोक कुमार ने टीवी पर ‘हम लोग’ नाम का शो भी होस्ट किया। 10 अक्टूबर 2001 को 90 साल की उम्र में अशोक कुमार का हार्ट फेल हो जाने की वजह से देहांत हो गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App