ताज़ा खबर
 

अनिश्चितता के भंवर में फंसा फिल्म जगत

थोक के भाव फिल्में बना रहे आदित्य चोपड़ा, करण जौहर, साजिद नाडियाडवाला, टी सीरीज जैसे निर्माताओं के अलावा पांच भाषाओं में बनी फिल्मों के सामने प्रदर्शन का संकट खड़ा है। महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस के मामले आने के बाद सिनेमाघर बंद हैं जबकि ढेर सारी फिल्में जुलाई और अगस्त में रिलीज के लिए तैयार हैं। मगर सिनेमाघरों पर पाबंदी ने इन निर्माताओं की चिंता बढ़ा दी है।

सांकेतिक फोटो।

‘राधेश्याम’ पांच भाषाओं में बनी 350 करोड़ लागत की फिल्म है, जो 30 जुलाई को रिलीज होने जा रही है। निर्माता चाहते हैं कि केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक समेत यह देश के हिंदीभाषी प्रदेशों में एक साथ रिलीज हो जाए। कोरोना महामारी के कारण जारी बंद और प्रतिबंधों के चलते निर्माता इस बात को लेकर निश्चिंत नहीं हैं कि सभी जगह पर फिल्म एक साथ प्रदर्शित की जा सकेगी। वजह यह है कि कोरोना के नए प्रारूप ‘डेल्टा प्लस’ के मामले मिलने के बाद अलग-अलग राज्यों ने स्थितियों के मुताबिक बंद और रियायतों की घोषणा कर रखी है। जैसे महाराष्ट्र और केरल ने सिनेमाघरों में फिल्मों के प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगा रखा है। जबकि कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में कुछ रियायतों के चलते फिल्मों का प्रदर्शन हो रहा है।

ऐसी स्थिति के कारण उन निर्माताओं के सामने परेशानी है जोे पांच-पांच भाषाओं (तमिल, तेलुगू, कन्नड़, मलयालम, हिंदी) में अपनी फिल्मों को एक साथ रिलीज करना चाहते हैं। ऐसी ही एक फिल्म है ‘राधेश्याम’ जिसमें ‘बाहुबली’ से मशहूर हुए अभिनेता प्रभास और पूजा हेगड़े की जोड़ी है। 20वीं सदी के यूरोप की पृष्ठभूमि पर बनी यह फिल्म यूवी क्रियेशंस और टी सीरीज ने मिलकर बनाई है।

मगर निर्माता घोषणा के बावजूद इस अनिश्चितता के भंवर में फंसे हैं कि फिल्म 30 जुलाई को सभी जगह ठीक से रिलीज हो जाएगी। ‘बाहुबली’ के बाद लोकप्रिय हुए अभिनेता प्रभास अपनी एक और फिल्म ‘आदिपुरुष’ को लेकर भी इसी तरह से चिंतित है। प्रभास की ‘आदिपुरुष’ 500 करोड़ रुपए लागत से बनी है और यह भी पांच भाषाओं में 11 अगस्त को रिलीज होने वाली है। टी सीरीज के भूषण कुमार समेत पांच निर्माताओं ने मिलकर यह फिल्म बनाई है। मगर यह समस्या सिर्फ प्रभास की नहीं है। आज हर दूसरा लोकप्रिय हीरो इस समस्या का सामना कर रहा है।

इस समस्या का सामना ‘बाहुबली’ के निर्देशक एसएस राजमौलि भी कर रहे हैं। उनकी फिल्म ‘आरआरआर’ पांच भाषाओं में रिलीज होगी। 400 करोड़ लागत की ‘आरआरआर’ 13 अक्तूबर को रिलीज की जानी है। करण जौहर समेत पांच निर्माताओं द्वारा बनाई गई बहुभाषी फिल्म ‘लाइगर’ की रिलीज नौ सितंबर को घोषित तो कर दी है, मगर निर्मातागण यह कहने की स्थिति में नहीं है कि फिल्म तय तारीख को रिलीज हो जाएगी।

महाराष्ट्र में अनिश्चितकाल के लिए बंद सिनेमाघरों के कारण ही ‘शेरनी’ ओटीटी पर रिलीज की गई और ‘हसीन दिलरुबा’ (2 जुलाई, नेटफ्लिक्स), ‘14 फेरे’ (9 जुलाई, जी फाइव), ‘तूफान’ (16 जुलाई, अमेजन वीडियो), ‘हंगामा 2’ (23 जुलाई, डिज्नी हॉटस्टार) ओटीटी पर रिलीज होने जा रही हैं। सिनेमाघर पर प्रतिबंध के चलते ही रमेश तौरानी ने अपनी फिल्म ‘भूत पुलिस’ (10 सितंबर, डिज्नी हॉटस्टार) को ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज करना तय किया है।

महाराष्ट्र सरकार और फिल्म निर्माता दोनों ही नहीं जानते कि कब तक हालात काबू में होंगे। ऐसी स्थिति में परेशानी उन निर्माताओं की है जिन्होंने अपनी फिल्मों के सिनेमाघरों में प्रदर्शन की घोषणा कर रखी है। जुलाई के महीने में अक्षय कुमार की ‘बेल बॉटम’, प्रभास की ‘राधेश्याम’, संजय लीला भंसाली की ‘गंगूबाई कर्नाटकी रिलीज होनी है। क्या अनिश्चितता के भंवर में फंसे इन फिल्मों के निर्माता अपनी फिल्मों को तय समय पर सिनेमाघरों में रिलीज कर पाएंगे?

Next Stories
1 कहानियां आगे आ गईं पीछे रह गए सितारे
2 ऋषि कपूर ने बॉलीवुड में 25 साल बिताने के बाद बना लिया था सिनेमा को अलविदा कहने का मन, इस बात से हो गए थे परेशान
3 ऐसी चीज जो शाहरुख के पास है पर अमिताभ बच्चन के पास नहीं? करण जौहर के सवाल पर किंग खान ने यूं दिया जबरदस्त जवाब
आज का राशिफल
X