चीन से कितने पैसे मिलते हैं? केजरीवाल सरकार ने बताई कोयले की कमी तो पुराना बयान याद दिला भड़के फिल्ममेकर

अशोक पंडित ने एक ट्वीट कर केजरीवाल सरकार पर भड़ास निकाली और आप पार्टी का पुराना ट्वीट निकाल सवाल पूछना शुरू कर दिया।

Arvind Kejriwal, Aam Aadmi Party, AAP
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस आरकाइव फोटो)

देश में कोयले की कमी होने के कारण कई राज्यों ने इसके चलते बिजली संकट गहराने की आशंका जताई है। दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने भी कहा है कि राज्य में कोयले की भारी कमी हो रही है। ऐसे में आम आदमी पार्टी की तरफ से जारी किए गए बयान पर फिल्ममेकर अशोक पंडित ने रिएक्ट किया।

अशोक पंडित ने एक ट्वीट कर केजरीवाल सरकार पर भड़ास निकाली और आप पार्टी का पुराना ट्वीट निकाल सवाल पूछना शुरू कर दिया। अशोक पंडित ने कहा – ‘झूठ तब बोल रहे थे, या अब बोल रहे हो? चीन से कितने पैसे मिलते हैं देश में हाहाकार मचाने के लिए?’ अशोक पंडित ने आप पार्टी द्वारा किए गए एक ट्वीट को भी शेयर किया। 13 अक्टूबर 2019 को अपने ट्वीट में आम आदमी पार्टी ने लिखा था- ‘हमने दिल्ली में कोयले के इस्तेमाल पर पूरी तरह से बैन लगा दिया है। दिल्ली पहली ऐसी मॉड्यूलर स्टेट है जहां कोल बेस्ट पावर प्लांट नहीं है।’

माना जा रहा है कि देश में कोयले की कमी के चलते इसका कई राज्यों में प्रभाव पड़ सकता है। इस वजह से आने वाले दिनों में दिल्ली में भी बिजली का संकट खड़ा हो सकता है। ‘कोयला संकट’ स्थिति से दिल्ली को बचाने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है।

शनिवार को अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट भी किया था जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘दिल्ली वाले जल्द ही भीषण बिजली संकट से जूझ सकते हैं।’ केजरीवाल ने आगे कहा था कि स्थिति पर वे निगरानी बनाए हुए हैं और हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। इसलिए उन्होंने प्रधानमंत्री से भी मामले में दखल देने की अपील की है।

अशोक पंडित के इस पोस्ट को देख कर ढेरों लोगों के रिएक्शन भी सामने आने लगे। लॉजिकल रजनीकांत नाम के एक यूजर ने कहा- ‘सर, सच की उम्मीद तो आप से कर नहीं सकते फिर भी दिल्ली में कोल बेस्ड प्लांट नही हैं, जो दिल्ली की ज्यादातर पावर डिमांड पूरी करता हो। दिल्ली की पावर डिमांड की सप्लाई पड़ोसी राज्यों के थर्मल प्लांट से होती है जहां कोल का संकट है।’

जीतेंद्र नाम के यूजर ने कहा- बेशर्म हैं ये,अपनी ही बात से पलट जाते हैं। आशीष कुमार नाम के यूजर ने कहा- ‘इन पार्टियों का काम पब्लिक को टेंशन फ्री रखने के बजाए, डर में रखने का है। कभी ऑक्सिजन, कभी बेड, कभी पानी, कभी वैक्सीन और अब कोयला। एक काम भी ठीक से कर नहीं पाते। यदि सब काम मोदी जी को ही करने हैं तो फिर राज्य सरकारों का क्या काम है, झुनझुना बजाना?’

गोविंद सिंह नाम के शख्स ने कहा- ‘ये अलग तरह की राजनीति करने आए हैं, इसलिए कुछ नया-नया करने की चाहत रखते है?’ तो एक यूजर ने पूछा क्या यही सवाल आप अमित शाह और मोदी जी से पूछ सकते हैं?

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट