ताज़ा खबर
 

गंगा किनारे कैमरा वालों को लेकर चले जाइए गंगा पुत्र- नरेंद्र मोदी की पुरानी तस्वीर शेयर कर फिल्ममेकर ने साधा निशाना

उत्तर प्रदेश और बिहार में कोरोना संक्रमित मृतकों की लाशों को गंगा में प्रवाहित करने का मामला सामने आ रहा है। इसी मुद्दे पर फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने नरेंद्र मोदी की एक पुरानी तस्वीर शेयर कर कहा है कि गंगा पुत्र...

नरेंद्र मोदी 2019 में समुद्र किनारे सफाई करते हुए (Photo-Vinod Kapri/Twitter)

भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोनावायरस महामारी से मरने वालों की संख्या 4, 329 दर्ज हुई है जो अब तक एक दिन में दर्ज़ होने वाले मामलों में सर्वाधिक है। पिछले कई दिनों से उत्तर प्रदेश और बिहार में कोरोना संक्रमित मृतकों की लाशों को गंगा में प्रवाहित करने का मामला सामने आ रहा है। गंगा के किनारे रेत में भी बड़ी संख्या में लाशें दफनाई जा रही हैं। इलाहाबाद में गंगा किनारे हजारों की संख्या में लाशें दफनाने की खबरें आ रही हैं। इस मुद्दे पर फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने नरेंद्र मोदी की एक पुरानी तस्वीर शेयर कर उन पर निशाना साधा है।

विनोद कापड़ी ने साल 2019 की नरेंद्र मोदी की एक तस्वीर शेयर की है जिसमें वो तमिलनाडु में समुद्र किनारे पड़े प्लास्टिक और कचरे को उठाकर किनारे की सफाई कर रहे हैं। उस वक्त भी ये तस्वीरें काफी वायरल हुई थी और कई लोगों ने नरेंद्र मोदी की कैमरे के सामने सफाई करने को पीआर बताया था।

इसी तस्वीर को शेयर करते हुए विनोद कापड़ी ने ट्वीट किया, ‘जरा गंगा किनारे कैमरा वालों को ही लेकर चले जाइए, गंगा पुत्र! वहां ज्यादा स्वच्छता की ज़रूरत है।’ आपको बता दें कि नरेंद्र मोदी स्वयं को गंगा पुत्र बताते आए हैं और उनकी सरकार ने गंगा की सफाई के लिए नमामि गंगे प्रोजेक्ट भी शुरू किया है। हालांकि जब गंगा में लाशों के मिलने का मामला सामने आ रहा है तब लोग उनकी आलोचना कर रहे हैं।

 

पोनी जाट नाम से एक यूजर ने नरेंद्र मोदी के बयान को याद करते हुए विनोद कापड़ी को जवाब दिया, ‘बस एक बार वो डायलॉग बोल दो। मेरा सपना है कि हवाई चप्पल वाला हवाई जहाज में चले। मैं गंगा का बेटा हूं, मुझे गंगा ने बुलाया है। जिस आदमी को नदी किनारे बोतलें, कागज तक पड़ा नज़र आता था उसे इतनी लाशें नहीं दिख रहीं।’

 

स्नेहल पटेल ने विनोद कापड़ी को जवाब दिया, ‘सर्जिकल स्ट्राइक के समय आतंकियों की 300 लाशें गिनने वाली मीडिया गंगा किनारे मौजूद देशवासियों की बॉडी की गिनती भूल गई?’

 

शिखर नाम से एक यूजर ने लिखा, ‘समूद्र किनारे कचरा दिख जाता है लेकिन नदी किनारे पड़े शव नहीं दिख रहे।’ निकू नाम से एक यूजर लिखते हैं, ‘चुनाव के समय मां गंगे इनके कान में धीरे से बोलेंगी तब ये जाएंगे।’

Next Stories
1 जब करीना ने सैफ को किया था प्रपोज, एक्टर ने ऐसे किया था रिएक्ट; बेबो को मैम कहकर पुकारा करते थे नवाब साहब; फिर ऐसे आए करीब
2 ‘चलिए काम शुरू करें..’ जब इरफान खान के पास जाकर बोलीं कंगना, लेजेंड एक्टर ने मुंह पर कही थी ये बात; ‘क्वीन’ एक्ट्रेस ने ऐसे किया था रिएक्ट
3 ‘इस तरह की नेतागिरी? भगवान भला करे इनका’ टीवी शो में भड़कीं रूपा गांगुली, ममता बनर्जी पर बरसीं
ये पढ़ा क्या?
X