केंद्र में कोई सरकार नहीं, देश चला रहे हैं व्यापारी- बोले राकेश टिकैत; ऐसे सवालों का करना पड़ा सामना

राकेश टिकैत ने कहा है कि देश में सरकार नहीं बची बल्कि व्यापारी देश को चला रहे हैं। उनके इस ट्वीट पर यूजर उनसे कई तरह के सवाल पूछ रहे हैं और कह रहे हैं कि...

rakesh tikait, farmers protest, rakesh tikait twitterराकेश टिकैत ने कहा है कि देश में कोई सरकार नहीं बची है (Photo-PTI/File)

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत आए दिन अलग- अलग राज्यों में किसान महापंचायतों को संबोधित कर रहे हैं। राकेश टिकैत अपने भाषणों में लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर दिख रहे हैं। सोशल मीडिया के जरिए भी वो बीजेपी की केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं कि सरकार महज कुछ व्यापारिक घरानों के इशारे पर चल रही है। राकेश टिकैत ने हाल ही में इसी तरह का एक ट्वीट किया है जिस पर यूजर्स उनसे सवाल पूछने लगे हैं। राकेश टिकैत ने अपने ट्वीट में कहा कि देश में सरकार नहीं बची है बल्कि व्यापारी देश को चला रहे हैं।

उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में लिखा, ‘इस समय देश में सरकार नहीं बची है। केंद्र में कोई सरकार नहीं। देश को व्यापारी लोग चला रहे हैं और इन व्यापारियों से सभी सरकारी संस्थानों को बेच दिया है।’ उनके इस ट्वीट पर यूजर उनसे कई तरह के सवाल पूछ रहे हैं।

जट्टी नूर नाम की एक यूजर ने लिखा, ‘व्यापारी के बिना विश्व का कौन सा देश चल रहा है? एक नाम ही गिना दें। रोजगार और रोटी व्यापार ही दे सकता है।’ द डीग नाम से एक यूजर लिखते हैं, ‘आप भी तो बिजनेसमैन ही हो। बताओ सबको कि कितना बड़ा बिजनेस है आपका?’ विजय नाम से एक यूजर लिखते हैं, ‘तुम व्यापारी हो, आंदोलन बेच दिया। किसान सड़कों पर हैं और तुम होटल में..।’

 

इसी के साथ ही राकेश टिकैत ने एक और ट्वीट किया है जिस पर लोग उनसे सवाल पूछ रहे हैं। राकेश टिकैत ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘देश में बेरोजगारी और भुखमरी बढ़ती जा रही है। युवाओं के भविष्य को लेकर सरकार के पास किसी तरह की योजना नहीं है।’

 

उनके इस ट्वीट पर दिनेश चावला नाम के यूजर ने लिखा, ‘तुम तो किसानों की लड़ाई लड़ रहे थे न?’ अनिल देव नाम के यूजर ने लिखा, ‘किसान धरने पर बैठे हैं, भुखमरी तो आएगी न।’

 

मनीष कुमार नाम के यूजर ने लिखा, ‘कोई संस्थान नहीं बिका है चचा। अगर वास्तव में कुछ बिका है तो वो है बिचौलियों के धंधे, कमीशन खोरों का कमीशन और किसानों को लुटने वालों के व्यवसाय।’

 

कुछ दिनों पहले राकेश टिकैत ने कहा था कि अगर कृषि कानून वापस नहीं हुए तो वो आत्महत्या कर लेंगे। कुछ यूजर्स उनके बयान का स्क्रीनशॉट शेयर कर उनसे पूछ रहे हैं कि इसका कोई अपडेट है। बहरहाल, राकेश टिकैत किसान अब नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात जाने की तैयारी में हैं। वो वहां 4 और 5 अप्रैल को किसान महापंचायत में हिस्सा लेंगे।

Next Stories
1 जो कुर्सी जनता ने दी वो कोई पार्टी नहीं दे सकती- बोले थे राजेश खन्ना, नहीं मिला था राज्यसभा का टिकट
2 जब फिल्म के सेट पर हो गई थी ऋषि कपूर और नीतू की लड़ाई, एक्ट्रेस ने सुनाया पूरा किस्सा
3 ‘राहुल बाबा आपके लिए नामुमकिन है…’ CAA पर कांग्रेस नेता का वीडियो शेयर कर बॉलीवुड फिल्ममेकर ने ली चुटकी
यह पढ़ा क्या?
X