scorecardresearch

ट्रक के पीछे लिखे जाने वाले कोट्स कब तक लिखते रहोगे- फिल्ममेकर ने धर्म को लेकर लिया ट्वीट तो लोग करने लगे ऐसे कमेंट

विनोद कापड़ी ने ट्विटर पर लिखा कि अ’धर्मियों का आख़िरी हथियार धर्म ही होता है!’ वैसे तो इस ट्वीट में विनोद कापड़ी ने किसी का नाम तो नहीं लिया है लेकिन इसे ज्ञानवापी मस्जिद से जोड़ कर देखा जा रहा है।

AAJTAK, TV Debate, Sweta singh, Babar in Ayodhya, Mahant Raju, Maulana Rashidi, Muslim kings
ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का दृश्य (फोटो- पीटीआई)

ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर शुरू हुए विवाद के बाद विपक्ष के लोग इसे सरकार की साजिश बता रहे हैं। सरकार विरोधी लोग भी सरकार पर हमला कर रहे हैं। लोगों का आरोप है कि भाजपा के लोग धर्म के चंगुल में लोगों को फंसाना चाहते हैं। अब फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने भी इशारों ही इशारों में सरकार पर तंज कसा है।

विनोद कापड़ी ने ट्विटर पर लिखा कि अ’धर्मियों का आख़िरी हथियार धर्म ही होता है!’ वैसे तो इस ट्वीट में विनोद कापड़ी ने किसी का नाम तो नहीं लिया है लेकिन इसे ज्ञानवापी मस्जिद से जोड़ कर देखा जा रहा है। सोशल मीडिया पर लोग विनोद कापड़ी के इस ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

संतोष सिंह परमार नाम के  यूजर ने लिखा कि ‘…और धर्म के नाम पर उन्हीं अधर्मियों ने पूरे विश्व में आतंक मचा रखा है।’ गौरव श्रीवास्तव नाम के यूजर ने लिखा कि ‘जैसे तालिबान, आईएसआईएस, बोको हराम, कश्मीरी मिलिटेंट है ना।’ सौरभ नाम के यूजर ने लिखा कि ‘बेचारा जैसे-तैसे एक ट्वीट करता है, उस पर भी उसके मजे लेने पहुंच जाते हो, क्या चाहते हो आप लोग कि वो खुद ही ब्लॉक करके भाग जाए।’

राजेश नाम के यूजर ने लिखा कि ‘जिस वाक्य का मतलब दूसरों को ना समझा सको, उसे नहीं बोलना चाहिए।’ एक यूजर ने लिखा कि ‘ये ट्रक के पीछे लिखे जाने वाले कोट्स कब तक लिखते रहोगे। कभी लॉजिक और दिमाग का प्रदर्शन भी करो।’ विपिन मिश्रा नाम के यूजर ने लिखा, ‘आप तो हिंदू धर्म मानते ही नहीं तो आपको क्या मतलब धर्म-अधर्म से।’

अजय ठाकुर नाम के यूजर ने लिखा कि ‘तुम्हारी मूर्खता को आस्था का नाम देकर ठग लिया गया है तुम्हें, अब तुम्हारी आस्था का केंद्र, वो ईश्वर नहीं ये धर्म के ठेकेदार हैं।’ कुशल नाम के यूजर ने लिखा कि ‘ISIS, तालिबान,बोकोहरम, TTP, PFI जैसों पर सीधा वार कर रहे हो, मान गए तुम्हारी हिम्मत को!’

अजीत उपाध्याय नाम के यूजर ने लिखा कि ‘इससे ये पता लगता है कि मनुष्य कितना भी भटक जाए परन्तु अपने धर्म को बचाने के लिए हमेशा आगे आता है, सदियों से हिन्दू धर्म से कई टकराए किन्तु विजयी नहीं हो पाएl’ एक यूजर ने लिखा, ‘और कुछ लोगों के लिए पैसा ही धर्म होता है।’ 

बता दें कि ज्ञानवापी मस्जिद के परिसार शिवलिंग मिले के दावे के बाद अदालत ने वजू खाने को सील करने का आदेश दिया था। वहीं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अदालत के आदेश पर मस्जिद का वजू खाना बंद कराए जाने को नाइंसाफी करार देते हुए कहा कि यह पूरा घटनाक्रम सांप्रदायिक उन्माद पैदा करने की एक साजिश से ज्यादा कुछ नहीं है।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट