ताज़ा खबर
 

दंगल: फिल्म में नकारात्मक भूमिका के लिए कोच ने दी कानूनी कार्रवाई की धमकी, गीता ने उठाए सवाल

नकारात्मक भूमिका में दिखाए जाने पर कोच ने दी कानूनी कार्रवाई की धमकी।

Author नई दिल्ली | December 28, 2016 03:00 am
गीता फोगट के साथ आमिर खान , साफी तंवर।

सुमन केशव सिंह

एक तरफ जहां फिल्म दंगल बॉक्स आॅफिस पर छाई हुई है और सुर्खियां बटोर रही हैं, वहीं पहलवान महावीर सिंह फोगाट और उनकी दोनों बेटियों की भी चर्चा है। इन सब के बीच फिल्म और राष्ट्रमंडल खेल में पहला स्वर्ण पदक जीतने वाली महिला खिलाड़ी गीता फोगाट से विवाद भी जुड़ते नजर आ रहे हैं। कोच प्यारा राम सोंधी ने गीता के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी दी है। उनका कहना है कि उनकी भूमिका को नकारात्मक तरीके दिखाया गया है। इस बढ़ते विवाद के बीच दोनों बहनों (गीता-बबीता फोगाट) ने बताया कि न तो फिल्म में कोच का नाम लिया गया है और न ही उन्हें आज तक इस बात की जानकारी थी कि आखिर उनके पिता को स्टेडियम के अंदर किसने नहीं घुसने दिया।

उन्होंने कहा, ‘हमें तो यह अब तक मालूम नहीं कि किसने पापा को अंदर आने नहीं दिया? लेकिन ये बात तो सही है कि वो अंदर नहीं आ पाए थे, वो (कोच) केस करने की क्यों सोच रहे हैं? हो सकता है उनके दिमाग में ऐसी कोई बात हो।’ गीता कहती हैं कि अगर उन्होंने उस सीन (फिल्म महावीर सिंह को एक कमरे में बंद कर दिया जाता है) के बारे में सवाल उठाए हैं तो उन्हें इस बात पर भी सवाल बाकी पेज 8 पर उङ्मल्ल३्र४ी ३ङ्म स्रँी 8
उठाना चाहिए कि मेरे पापा को अंदर क्यों नहीं आने दिया जाता था? गीता ने यह भी सवाल उठाया कि जिसने स्वर्ण पदक जीतने के लिए इतनी मेहनत करवाई थी वे लोगों को यह बता रहे थे कि मैं गीता का पापा हूं फिर भी उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया। उसने इस विवाद को लेकर यह भी कहा यह सच है कि उन्हें (महावीर सिंह फोगाट को) अंदर आने की अनुमति नहीं दी जाती थी, यहां तक कि वहां के प्रशासनिक अधिकारी तक को कोच साहब ने इसकी शिकायत पहुंचा दी थी। उसके बारे में भी उन्हें बोलना चाहिए। गीता कहती हैं ‘ट्रेनिंग उन्हें देनी नहीं थी और जब हमारे पापा ट्रेनिंग देने आना चाहते थे तो उन्हें अलाउड नहीं किया जाता था।’

गीता ने बताया कि अगर पापा होते तो शायद हम पहले ही और बेहतर कर जाते। बबीता ने गीता की बात का समर्थन करते हुए कहा कि गीता पहले बाउट में हार गई थी, तब पापा ने इतना गुस्सा किया था कि मैं बता नहीं सकती। उन्होंने कहा था कि आज उन कोचों की जगह मैं होता तो शायद तुम मैच नहीं हारती। गीता ने भी कहा-मुझे भी लगता है कि अगर पापा वहां होते तो शायद मैं मैच नहीं हारती। उनके साथ होने फर्क पड़ता था क्यों कि वो हमें जानते हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App