ताज़ा खबर
 

कोरोना: नितिन गडकरी ने मानी थी ऑक्सीजन की कमी से मौत की बात, मंत्री ने सदन में किया इनकार, निशाने पर मोदी सरकार

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का एक पुराना वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में नितिन गडकरी कहते दिखाई दे रहे हैं, 'कोविड के इस समय में हमारे देश में अनेक लोगों को 'ऑक्सीजन की कमी' के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी।'

कोरोना संकट के दौरान अस्पताल के बाहर ऑक्सीजन सिंलेडर के साथ इंतजार करता एक मरीज (फाइल फोटो-ताशी तोबग्याल)

मोदी सरकार ने राज्यसभा में बताया है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से किसी मौत की जानकारी राज्यों द्वारा नहीं दी गई है। सरकार के इस जवाब पर सियासी घमासान मच गया है। दरअसल, कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देशभर के तमाम इलाकों से ऑक्सीजन की कमी की और इसके चलते मौत की खबरें सामने आईं थीं। कोरोना और ऑक्सीजन पर सरकार के बयान को लेकर सोशल मीडिया पर भी लोग अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।

इसी बीच केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का एक पुराना वीडियो भी शेयर किया जा रहा है।इस वीडियो में नितिन गडकरी कहते दिखाई दे रहे हैं, ‘कोविड के इस समय में हमारे देश में अनेक लोगों को ‘ऑक्सीजन की कमी’ के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी।’

पूर्व आईएएस ने घेरा: ऑक्सीजन पर सरकार के बयान को लेकर पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने भी तीखी टिप्पणी की है।सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट किया, ‘मोदी जी के अनुसार, यूपी में न ऑक्सीजन की कमी थी और योगी जी ने मैनेज भी बहुत अच्छा किया था। तो क्या यूपी के लोगों को मरने का शौक था, अतः मर गए? याद है, प्रयागराज हाई कोर्ट ने कहा था कि यूपी में ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की मौत एक क्राइम है, नरसंहार से कम नहीं। आप सच्चे बाकी सब झूठे।’

राज्य सरकारों ने छिपाए मौत के आंकड़े? वहीं, वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने नितिन गडकरी का वीडियो साझा करते हुए लिखा, ‘नरेंद्र मोदी जी, आपके ही मंत्री गडकरी मान रहे हैं कि ऑक्सीजन की कमी से लोगों को जान गंवानी पड़ी। फिर आपकी सरकार ने संसद में इतना बड़ा झूठ क्यों बोला?’ इसके अलावा उन्होंने ये भी माना कि राज्य सरकारों ने मौत के आंकड़े छिपाए हैं। अजीत अंजुम लिखते हैं, ‘ये सच है कि सभी राज्य सरकारों ने मौतों के आंकड़ों पर मिट्टी डाल दी।’

भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी.वी ने ट्वीट किया, ‘ऑक्सीजन की ‘कमी’ से कोई नही मरा, तो लाखों ने खुद अपना गला घोंट लिया?’ वरिष्ठ पत्रकार मृणाल पांडे ने श्रीनिवास बी.वी के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘शायद इस बात को सुनते हुए शर्म से मर गये हों?’

आपको बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान 27 अप्रैल को नागपुर में एक कोविड सेंटर का उद्घाटन करने पहुंचे नितिन गडकरी ने कहा था, ‘जनता समझे कि हम मुश्किल स्थिति में काम कर रहे हैं, अभी ऑक्सीजन-दवाई-स्टाफ की भारी कमी है। ऐसे में थोड़ी कमी आ सकती है, लेकिन लोगों की जान बचाना जरूरी है और हम ये व्यवस्था कर रहे हैं।’

अब  केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने कहा है, ‘कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी भी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश से ऑक्सीजन के अभाव में किसी भी मरीज की मौत की खबर नहीं मिली है।

Next Stories
1 पेगासस कांड: यशवंत सिन्हा बोले- बैलट पेपर से हों चुनाव तो बिफरे फिल्ममेकर, कहा- सठियाने के बाद इंसान ऐसी ही बातें करता है
2 क्या पेगासस-पेगासस लगा रखा है, असली पेगासस तो कांग्रेस पार्टी है- बोले संबित पात्रा तो भड़क गईं कांग्रेस प्रवक्ता; हुई तीखी बहस
3 मोदी सरकार पर बिफरे राहुल गांधी, बताया सत्य और संवेदनशीलता की कमी तो फिल्ममेकर पूछने लगे मतलब
ये पढ़ा क्या?
X