ताज़ा खबर
 

जब 200 किलो के किंग कॉन्ग पर भारी पड़े थे दारा सिंह, देखें ऐतिहासिक मुकाबले का वीडियो

दर्शकों के लिए इन पहलवानों को लड़ते देखना तीन अजेय पुरुषों की कुश्ती देखने जैसा था।

Author नई दिल्ली | July 12, 2018 7:57 PM
दारा सिंह ढेरों रोटियां खाया करते थे और उधर किंग कॉन्ग कई दर्जन चिकन खत्म कर देता था।

पहलवान से अभिनेता बने दारा सिंह को 200 किलो के ऑस्ट्रेलियन किंग कॉन्ग के साथ कुश्ती में मात देने के लिए हमेशा याद किया जाएगा। 19 नवंबर 1928 को अमृतसर में जन्मे दारा सिंह ने ना सिर्फ पहलवानी बल्कि अभिनय की दुनिया में भी अपनी गहरी छाप छोड़ी। अपने प्रतिद्वंदी की तुलना में तकरीबन आधे वजन वाले दारा सिंह ने किंग कॉन्ग को दोनों हाथों से उठा कर हवा में लहरा दिया। इससे वह इतना घबरा गया कि रेफरी से मदद के लिए चिल्लाने लगा। जब रेफरी दारा सिंह को रोकने के लिए आगे आया तो दारा सिंह ने कॉन्ग को हवा में घुमा कर रिंग के बाहर फेंक दिया। वह पब्लिक से महज कुछ ही दूरी पर गिरा। उस दिन उनके इस मुकाबले के बाद उनकी फैन्स लिस्ट में लोगों की संख्या और ज्यादा बढ़ गई। कॉन्ग और दारा सिंह के अलावा फ्लैश गॉर्डन तीसरा ऐसा पहलवान था जिसने रिंग में राज किया।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA1 Dual 32 GB (White)
    ₹ 17895 MRP ₹ 20990 -15%
    ₹1790 Cashback
  • Honor 9I 64GB Blue
    ₹ 14784 MRP ₹ 19990 -26%
    ₹2000 Cashback

उस वक्त मीडिया के एक तबके से ऐसा माहौल बना दिया था कि इन तीनों पहलवानों को हरा पाना असंभव है। यही वजह थी कि इन तीनों को मुकाबला करते देखने के लिए बेहिसाब भीड़ जुटी। दर्शकों के लिए इन पहलवानों को लड़ते देखना तीन अजेय पुरुषों की कुश्ती देखने जैसा था। जहां तक डाइट की बात है तो दारा सिंह ढेरों रोटियां खाया करते थे और उधर किंग कॉन्ग कई दर्जन चिकन खत्म कर देता था। दारा सिंह ने तकरीबन 500 प्रोफेश्नल फाइट्स कीं और वह इन सभी फाइट्स में जीते। उन्होंने ‘रुस्तम-ए-पंजाब’ और ‘रुस्तम-ए-हिंद’ जैसे खिताब अपने नाम किए और पहलवानी के क्षेत्र में भारत ही नहीं दुनिया भर में अपना नाम किया।

पहलवानी के क्षेत्र में बेहिसाब नाम कमाने के बाद दारा छोटे और बड़े पर्दे पर भी नजर आए। उन्होंने रामानंद सागर की रामायण में हनुमान का रोल किया था जिसके लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। साथ ही बड़े पर्दे की बात करें तो फौलाद और कॉन्ग जैसी फिल्मों में उनका काम काबिल-ए-तारीफ रहा। वह 12 जुलाई 2012 को हमें छोड़ कर चले गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App