scorecardresearch

भाईचारे की अपील करना तो मुश्किल काम नहीं है ना सर?- फिल्ममेकर ने किया ट्वीट तो लोग बोले-दुकान बंद करवाओगे क्या?

उदयपुर में हुई हिंसा के बाद अशोक गहलोत ने कहा कि मेरा मानना है कि पीएम को पूरे देश को संबोधित करना चाहिए कि हम किसी कीमत पर हिंसा को बर्दाश्त नहीं करेंगे।

Narendra Modi, Amit Shah
पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह (फोटो सोर्स: PTI/फाइल)।

राजस्थान के उदयपुर में हुई कन्हैया लाल की हत्या के बाद इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है। इसी बीच सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि पीएम लोगों से शांति के लिए बोलते हैं तो ज्यादा फर्क पड़ता है। मेरा मानना है कि पीएम को पूरे देश को संबोधित करना चाहिए। इस पर फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने भी ट्वीट किया है।

घटना के बाद राजस्थान सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट किया कि “अगर हम लोग कुछ बोलते हैं, अपील करते हैं तो फर्क पड़ता है, पीएम बोलते हैं तब ज्यादा फर्क पड़ता है। मेरा मानना है कि पीएम को पूरे देश को संबोधित करना चाहिए, अपील करनी चाहिए कि हम किसी कीमत पर हिंसा को बर्दाश्त नहीं करेंगे और प्रेम-भाईचारे से रहो सब आपस में, ये कहने में क्या हर्ज है।”

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने लिखा कि प्रेम , शांति , भाईचारे की अपील करना तो मुश्किल काम नहीं है ना सर नरेंद्र मोदी?” इस पर लोग अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। राधेश्वर शर्मा ने लिखा कि ‘रोज “सबका साथ , सबका विकास ,सबका विश्वास ” कहने वाले के वक्तव्य में आपको भाई चारा और शांति नहीं दिखती?’

सचिन नाम के यूजर ने लिखा कि ‘लॉ एंड आर्डर स्टेट का काम है, हर बात में मोदी को बीच में लाना जरूरी है?’ आशीष यादव ने लिखा कि ‘शांति और भाईचारे की अपील कर देंगे तो वोट कैसे मिलेगा?’ समीर नाम के यूजर ने लिखा कि ‘ये बड़ा मुश्किल काम है। इससे सत्ता पर खतरा पैदा हो जाएगा।’

आशीष शर्मा नाम के युजर एन लिखा कि ‘अब्बास भाई का नाम लेकर कापड़ी जी उन्होंने और क्या संदेश दिया था? कितना भी करलो ये नहीं समझेंगे।’ मोनू कुमार ने लिखा कि ‘अगर पीएम को ही आगे आना है तो अशोक गहलोत को इस्तीफ़ा दे देना चाहिए।’ शाजी रहमानी ने लिखा कि ‘अरे क्या बात कर रहे हो भाई, दुकान बंद करवाओगे क्या?’

बता दें कि सीएम अशोक गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि मैं बार-बार बोलता हूं मोदीजी को, अमित शाह जी को कि आप क्यों नहीं पूरे देश को एड्रेस करें कि जो हालात बन गए हैं कुछ कारणों से, गली-मोहल्लों में लोग ये समझ नहीं पा रहे हैं, कस्बों में जहां जिसकी आबादी कम संख्या में है, चाहे कोई भी है वो ज्यादा चिंतित है, इतना आपस में तनाव हो गया है।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X