ताज़ा खबर
 

राकेश टिकैत बोले- पुलिस की हिम्मत है कि ट्रैक्टर रोक दे? लड़ाई देश के लुटेरों से, ट्रैक्टरों में तेल भरवाकर रखना, कभी भी…

राकेश टिकैत ने किसानों से आह्वान किया कि वो आंदोलन करें और रोटी को तिजोरी में बंद होने से रोक लें। उन्होंने कहा कि अबकी बार लड़की देश के लुटेरों से है।

rakesh tikait, kisan mahapanchayat, farmers protestभारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता किसान नेता राकेश टिकैत (Photo- AP/File/Manish Swarup)

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत किसानों को संगठित करने और आंदोलन को देश भर में पहुंचाने के उद्देश्य से जगह जगह किसान महापंचायतों को संबोधित कर रहे हैं। सभाओं के दौरान वो सरकार और कॉरपोरेट्स पर जमकर बरसते दिख रहे हैं और सरकार पर तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का दबाव बना रहे हैं। बुधवार को राकेश टिकैत ने भाजपा के गढ़ आगरा के किरावली में आयोजित एक सभा को संबोधित किया। अपने संबोधन के दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि जमीन बचाने के लिए देश के लुटेरे से लड़ाई लड़नी है।

राकेश टिकैत ने कहा कि पुलिस की हिम्मत नहीं कि वो ट्रैक्टर रोक ले। वो बोले, ‘यहां लोग आ रहे, पुलिस प्रशासन के लोग हैं, पत्रकार बंधु हैं और ट्रैक्टर एक नहीं दिख रहा। पुलिस की हिम्मत है कि वो ट्रैक्टर रोक ले बताओ। पंजाब, हरियाणा के लोगों ने जब दिल्ली के बैरियर तोड़ दिए साढ़े तीन लाख ट्रैक्टर जब दिल्ली में घुसा दिए, यहां आगरा के गांव में भी घुसा सकते हैं। ऐसा नही करना चाहिए। आपने तो ज्यादा गलत काम किया।’

राकेश टिकैत ने कहा कि उनकी लड़की देश के लुटेरों से है, भारत सरकार से नहीं। वो बोले, ‘अगर लड़ाई भारत सरकार से होती तो निबट लेते, लेकिन यह लड़ाई देश के लुटेरों से है। ये देश को लूटने आए हैं। उन्होंने मोबाइल, गाड़ियों और कपड़े का व्यापार किया, सब चीज का व्यापार किया। अब दुनिया में एक नया व्यापार आया है और वो व्यापार है भूख का व्यापार। अनाज तिजोरियों में बंद होगा, दुनिया में भूख पर व्यापार होगा। बड़े बड़े गोदाम बना दिए, चाबी किसी और के पास होगी और अनाज तिजोरियों में बंद होगा।’

 

राकेश टिकैत ने किसानों से आह्वान किया कि वो आंदोलन करें और रोटी को तिजोरी में बंद होने से रोक लें। उनका कहना है कि किसानों ने दिल्ली को करीब 100 दिनों से घेर रखा है लेकिन फिर भी किसान नहीं मान रही। वो आंदोलन को अलग- अलग नाम देने पर लगी है, कभी एक जाति का आंदोलन तो कभी राज्य का आंदोलन बताने पर लगी है।

 

किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘सरकार ने ये कहा है कि ये आंदोलन 2 महीने में खत्म हो जाएगा, किसान अपने घर पर चला जाएगा। अपने ट्रैक्टर में तेल भरवाकर खड़ा कर देना दिल्ली की तरफ़। कभी भी आपकी जरूरत पड़ सकती है और आपका टारगेट बड़ा टारगेट होगा, जब भी दिल्ली का संयुक्त मोर्चा कॉल करेगा।’

Next Stories
1 मेरे ऊपर कर रखे हैं इतने मुकदमे,12 साल रहूंगा तिहाड़ में- बोले राकेश टिकैत, अबकी रोकियो…
2 जॉन अब्राहम की ‘मुंबई सागा’ सिनेमाघरों में रिलीज होगी
3 ‘पठान’ को ‘पृथ्वीराज’ ने पीछे धकेला
ये पढ़ा क्या?
X