ताज़ा खबर
 

चौधरी राकेश टिकैत का जब मैसेज मिलेगा, उनसे जरूर मिलूंगा- बोले केंद्रीय मंत्री बालियान, विपक्षी भेजना चाहते हैं दिल्ली

संजीव बालियान ने यूपी के मसूरपुर रोड के पास एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जब राकेश टिकैत का संदेश उन्हें मिलेगा तो वो जरूर उनसे मिलेंगे।

sanjeev balyan, rakesh tikait, farmers protestसंजीव बालियान का कहना है कि वो राकेश टिकैत के कहने पर उनसे जरुर मिलेंगे (Photo-Indian Express/file)

किसान आंदोलन के दौरान किसान नेता राकेश टिकैत के जो आंसू गिरें, उसने आंदोलन को जाट समुदाय के स्वाभिमान की लड़ाई बना दी है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाट समुदाय और खाप पंचायतें किसान आंदोलन का पुरजोर समर्थन कर रही और इससे बीजेपी इन जगहों पर बैकफुट पर आती दिख रही है। इसी समीकरण को ठीक करने की कोशिश में बीजेपी ने अपने जाट चेहरों को यूपी में उतारा और केंद्रीय राज्यमंत्री संजीव बालियान को जनसंपर्क अभियान की कमान सौंपी है। संजीव बालियान उसी खाप पंचायत (बालियान खाप) से हैं जिस खाप से राकेश टिकैत हैं।

इसी क्रम में संजीव बालियान बीजेपी नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ उत्तर प्रदेश की शामली में खाप चौधरियों से मिलने पहुंचे थे। लेकिन इस दौरान उनके समर्थकों और ग्रामीणों के बीच तीखी नोंकझोंक हुई। संजीव बालियान के खिलाफ नारेबाजी भी हुई और सोरम गांव में विरोधियों, समर्थकों के बीच मारपीट का मामला भी सामने आया।

इस घटना पर संजीव बालियान ने कहा है कि ये सब विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय लोक दल और समाजवादी पार्टी की साज़िश है। संजीव बालियान ने यूपी के मसूरपुर रोड के पास एक सभा को संबोधित करते हुए यह भी कहा कि जब राकेश टिकैत का संदेश उन्हें मिलेगा तो वो जरूर उनसे मिलेंगे। वो बोले, ‘चौधरी राकेश टिकैत का जब मैसेज मिलेगा, उनसे जरूर मिलूंगा।’ उनका कहना था कि अपने खाप अगर नाराज़ हैं तो उन्हें मना भी लेंगे।

 

संजीव बालियान का कहना था कि विपक्षी दल चुनाव जीतने के लिए राजनीति कर रहे हैं और वो एक साज़िश के तहत उन्हें दिल्ली भेजना चाहते हैं। संजीव बालियान ने लोगों से कहा कि यह उनका जिला है और यहीं उनका मन लगता है।

राकेश टिकैत के भाई और भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने भी सोरम की घटना पर खेद जताया और कहा कि राज्यमंत्री के आने पर जो हुआ वो गलत हुआ। उन्होंने यह भी कहा कि विरोध करने वाले किसान थे, उन्हें किसी पार्टी से जोड़कर न देखा जाए।

 

इसी बीच राकेश टिकैत ने कहा है कि अगर सरकार कृषि कानून वापस नहीं लेती है तो वो 40 लाख ट्रैक्टर के साथ संसद का घेराव करेंगे। राजस्थान के सीकर में आयोजित किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘कान खोलकर सुन ले दिल्ली, ये किसान भी वहीं हैं और ट्रैक्टर भी वहीं होंगे। अबकी बार आह्वान संसद का होगा। इस बार चार लाख नहीं 40 लाख ट्रैक्टर जाएंगे।’

Next Stories
1 पर्दे पर ओशो बनेंगे रवि किशन, बॉलीवुड के इन दिग्गजों ने असल ज़िंदगी में की है भक्ति; आश्रम में रह टॉयलेट तक किया साफ
2 ‘एक शाह तो दूसरा बादशाह…’ पुण्य प्रसून बाजपेयी ने कसा तंज तो लोग करने लगे ऐसे कमेंट
3 जब शूटिंग पर बियर पीने लगे धर्मेंद्र, मौसमी चटर्जी ने मांगा तो बोले- लस्सी पी रहा हूं; शोले के सेट पर भी हुआ था मजेदार वाकया
आज का राशिफल
X