काम मैं करता, नाम का पत्थर कोई और लगा जाता- राजनीति में आने के बाद पछताते थे धर्मेंद्र, इंटरव्यू में बयां किया था दर्द

धर्मेंद्र ने अपने इंटरव्यू में बताया था कि राजनीति में आने के बाद उन्हें काफी पछतावा हुआ था। इसके साथ ही एक्टर ने कहा था कि काम मैं करता था, क्रेडिट कोई और ले जाता था।

dharmendra, dharmendra on politics
बॉलीवुड एक्टर धर्मेंद्र (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर धर्मेंद्र ने अपनी फिल्मों से हिंदी सिनेमा में जबरदस्त पहचान बनाई। धर्मेंद्र ने फिल्म ‘दिल भी तेरा हम भी तेरे’ से बॉलीवुड में कदम रखा था और इसके बाद वह कई हिट फिल्मों में नजर आए थे। एक्टिंग के साथ-साथ उन्होंने राजनीति में भी हाथ आजमाया था, हालांकि वह इसमें सफल नहीं हो पाए थे। वहीं जब ‘आपकी अदालत’ में उनसे सवाल किया गया कि वह सियासत में फिट क्यों नहीं हो पाए? तो उन्होंने जवाब दिया कि मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं इस दुनिया में कदम रखुंगा। धर्मेंद्र ने बताया था कि चुनाव लड़ने की हामी भरने के बाद मैंने बाथरूम में जाकर शीशे में सिर मारा था और बहुत पछताया था।

धर्मेंद्र ने इस बारे में बात करते हुए कहा था, “ये जज्बाती लोगों का काम नहीं है, यहां लोगों को मोटी चमड़ी का होना पड़ता है, क्योंकि ये लोग कुछ भी कर गुजरते हैं। वो पांच साल मेरी जिंदगी की सबसे मुश्किल घड़ियां थीं। उन पांच सालों में मैंने बीकानेर के लिए जो कुछ भी किया है, वह मैं ही जानता हूं।”

बता दें कि धर्मेंद्र ने भारतीय जनता पार्टी की ओर से साल 2004 में बीकानेर की सीट से चुनाव लड़ा था और जीत भी हासिल की थी। धर्मेंद्र ने अपने राजनीतिक सफर के बारे में बात करते हुए आगे कहा था, “कोई अभी भी जाए और जायजा लेकर आए तो उसे पता चलेगा कि क्या-क्या काम हुए हैं। इसके बाद भी मुझे कभी भी क्रेडिट नहीं मिला।”

धर्मेंद्र ने अपने बयान में आगे कहा, “काम मैं करता था, अपने नाम का पत्थर वहां कोई और लगा जाता था। मैंने भी सोचा था कि लगा लें पत्थर, धूल पड़ेगी अपने आप ही खराब हो जाएगा। लेकिन कुछ चीजें ऐसी थीं, जिसे मुद्दा बनाकर लोग जीतते आ रहे थे।” धर्मेंद्र ने राजनीति में आने पर पछतावा जताया था और कहा, “जिस वक्त मैं हां कर बैठा था, उस वक्त मैंने बाथरूम में जाकर शीशे में अपना सिर मारा।”

बता दें कि अपने एक इंटरव्यू में धर्मेंद्र ने कहा था कि कलाकारों को राजनीति में नहीं आना चाहिए। उन्होंने कहा था, “मैं यह नहीं कहुंगा कि राजनीति में आना गलती है, लेकिन हां एक्टर को राजनीति में नहीं आना चाहिए, क्योंकि यह फैंस को बांट देती है। एक अभिनेता को हमेशा अभिनेता ही रहना चाहिए।”