ताज़ा खबर
 

कट्टरपंथियों पर खूब बरसे जावेद अख्तर, बोले- फिल्म इंडस्ट्री धर्मनिरपेक्षता का गढ़, इसे गंदा मत करो

मशहूर पटकथा लेखक ने बुधवार को कट्टरपंथियों को भारतीय सिनेमा में सांप्रदायिकता न फैलाने को आगाह करते हुए, सिनेमा जगत को ‘‘धर्मनिरपेक्षता का गढ़’’ करार दिया।

Author मुंबई | Published on: March 28, 2018 5:24 PM
दिग्गज लेखक-गीतकार जावेद अख्तर

दिग्गज लेखक-गीतकार जावेद अख्तर ने कहा है कि भारतीय फिल्मोद्योग धर्मनिरपेक्षता का एक गढ़ है और यहां सांप्रदायिक पूर्वाग्रह या पक्षपात की कोई गुंजाइश नहीं है। जावेद ने बुधवार को ट्वीट किया, “मैं वर्ष 1965 में फिल्म उद्योग से जुड़ा था और मेरी तनख्वाह 50 रुपये महीना थी। मैंने इन 53 सालों में किसी क्षण भी हमारे उद्योग में किसी तरह के जातिवाद, पक्षपात का अनुभव नहीं किया। यह फिल्म उद्योग धर्मनिरपेक्षता का गढ़ है। कट्टरपंथियों, इसे प्रदूषित करने की कोशिश मत करो।”

अख्तर की यह टिप्पणी उस बहस के तेज होने के बीच आई है, जिसमें सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने बॉलीवुड स्टार आमिर खान द्वारा प्रस्तावित ‘महाभारत’ के फिल्मी रूपांतरण में भगवान कृष्ण का किरदार निभाने पर सवाल उठाए हैं।

जब एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने उनके 50 रुपये महीने के वेतन और धर्मनिरपेक्षता की टिप्पणी पर सवाल उठाया तो उन्होंने कहा, “मैं यह बताना चाहता हूं कि जब मैं आर्थिक और सामाजिक रूप से बहुत कमजोर स्थिति में था, तब भी मैंने कम से कम किसी भी सांप्रदायिक आधार पर किसी तरह का भेदभाव महसूस नहीं किया।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 धमकी देकर भी नहीं डिलीट किया टि्वटर अकाउंट, हिना खान को ट्रोल कर रहे सोशल मीडिया यूजर्स
2 माइकल जैक्सन की बेटी ने इस ग्लैमरस मॉडल के साथ कबूले समलैंगिक रिश्ते, भाई बोला- पिता को गर्व होता
3 डायरेक्टर के ‘कट’ बोलने के बाद भी टाइगर श्रॉफ और जैकलीन करते रहे कुछ ऐसा, होना पड़ा बाद में शर्मिंदा