ताज़ा खबर
 

‘हर साल सूट सिलाता, मैचिंग टाई ढूंढता था..’ अवॉर्ड की आस में रहते थे धर्मेंद्र, स्टेज पर चढ़ गिनाने लगे काम तो दिलीप कुमार ने गाल पर दी थी किस

37 सालों तक धर्मेंद्र को ब्लैक लेडी का इंतजार करना पड़ा फिर जाकर Film Fare अवॉर्ड उनके हाथ लगा। फिर जब पहली बार धर्मेंद्र के हाथ में फिल्मफेयर अवॉर्ड आया तो वह बेहद इमोशनल हो गए और फिर उन्होंने अपनी विनिंग स्पीच दी।

Dharmendra, Dharmendra Emotional Sad Story, Hard Struggle, FilmFare Award,धर्मेंद्र और दिलीप कुमार (फोटोसोर्स-इंडियन एक्सप्रेस)

80 के दशक के सुपरस्टार धर्मेंद्र की पर्सनालिटी का आज भी कोई जवाब नहीं। उस दौर के सबसे हैंडसम आदमियों में गिने जाने वाले धर्मेंद्र को देख कर तो हेमा मालिनी भी उनकी मुरीद हो गई थीं। धर्मेंद्र ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक हिट फिल्में दीं। बेहतरीन फिल्मों में काम करने के बाद भी उन्हें लंबे वक्त तक ‘ब्लैक लेडी’ नहीं मिली थी। जी हां, 37 सालों तक धर्मेंद्र को ब्लैक लेडी का इंतजार करना पड़ा, फिर जाकर Film Fare अवॉर्ड उनके हाथ लगा। जब पहली बार धर्मेंद्र के हाथ में फिल्मफेयर अवॉर्ड आया तो वह बेहद इमोशनल हो गए और फिर उन्होंने अपनी विनिंग स्पीच दी।

धर्मेंद्र को 37 साल बाद मिला Filmfare: धर्मेंद्र को ये फिल्म फेयर अवॉर्ड और किसी ने नहीं बल्कि उनके सबसे चहीते स्टार दिलीप कुमार ने ही दिया था। दिलीप उनके साथ स्टेज पर तब तक खड़े रहे थे जब तक कि उनकी स्पीच खत्म नहीं हो गई। धर्मेंद्र ने अपनी स्पीच में कहा था- ‘तो हुआ ये कि मैं एक्टर बनना चाहता था। जैसे कि हर नौजवान बनना चाहता है। मैंने इस बीच किसी को जाहिर नहीं किया कि मैं एक्टर बनना चाहता हूं क्योंकि लोग मजाक उड़ाते थे। तो मैंने अपने परिवार और खास लोगों को ही बताया था कि मैं बंबई जा रहा हूं हीरो बनने।’

काबू नहीं कर पाए थे जज्बात, इमोशनल होकर दी स्पीच: धर्मेद्र ने आगे बताया कि फिल्मफेयर उनकी जिंदगी में बहुत मायने रखता है क्योंकि इसकी वजह से ही उन्हें इंडस्ट्री में आने का मौका मिला। एक इश्तेहार था जिसे जिसमें कहा गया था कि एक्टर की जरूरत है। इसके बाद धर्मेंद्र ने यहां अप्लाई किया था और वह सेलेक्ट हो गए। धर्मेंद्र ने इस दौरान ये भी बताया था कि 37 साल लग गए उन्हें फिल्मफेयर मिलने में। ‘मैं हर साल सूट सिलाता था, मैचिंग टाई पहनता था, कि शायद मुझे ये अवॉर्ड इस साल मिल जाए। लेकिन नहीं मिला।’

एक से एक हिट फिल्मों के बाद भी खाली रहे धर्मेंद्र के हाथ!  धर्मेंद्र ने बताया था- मैंने 60s में सत्यकाम फिल्म की, अनुपमा की , पूल और पत्थर की। बहुत सी फिल्में कीं। गोल्डन जुबली हुई जुबली हुई लेकिन मुझे अवॉर्ड नहीं मिला। उसके बाद मैंने सूट सिलवाने बंद कर दिए। मैंने सोचा टी-शर्ट पहन लूं बुलालेंगे तो ठीक है ऐसे ही जाऊंगा। नहीं तो कच्छे के साथ चला जाऊंगा। फिर भी मुझे अवॉर्ड नहीं मिला। आज 37 सालों के बाद मुझे मिला है ये अवॉर्ड। इस ट्रॉफी में ही आज मुझे अपने पिछले सालों की 15 ट्रॉफियां दिख रही हैं। जो मुझे मिलनी चाहिए थीं, जो नहीं मिलीं। ..और आने वाले 15 साल भी मैं छोड़ूंगा नहीं , नहीं मिलेगी तो फिर इसी ट्रॉफी को देख लूंगा इसमें ही मुझे मिल रही हैं।’

जब धर्मेंद्र को स्टेज पर दिलीप कुमार ने गाल पर किया किस: धर्मेंद्र की इन बातों को सुन कर दिलीप कुमार भी  इमोशनल हो गए थे। वापसी में धर्मेंद्र ने सबके सामने जब दिलीप कुमार को बड़ा भाई कह कर उनके पैर छुए तो दिलीप कुमार ने उन्हें गले लगाते हुए गाल पर किस कर दिया। धर्मेंद्र ने इस बीच कहा था कि हम एक ही मां की कोख से क्यों पैदा नहीं हुए होंगे।

बताते चलें, दिलीप कुमार धर्मेंद्र के फेवरेट एक्टर हैं। वह अपनी जवानी के दिनों से उनकी अदाकारी के फैन हैं। धर्मेंद्र ने बताया था कि उन्हें एक्टिंग का कीड़ा भी दिलीप कुमार को देख कर ही चढ़ा था। उनकी फिल्में देखने के बाद ही धर्मेंद्र को अहसास हुआ कि वह भी कलाकार बनना चाहते हैं और दिलीप कुमार से मिलना चाहते हैं।

Next Stories
1 मुनव्‍वर फारूकी केस: द‍िहाड़ी मजदूर बनने को मजबूर हुए कॉमेड‍ियन नल‍िन यादव, बेल के बाद सबने ल‍िया मुंंह फेर
2 जूनियर कलाकारों की तरफ तो ताकते भी नहीं थे- राजेश खन्ना के को-एक्टर ने यूं किया था याद; अपनी ही फिल्में नहीं देखते थे ‘काका’
3 ऐसे शुरू हुई थी ऋषि कपूर और नीतू कपूर के प्यार की दास्तां, बताते हुए छलक गए रणबीर कपूर की मॉम के आंसू
ये पढ़ा क्या?
X