ताज़ा खबर
 

दिलीप कुमारः कामिनी और मधुबाला से मोहब्बत, खुद से आधी उम्र की सायरा बानो से शादी, जानिए- उनकी लव स्टोरी के दिलचस्प किस्से

दिलीप उस दौर के सबसे चर्चित सिने स्टार्स में से एक थे। वह अपनी जिंदादिली और जोश के लिए पूरी इंडस्ट्री में मशहूर थे। हालांकि वह अपनी लव लाइफ के चलते हमेशा से विवादों में रहे।
Author नई दिल्ली | July 2, 2017 12:35 pm
दिलीप अपनी लव लाइफ के चलते हमेशा से विवादों में रहे। अपनी करियर में तकरीबन हर इम्तिहान को पास करने वाले दिलीप प्यार के इम्तिहान में कई बार फेल हुए।

बॉलीवुड की कुछ सबसे अनूठी प्रेम कहानियों में से एक है दिलीप कुमार की प्रेम कहानी। दिलीप उस दौर के सबसे चर्चित सिने स्टार्स में से एक थे। वह अपनी जिंदादिली और जोश के लिए पूरी इंडस्ट्री में मशहूर थे। हालांकि वह अपनी लव लाइफ के चलते हमेशा से विवादों में रहे। अपनी करियर में तकरीबन हर इम्तिहान को पास करने वाले दिलीप प्यार के इम्तिहान में कई बार फेल हुए। तो चलिए आपको बताते हैं उनकी प्रेम कहानियों और कुछ मजेदार किस्सों के बारे में। दिलीप की पहली मोहब्बत की बात करें तो उनकी जिंदगी में पहला प्यार बनकर आईं एक्ट्रेस कामिनी कौशल। दिलीप और कामिनी की पहली मुलाकात फिल्म ‘शहीद’ के सेट पर हुई।

दिलीप और कामिनी दोनों शादी करना चाहते थे लेकिन समस्या यह थी कि कामिनी पहले से ही शादीशुदा थीं। कामिनी ने उनकी बहन की मौत के बाद उनके पति से ही शादी कर ली थी। कामिनी और दिलीप के रिश्ते के बारे में जब उनके परिवार वालों को पता चला तो कामिनी के भाई दिलीप को धमकाने पहुंच गए। उनके भाई ने दिलीप को कामिनी से दूर रहने की चेतावनी भी दी और तकरीबन तीन साल तक किसी तरह चलने के बाद आखिरकार यह रिश्ता खत्म हो गया। इसके बाद दिलीप की नई कहानी शुरू हुई मधुबाला से। दिलीप की मुलाकात 1951 में ‘तराना’ की शूटिंग के दौरान मधुबाला से हुई। इस नई कहानी में मोहब्बत का इजहार मधुबाला की तरफ से हुआ। मधुबाला ने अपनी मोहब्बत का इजहार भी अलग अंदाज में किया उन्होंने गुलाब के फूल के साथ एक चिट्ठी दिलीप को भिजवाई। इस चिठ्ठी पर उन्होंने लिखा- अगर आप मुझसे प्यार करते हैं तो यह गुलाब का फूल कबूल करें। दिलीप ने वह फूल कबूल कर लिया।

दिलीप कई बार मधुबाला से मिलने शूटिंग सेट पर पहुंच जाया करते थे। दोनों की मोहब्बत के दुश्मन बने मधुबाला के पिता अताउल्ला खां। मधुबाला के पिता इस रिश्ते के सख्त खिलाफ थे। अताउल्ला दिलीप को मधुबाला से दूर रखने के लिए उन पर नजरें रखने लगे। खबरें तो यहां तक हैं कि दिलीप और मधुबाला की बात सगाई तक पहुंच गई थीं लेकिन शादी से पहले दिलीप ने मधुबाला के सामने यह शर्त रख दी कि मधुबाला शादी के बाद फिल्मों में काम नहीं करेंगी और ना ही अपने पिता से कोई रिश्ता रखेंगी। मधुबाला अपने पिता से बेहद प्यार करती थीं। उन्हें दिलीप की यह शर्त बिलकुल पसंद नहीं आई और दोनों के बीच रिश्तों में कड़वाहट आनी शुरू हो गई। कुछ दिन तक लम्बी सांसें लेने के बाद आखिरकार इस रिश्ते ने भी दम तोड़ दिया।

इस रिश्ते के खत्म होने के बाद लंबे वक्त तक कोई लड़की दिलीप की जिंदगी में नहीं आई और फिर 1960 में दिलीप की मुलाकात सायरा बानो से हुई। सायरा दिलीप से 20 साल छोटी थीं। सायरा ने एक इंटरव्यू में यह भी कहा था कि जब वो 12 साल की थीं तब से उनकी ख्वाहिश थी कि उनकी शादी दिलीप से हो जाए। हालांकि दो बार प्यार में नाकामयाब रहे दिलीप सायरा में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहे थे। उम्र के फर्क के चलते भी दिलीप इस रिश्ते से कतरा रहे थे लेकिन वह इस बात से अच्छी तरह वाकिफ थे कि सायरा उनसे बेइंतेहा मोहब्बत करती हैं। 1966 में दोनों ने किसी को बिना बताए शादी कर ली। जब दोनों की शादी हुई तब दिलीप 44 के और सायरा 22 की थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.