आपका धर्म अलग होता तो क्या लोगों का और प्यार मिलता? देखें इस सवाल पर दिलीप कुमार ने दिया था कैसा जवाब

दिलीप कुमार से इंटरव्यू के दौरान सवाल किया गया कि अगर आपका धर्म अलग होता तो क्या आपको लोगों का और प्यार मिलता? इस सवाल का एक्टर ने जबरदस्त अंदाज में जवाब दिया था।

dilip kumar, bollywood legend dilip kumar, entertainment news
दिलीप कुमार को ट्रेजेडी किंग कहा जाता है

बॉलीवुड एक्टर दिलीप कुमार का 98 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। उन्होंने बुधवार की सुबह 7:30 बजे दुनिया को अलविदा कह दिया। दिलीप कुमार बीते कई दिनों से मुंबई के हिंदूजा अस्पताल में भर्ती थे, उन्हें सांस लेने में काफी परेशानी हो रही थी। उनके निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी से लेकर तमाम बॉलीवुड सितारों ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी है। दिलीप कुमार ने साल 1944 में फिल्म ‘ज्वार भाटा’ के जरिए बॉलीवुड में डेब्यू किया था। उनकी फिल्मों को न केवल हिंदुस्तान बल्कि पाकिस्तान व अन्य देशों में भी खूब पसंद किया जाता था। एक इंटरव्यू के दौरान दिलीप कुमार से सवाल किया गया कि अगर आपका धर्म अलग होता तो क्या आपको लोगों का और प्यार मिलता?

इंटरव्यू में दिलीप कुमार ने इस सवाल का बड़े ही जबरदस्त अंदाज में जवाब दिया था। इंटरव्यू के दौरान दिलीप कुमार से पूछा गया कि अगर आपका धर्म जो है वो नहीं होता तो आप मानते हैं कि आपको को देश की आवाम से जो प्यार मिलता है, उसमें कोई फर्क होता? इसके जवाब में दिलीप कुमार ने कहा ‘नहीं।’

दिलीप कुमार ने सवाल के जवाब में आगे कहा, “हरगिज फर्क नहीं होता। आम लोगों को मालूम है कि मैंने कितनी फिल्में की हैं और उतनी फिल्मों में उतनी ही तो आमदनी हुई होगी। रुपया कभी मेरा उद्देश्य था ही नहीं। लोगों से मुझे जो प्यार मिलता है वही मेरी सबसे बड़ी संपत्ति है।”

दिलीप कुमार ने इस सवाल के जवाब में आगे कहा, “मैं कर्जदार हो जाता हूं कई बार, तो कर्जा किसी न किसी तरह उतारना चाहिए, शायद ऐसे ही थोड़ा बहुत कुछ कर सकता हूं। कम से कम उस प्यार और भावना का जिक्र करूं जो मुझे लोगों से इतनी ज्यादा मिलता है कि मैं अंदर से हिल जाता हूं।”

दिलीप कुमार ने इंटरव्यू में आगे कहा कि मैंने जो भी कहा वह अपने दिल से कहा। इसमें कोई भी सियासत नहीं थी, बस एक अंदरूनी बात थी जो मैं आपके चैनल के जरिए कह रहा हूं। बता दें कि दिलीप कुमार का असली नाम युसुफ खान था, लेकिन उन्होंने बॉलीवुड में कदम दिलीप कुमार के नाम से रखा था।

दिलीप कुमार ने अपनी आत्मकथा में बताया था कि वह इस नए नाम के साथ फिल्मों में पहचान बनाने के लिए तैयार नहीं थे। लेकिन उन्हें लॉन्च करने वाली देविका रानी ने कहा कि काफी सोच विचारकर मैं इस नतीजे पर पहुंची हूं कि तुम्हारा स्क्रीन नेम होना चाहिए। देविका रानी की बातों को लेकर दिलीप कुमार ने भी कहा कि इस नाम से सेक्युलर अपील भी होगी, ऐसे में स्क्रीन नेम अच्छा होगा।

अपडेट